रंजना दहेज हत्याकाण्ड दरभंगाः दहेज मुक्त मिथिला निकाललक कैन्डल मार्च, रंजना केँ भेटय न्याय

रंजना झा केर हत्या केँ सड़क दुर्घटना कहि खूब पचेबाक प्रवृत्तिक विरोध मे कैन्डल मार्चः दहेज मुक्त मिथिला

दरभंगा, अगस्त २४, २०१८. मैथिली जिन्दाबाद!!

१८ अगस्त केँ दरभंगा मे कयल गेल रंजना झा केर हत्या पर आब बेसी शंका नहि रहि गेल अछि, पति केर गिरफ्तारी आ पुलिस प्रशासन द्वारा हत्याक आशंका केँ नहि टारल जेबाक बात पर्यन्त एहि बातक पुष्टि कय रहल अछि जेकर आशंका मृतकाक माता-पिता-भाइ-परिजन द्वारा स्वयं रंजनाक लिखल चिट्ठी केँ सार्वजनिक करैत कयल गेल। ई बात लगभग तय मानल जा रहल अछि जे दहेज मे आरो एकटा बुलेट गाड़ी नहि देल जेबाक कारण तथा पारिवारिक संस्कार मे अपन पहुँच पूर्व दरोगा आ बड़ा बाबू होयबाक संग-संग स्वजन्य लोकनि विभिन्न पद पर रहबाक गुरुड़ मे एकटा महिला पर बर्बर अत्याचार करबाक संग अन्ततोगत्वा ओकर हत्या कयल गेल। परञ्च जाहि तरहें हत्या केँ महज एक सड़क दुर्घटना देखाकय लीपापोती कयल जेबाक प्रकरण सोझाँ आयल, हत्यारा परिवार जाहि तरहें अपन पहुँच आ रुआब केर गलत इस्तेमाल करैत एक नवविहारिता मिथिलाक बेटी रंजना झा केर हत्या कय केँ अपना केँ कानूनक घेरा सँ सुरक्षित बाहर निकालबाक जाहि तरहक देखाबा सब कयलक एकर जोरदार भर्त्सना चौतर्फी समाज मे भऽ रहल अछि आर एहि केस केर जाँच लेल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, राज्य महिला आयोग, समाज कल्याण विभाग, राष्ट्रीय महिला आयोग तथा विभिन्न स्तरक सुरक्षा निकाय द्वारा कयल जेबाक मांग सेहो कयल जा रहल अछि। रंजना हत्याकाण्ड केर दोषी पर सजाय भेला सँ भविष्य मे फेर एहेन घटनाक अंजाम देनिहार कानून सँ डर मानय ताहि तरहक सजाय केर मांग आम समाज द्वारा कयल जा रहल अछि।

एनि सन्दर्भ मे काल्हि २३ अगस्त दरभंगाक भगत सिंह चौक सँ टावर चौक धरि सैकड़ों आम जनता हाथ मे मोमबत्ती जरौने कैन्डल मार्च कयलनि। एकर अगुवाई दहेज मुक्त मिथिला तथा एकर दरभंगा अध्यक्ष किशोर झा कयलनि। एहि मार्च मे दहेज मुक्त मिथिलाक ब्रान्ड एम्बेसडर आर के दीपक संग अन्य समाजिक संस्था तथा गणमान्य संग युवा तथा छात्र-छात्रा सेहो भाग लैत प्रशासन सँ निष्पक्ष छानबीन करैत दोषी पर शीघ्र कार्रबाई करबाक मांग कयलनि। बकौल किशोर झा प्रशासनक सहयोग केर सेहो प्रशंसा कयल गेल। ओ कहलनि जे आम जनताक सहयोग तऽ रहबे कयल, प्रशासन सेहो एहि कार्य लेल हमरा सभक भरपूर प्रशंसा आ सराहना कयलनि जे एकटा सच्चा सोशल काउज लेल हमरा लोकनि विरोध रैली-जुलूस निकालिकय प्रशासन केँ आरो सशक्त ढंग सँ काज करबाक लेल दबाव बना रहल छी। जुलूस मे सहभागी भाजपा युवा नेता बालेन्दु झा कहलनि जे प्रशासन चौकन्ना अछि आर आजुक डिजीटल युग मे कतबो शक्तिशाली लोक कियैक नहि हो मुदा ओ जुर्म करत तऽ ओकरा ई समाज नहि छोड़तैक से बात रंजना हत्याकाण्ड सँ प्रमाणित भऽ रहल अछि। रंजनाक जाहि तरहें तड़पा-तड़पा कय ई दहेज लोभी परिवार हत्या कएने होयत ई सोचितो देह सिहैर उठैत अछि, एकरा लेल कड़ा सँ कड़ा कानूनी दंड शीघ्र देल जेबाक मांग कैन्डल मार्च मे सहभागी अधिकांश लोक अपन श्रद्धाञ्जलि शब्द मार्फत प्रकट कयलनि।

