अन्तर्राष्ट्रीय विद्यापति महोत्सव २०१८ जोगबनीक आयोजन विभिन्न कार्यक्रम सँ

अन्तर्राष्ट्रीय विद्यापति महोत्सव जोगबनी मे जुटलाह दसो हजार दर्शक

मैथिली भाषाक मिठास मे सराबोर जोगबनी-विराटनगर केर विशाल जनमानस

– माला मिश्रा, जोगबनी।

विश्व भरि मे बहुत कम प्राचीन भाषा अछि जेकर अपन समृद्ध इतिहास आइयो ओतबे गतिशीलता सँ चलि रहल अछि, ताहि मे एक गोट भाषाक नाम अछि ‘मैथिली’। सर्वधर्म – सर्वजाति – सर्वसमुदाय जे जनक-जानकीक मिथिलाक्षेत्र मे जन्म पेलक ओ सभ एहि मृदु-मधुर भाषा मैथिली बजैत अछि। एहि भाषाक एक महान कवि भेलाह विद्यापति जे अपना समय मे संस्कृत मे लेखनीक प्रचलन केँ चुनौती दय लोकभाषा मे लिखबाक ओकालति कएलनि, हुनकर ओ उक्ति ‘देसिल वयना सब जन मिट्ठा – तैँ तैसओं जंपओं अवहट्ठा’ केर रूप मे जीबि रहल अछि। कहल जाइत छैक जे १९म शताब्दी धरि विद्यापति, ज्योतिरिश्वर आदि किछुए कवि लोकनिक नामक चर्चा सभ्य-साहित्यिक समाज मे चलैत रहल, जनमानस द्वारा विद्यापतिक रचना केँ मिथिलाक रीत-रेबाज-परम्परा मे गायन होइत रहल, जनश्रुति मे जीबित एहि महाकविक महत्व मैथिलीभाषा २०म शताब्दीक आरम्भ मे तखन बुझलनि जखन स्वयं मिथिलाक सभ्य-सम्भ्रान्त-विद्वत समाज द्वारा अपनहि मातृभाषाक महत्व कमजोर करबाक आरोप लागल, ताहि समय सँ आइ धरि महाकवि विद्यापति ओ महान मैथिली भाषा-साहित्यक महत्वक परिचायक क्रान्तिकारी जनकविक रूप मे सोझाँ अबैत छथि आर आजुक समय जखन मिथिलावासी रोजी-रोजगार लेल अपन मूल मिथिलाक डीह सँ लगभग उपैट‍-उजैड़ गेल अछि, ताहि समय हिनकर नाम सँ देश-विदेशक अन्य-अन्य भाग मे सेहो एकत्रित होइत छथि। यैह महाकविक स्मृति दिवस लेल विराटनगर, जोगबनी सेहो अपन नाम विश्वपटल पर उजागर करैत अछि। वरुण मिश्र – स्थानीय संचारकर्मी, हिन्दुस्तान दैनिक समाचार पत्र केर पत्रकार केर अगुवाई मे विराटनगर आ जोगबनी दुनू ठाम महाकवि केर स्मृति दिवस किछु विशेष अन्दाज मे मनेबाक सिलसिला चैल पड़ैत अछि जाहि मे दुइ राष्ट्रक हस्ती सब एकजूट होइत अपन भाषा, भेष आ सभ्यताक रक्षार्थ नव ऊर्जा सँ हुंकार भरैत छथि। एहि वर्ष लगातार दोसर बेर नेपाल-भारत केर सीमा पर अवस्थित जोगबनी जे बिहार अन्तर्गत अररिया जिला मे पड़ैत अछि ताहि ठाम भव्य आयोजन भेल। दसों हजार जनमानसक सहभागिता आ दर्जनों प्रस्तुतिक संग महाभोज सँ समापन एहि आयोजनक विशेषता छल।

अन्तर्राष्ट्रीय विद्यापति  महोत्सव २०१८ केर उद्घाटन बतौर मुख्य अतिथि बिहार सरकार मे पीएचईडी मंत्री विनोद नारायण झा एवं नेपाल केर पूर्व मंत्री सम्प्रति सांसद शिवकुमार मंडल द्वारा संयुक्त रूप सँ  दीप प्रज्ज्वलित एवं महाकवि विद्यापतिक तैल्यचित्र पर माल्यार्पण कय केँ कयल गेल। गोसाउनिक गीत तथा दुनू देश भारत ओ नेपाल केर राष्ट्रीय गान गाबिकय दुनू देशक सहभागी अतिथि ओ जनता केँ राष्ट्रीयता प्रति जिम्मेदारीक उचित बोध करबैत राष्ट्रीयता प्रति सदैव ईमानदार आ कृत्-संकल्पित रहबाक सन्देश देल गेल। विदिते अछि जे दुनू राष्ट्र केर बीच रोटी-बेटीक जनस्तरीय सम्बन्ध अछि, तथा दुनू ठाम सँ एक-दोसराक सुख-दुःख मे लोक सब सहभागी होइत अछि, तेकरा बखूबी निर्वाह करैत अछि जोगबनी मे आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय विद्यापति महोत्सव।