दहेज मुक्त मिथिलाक संयोजक मनोज शर्मा चेन्नई सँ अपन सन्देश मे कहलनि अछि जे संस्था द्वारा रंजना हत्याकाण्ड केर घोर निन्दा कयल जाइत अछि तथा आगामी समय मे सेहो रंजना केँ न्याय दियेबाक लेल संघर्ष केँ जारी राखल जायत। ब्रान्ड एम्बेसडर आर के दीपक मीडिया सँ बात करैत संस्था द्वारा दहेज मुक्त मिथिलाक संघर्षक दिया घर-घर मे जरेबाक आ रंजना वा कोनो बेटी पर दहेज लोभीक अत्याचार वर्दाश्त नहि कयल जेबाक बात कहलनि। आजुक जुलुस केर विषय मे संस्था द्वारा जारी विज्ञप्ति संलग्न अछि। एहि कैन्डल मार्च केर आयोजन कयनिहार समस्त युवा अभियानी लोकनि केँ हृदय सँ धन्यवाद ज्ञापन संस्थाक अन्तर्राष्ट्रीय संयोजक प्रवीण नारायण चौधरी, पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष पंकज झा, वर्तमान कार्यकारिणी एवं पदाधिकारी लोकनि द्वारा भारत आ नेपाल केर विभिन्न स्थान सँ कयल गेल अछि।

प्रेस विज्ञप्ति

रंजना झा दहेज हत्याकाण्ड का आज छठा दिन है, परन्तु प्रशासन के द्वारा हाल तक की प्रगति पर मीडिया में भिन्न-भिन्न तरह की बातें देख-पढकर हम दहेज मुक्त मिथिला के अभियन्ता तथा आमजनों में काफी असन्तोष है। एक तरफ मृतका रंजना के माता-पिता-भाई-परिजन असीम वेदना में डूबे हुए हैं, उन्हें अपनी बहन की हत्या का मिला सुराग और साक्ष्य लेकर पुलिस प्रशासन के साथ शेयर करके अनुसंधान हत्या के एंगल से कराने तक का हिम्मत नहीं है, दूसरी ओर हत्यारा ससुराल परिवार अपने पैरवी और पहुँच से योजनाबद्ध तरीके से की गई हत्या को सड़क दुर्घटना दिखा खुदको बचाने का सारा कुचक्र करने में आगे दिखते हैं। ऐसे द्वंद्व की स्थिति में हमारी संस्था मृतका की पत्र को मूल आधार मानकर तथा उसके मृत शरीर पर दिखे चोट के निशान, पोस्टमार्टम रिपोर्ट एवं परिजनों को मिली हत्या की सुराग को सच मानकर हत्यारों के लिये कड़े से कड़ा दंड का मांग कर रहे हैं। साथ ही, मृतका रंजना झा की आत्मा को शान्ति तभी मिलेगी जब उसको तड़पा-तड़पाकर मारनेवालों को दण्डित किया जायेगा और आगे इस तरह की दुस्साहस कोई और लोग नहीं कर पायेंगे तभी रंजना के साथ न्याय हो सकेगा। महज एक बुलेट चढने का शौक किसी लड़की की पिता पूरा न कर पाए और शादी के बाद उसको बदसुरत आदि कहकर प्रताड़ित किया जाये, यह एक सभ्य समाज में कैसे संभव हो सकता है। निश्चय ही रंजना के ससुरालवाले ने अपनी अकड़ और अभिमान में आकर एक बेटी को जान से मारकर खून पचाने का खेला-वेला कर रहे हैं, हमारी संस्था इस महापाप का पुरजोर विरोध करती है। आज हमलोग कैन्डल मार्च के साथ प्रशासन, मीडिया और आम समाज को यह चेतना देना चाह रहे हैं कि मानवता पर कलंक लगानेवालों को शीघ्र सलाखों के पीछे लाया जाय और उन्हें मृत्यु दण्ड की सजा दी जाये। अन्यथा ऐसे कई और बेटियों को ये दहेज लोभी पापी ऐसे ही जान से मारते रहेंगे, जो हम कतई वर्दाश्त नहीं कर सकते हैं। मिथिला की पावन धरती में बेटी के साथ इस तरह का बर्बर अत्याचार का हम घोर भर्त्सना करते हैं और प्रशासन तथा दहेज मुक्त बिहार का संकल्प किये मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी का ध्यानाकर्षण कराना चाहते हैं कि विशेष टीम गठित कर रंजना हत्याकाण्ड के दोषियों को सजा दिलवायें।