मिथिलाक संस्कृति सभ्यता केर परिचय करबैत जोगबनीक आयोजन तीन चरण मे भेल। पहिल चरण मे विद्यापति एवं मैथिली केर महत्ता पर केन्द्रित रहल। दोसर चरण मे समाजक किछु विशिष्ट व्यक्तित्व लोकनि द्वारा भाषा, साहित्य, संस्कृति, समाज आदि विभिन्न क्षेत्र मे देल गेल विशिष्ट योगदान लेल चारि सामाजिक विभूति लोकनि केँ ऐतिहासिक कृति स्थापित कयनिहार चारि महत्वपूर्ण ऐतिहासिक व्यक्तित्वक नाम पर स्मृति सम्मान प्रदान कयल गेल। शहीद कुलदीप झा स्मृति सम्मान सँ मैथिलीक वरिष्ठ कवि दयानंद दिक्पाल यदुवंशी, फनीश्वरनाथ रेणु स्मृति सम्मान सँ साहित्यकार माँगन मिश्र मार्तण्ड केँ देल गेलनि; जखन कि सरयू मिश्र स्मृति सम्मान तथा घासीराम तापड़िया स्मृति सम्मान केर नाम पर सम्मान देबाक घोषणा कयल गेल। विराटनगर उद्घोष दैनिक केर संपादक-प्रकाशक तथा समाजसेवी मोहन भंडारी केँ सेहो सम्मान कयल गेलनि।

कार्यक्रमक मुख्य अतिथि नेपालक पूर्व मंत्री एवं वर्तमान मोरंग सांसद शिवकुमार मंडल द्वारा मिथिलाक बेटी तथा अयोध्याक बेटा अर्थात् जानकी ओ राघव केर जिकिर करैत ताहि समय सँ नेपाल आ भारतक सम्बन्ध मैत्रीपूर्ण आ बेटी-रोटी दुनू लेल होयबाक बात आइ धरि चरितार्थ रहबाक बात कहल गेल। ओ कहला जे आइयो एहि दुइ राष्ट्र भारत आ नेपाल केर सम्बन्ध केँ मजबूती प्रदान करयवला मूलतत्त्व संस्कृति तथा सभ्यता थिक जे आपसी सम्बन्ध केँ अटूट आ मजबूत बनौने अछि, भविष्य मे एहि दिशा मे आरो बेसी ध्यान देनाय आवश्यक अछि।

तहिना भारतक दिश सँ प्रमुख अतिथि बिहार सरकार केर मंत्री विनोद नारायण झा अपन संबोधन मे महाकवि विद्यापति आ मैथिली भाषा केर महत्व पर प्रकाश देलनि। ओ कहलनि जे भारत आ नेपाल केर जन-जन केर हृदय मे मैथिली आ महाकवि दुनू विराजैत छथि। भारतक महान राष्ट्रनेता पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी केँ शब्द‍-श्रद्धाञ्जलि दैत हुनका द्वारा भारतक संविधान मे मैथिली भाषा केर सम्मानजनक स्थान आठम अनुसूची मे देबाक लेल बेर-बेर आभार प्रकट कयल गेल, समूचा मिथिलावासी आ मैथिलीभाषी हुनकर एहि योगदान लेल हुनका युगों-युगों धरि सम्मान संग स्मृति मे आनैत रहत। श्री झा सब भाषाक सम्मान करबाक संग मैथिली केँ आरो आगाँ बढेबाक विन्दु पर जोर देलनि।

मंच सँ संबोधन कयनिहार अनेकों महत्वपूर्ण वक्ता मे नेपालक प्रदेश १ केर प्रदेश सांसद जयराम यादव, प्रदेश सांसद चुमनारायण तवदार, बिहारक पूर्व विधायक लक्ष्मीनारायण मेहता, भाजपाक क्षेत्रीय प्रमुख भानु प्रकाश राय आदि छलाह। एहि अवसर पर भाजपा जिलाध्यक्ष संतोष सुराना, नारायण झा, जोगबनी नगर अध्यक्षा अनिता देवी, जय रानी देवी, भोगेन्द्र यादव, संजीव दास, अमरनाथ झा, मिथिलेश ठाकुर, कमल तापड़िया, नरेश प्रसाद, सृष्टि दैनिक केर संपादक शंकर खरेल, डा. एस. एन. झा, माला झा, वीरेन्द्र, खुर्शीद खान, अरविंद कुमार ठाकुर, ओमप्रकाश सिंह, अमित कुमार, राजनंदन यादब आदि सेहो उपस्थित छलाह जे अपन-अपन शुभकामना मंतव्य देलनि। कार्यक्रम केर नेतृत्व अन्तर्राष्ट्रीय विद्यापति महोत्सवक संस्थापक संयोजक वरुण मिश्रा, माला मिश्रा व हुनक सहयोगी लोकनि कय रहल छलाह। उद्घाटन सत्रक संचालन अमलेश कर्ण द्वारा कयल गेल। स्वागत संबोधन सेहो संयोजक वरुण मिश्र द्वारा कयल गेल जाहि मे ओ कार्यक्रमक अवधारणा, दुनू राष्ट्रक बीच मैत्री केँ बढावा देबाक संकल्प संग मैथिली भाषा आ मिथिलाक पहिचान केँ आगू बढेबाक अपील कएने छलाह।