रंजना झा के आत्मा की चिर शान्ति के लिये दहेज मुक्त मिथिला के अन्तर्राष्ट्रीय संयोजक प्रवीण नारायण चौधरी की ओर से दी गई श्रद्धाञ्जलि सुमन के शब्द इसी विज्ञप्ति के साथ संलग्न है। आज का कैन्डल मार्च दहेज मुक्त मिथिला के ब्रान्ड एम्बेसडर आर के दीपक तथा दरभंगा अध्यक्ष किशोर झा के नेतृत्व में भगत सिंह चौक से दरभंगा टावर तक की आयोजित की गई है। मुम्बई से पूर्व राष्ट्राध्यक्ष पंकज झा, वर्तमान राष्ट्राध्यक्ष राजेश राय, चेन्नई से संयोजक मनोज शर्मा के अलावे पूरे विश्व भर से इस घटना पर शोक जताने के साथ हत्यारों को दण्डित करने का मांग किया गया है। आज के आयोजन में हमारे साथ अभिषेक पंचोली, विकास कुमार झा, निशान्त आर्य, ऋतु राज, अभिषेक, प्रकाश झा व अन्य लोग भी साथ हैं। आनेवाले दिनों में भी हमारा विरोध कार्यक्रम जारी रहेगा। रंजना झा को सच्ची श्रद्धाञ्जली यही होगी।

दहेज मुक्त मिथिला
दरभंगा

श्रद्धाञ्जलि-सुमन

नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावकः ।
न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुतः ॥

हे पुण्यात्मा! मिथिला की बेटी ‘रंजना’!!

सिर्फ एक बुलेट गाड़ी जो तुमहारा दहेज लोभी पति चढना चाहता था तुम्हारे पूज्य पिता केँ पैसे से, वह उसको नहीं मिला तो तुम्हारे ससुरालवालों ने आखिरकार वही महापाप और अत्याचार कर बैठा जिसकी तुम्हें बारंबार ताना दिया करते थे…. जो सारी बातें संयोग से तुमने अपने ही हाथों भाई शंकर के नाम खत में लिख छोड़ गई हो।

आज ६ठा दिन है बहन, तुम्हारी आत्मा न जाने किस हाल में भटक रही होगी। तुमको इन दरिन्दों ने जिस तरह से तड़पा-तड़पाकर मारा यह सोचकर हम जैसे कठोरहृदयी लोग भी सिहर रहे हैं। हे भगवान् – न सिर्फ तुम जैसी नाजुक बेटी पर इनलोगों ने हाथापाई किया बल्कि अपनी झूठी मर्दानगी तुम्हारे कोमल अंगों पर वार करके दिखाये… तुम्हारे टांगों पर धारदार हथियार से काटा, आँख पर घूँसा, कान के जड़ में घूँसा और तुम्हारे पेट के निचले हिस्सों पर लात से या ना जाने किन चीजों से वार किया कि आखिरकार तुम रोती-विलखती दम तोड़ दी। बहन! हम सारे तुम्हारे भाई सिर्फ तुम्हारी मृत शरीर और उसपर लगे चोटों को देखकर ही तुम्हारे दरिन्दे ससुरालवालों की दरिन्दगी का कल्पना भर करके अत्यन्त विह्वल हो रहे हैं। भगवान् इन दरिन्दों की किये की सजा इतना भयावह देनेवाले हैं कि क्या कहूँ…. बस तुम भरोसा रखना। एक भी लोग ऐसे नहीं मिलते हैं जो तुम्हारे बड़े रुआबी ‘बड़ा बाबू’ ससूर और बड़ा सा एमबीए की डिग्री लिया पति जो दिखने से ही महागुन्डा लगता है इनके साथ-साथ तुम्हारी चुड़ैल सास, ननद, नन्दोई आदि के खिलाफ आज न खड़े हुए हों। अच्छा काम कर गई बहन कि तुमने इनलोगों की असलियत अपनी तरह से लिखकर चली गई।