तेसर चरण मे मैथिली सांस्कृतिक कार्यक्रम मे एक सँ बढिकय एक कलाकार लोकनिक सहभागिता मे भव्य ओ रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत कयल गेल जे दर्शक श्रोता केँ लगातार ६ घंटा धरि कार्यक्रम सँ बान्हिकय रखने रहल। जोगबनी रेलवे परिसर मे आयोजित एहि विशाल महोत्सव मे हजारों लोकक उपस्थिति कार्यक्रमक भव्यताक आपमेव वर्णन करैत रहल। कलाकार लोकनि सेहो खूब उत्साहित भऽ अपन कार्यक्रम प्रस्तुत कयलनि। हमरे डाला पनपथिया सँ देवतो पितर पुजाइ छै, हमर मोनक गाम मे ई शोर भऽ गेलैय, दिल मे बसलौं अहाँ धड़कन मे बसा लियऽ, आदि विभिन्न मनमोहक मैथिली गीत सँ भारत नेपाल सीमा गुंजायमान और मिथिलामय बनल रहल।

अन्तर्राष्ट्रीय विद्यापति महोत्सव २०१८ केर सांस्कृतिक संध्या मे वरिष्ठ गायक रामा मंडल, वीरेन्द्र झा, भागवत मंडल, नवीन मिश्र आदि विभिन्न नामी-गिरामी मैथिली गायक लोकनि अपन प्रस्तुति सँ हजारों दर्शक लोकनि केँ भरपूर मनोरंजन देलनि। एहि सँ पहिने स्कौटिश पब्लिक स्कूल, अररिया, मिथिला पब्लिक स्कूल, फारबिसगंज, जेनिथ पब्लिक स्कूल जोगबनी तथा नेपाल केर यूरो किड्स स्कूल, मदर टेरेसा स्कूल केर छात्र-छात्रा लोकनि एक सँ बढ़िकय एक सामूहिक नृत्य केर प्रस्तुति सँ खूब ताली बटोरलनि। इसिका ब्यूटी केर जोड़ी  द्वारा एंजल डांस कयल गेल जेकरा दर्शक लोकनि बहुते सराहना केने छलाह। तहिना सौम्या, सृष्टि द्वारा जय जय भैरवि गोसाउनीक गीत जेकर रचना स्वयं महाकवि विद्यापति कएने छथि से गाबिकय लोक सब केँ मंत्रमुग्ध कयल गेल छल। एकर अलावे मैथिलीक प्रतिष्ठित आ चर्चित गायक पवन नारायण ओ स्वेता रानी केर जोड़ी द्वारा कनी हँसिकय कहू, कनी कसिकय कहू… रोमांटिक गीत गाबिकय दर्शक सब केँ झूमय लेल बाध्य कयल गेल छल। राँची झारखंड सँ आयल छलीह ज्योति मिश्रा जे एतय के लंहगा नहि पहिरब दरभंगा सँ मंगा दिय, ए सैंयाँ तोरी पैयाँ पड़य छी चुनरी सिया दियऽ गाबिकय आरो सोन मे सुगंध कय देलीह। लहान – नेपाल सँ आयल गायक तेजू मैथिल द्वारा एबीसीडीइएफजीआई हमरा कनिया पढ़बई छौ भाइ सहित आरो कय गोट मधुर गीत सब गायल गेल छल। गायिका डोली सिंह केर गीत केँ सेहो लोक सब खूब पसीन कयलनि।

सांस्कृतिक कार्यक्रम मे अबेर सँ संध्याकाल मे पहुँचल छलाह फारबिसगंज विधायक विद्यासागर केशरी उर्फ मंचन केशरी, नेपाली कांग्रेस केर युवा नेता राजेश गुप्ता, व किछु अन्य महत्वपूर्ण अतिथि, ओ लोकनि दर्शक दीर्घा मे घंटों धरि बैसि मैथिली गीत-संगीत आ एहि महोत्सव केर भरपूर आनन्द लेलनि। हिनका लोकनि द्वारा कलाकार लोकनि केँ पाग, माला, दोपटा व प्रशंसा पत्र दय सम्मानित ओ प्रोत्साहित कयल गेल छल।