बहन! अब जबकि तुम इस मानव-संसार से आजाद हो गई हो, हम तुम्हारी आत्मा को चिर शान्ति मिलने की ईश्वर से प्रार्थना करते हैं। और तुम्हारे पीड़ा, घुटन और खून की एक-एक कतरे का मूल्य को आत्मसात करते हुए पृथ्वी पर बचे और कई सारे बेटियों-बहनों को ऐसे कई दहेज लोभी तथा कालाधन कमाकर भूच्च बने भ्रष्टाचारी बड़ा बाबू लोगों को यह सिखाने के लिये कसम खाये हैं कि दूसरे घर से आई बहू-बेटीको असहाय समझकर अत्याचार करना तुम्हारे सारे परिवार को लील जायेगी। आज तुम्हारे कथित दरोगा बाबू और बड़े पदों पर आसीन काले कारनामे करनेवालों को पता चल रहा होगा कि पाप का घड़ा जब फूट जाता है तो दुर्मति उनसे इस तरह की पाप कराकर उन्हें दर-दर भटकने और जीते-जी मर जाने से भी बदतर जीवन जीने के लिये बाध्य कर देती है। हमलोगों को भले ठीक से नहीं दिख पा रहा है कि ये दरिन्दे हत्यारा पति, ससूर, व अन्य परिजन अभी जेल में या फरारी अवस्था में कहाँ किस प्रकार रह रहे हैं – परन्तु अब तक तुम्हें प्राप्त दैविक शक्ति और दृष्टि से तुम तो जरूर देख रही होगी उन सबों का बुरा हाल को, बस थोड़ा और रुको… पुलिस अनुसंधान सही दिशा मे बढेगी और सारा काला सच सामने आ जायेगा। हमारे छोटे-छोटे भाई लोग भी जान-प्राण लगा रखे हैं तुम्हारे हत्यारों का सारा पर्दाफाश करने के लिये। मीडिया भी चौकन्ना है अब। पहले दिन तो इन कालाधनपतियों ने अपने तरीके से कभी तुम्हारे मरे शरीर को झाड़ी में जलाने के लिये, कभी सिन्दूर घोलकर खून बहा दिखाकर एकमी-शोभन हाईवे पर एक्सीडेन्ट दिखाने के तो कभी रिटायर्ड दरोगा फिर से अपनी वर्दी पहनकर अपने हत्यारा पुत्र को प्राईवेट अस्पताल में भर्ती कराने के – कभी तुम्हारे गुन्डा पति का मित्र अपनी पहुँच का दुरुपयोग कर पत्रकारों से एक्सीडेन्ट की खबर छपबाने के तो कभी स्कोर्पियो-बोलेरो से तुम्हारा शरीर को अन्यत्र ठिकाने लगाने के – ये सारा कुकर्म करने में दौड़ते रहे। लेकिन कहते हैं न… सच्चाई छुप नहीं सकती बनावट के ऊसूलों से…. वही बात सच साबित हुई। तुम्हारे भाई, बहन, बहनोई, पिता सभी लोग समय से हमलोगों को साकांक्ष करके इस न्याय की लड़ाई को एक नया दिशा दिये। हम सभी लोग उनके साथ हैं।

आज कैन्डल जलाकर हम तुम्हारे लिये प्रार्थना करने जा रहे हैं दरभंगा में – तुम बिल्कुल मत घबराना बहन। जिस सहनशीलता से तुम खुद की जान से हाथ धो बैठी, अब उतनी ही धैर्यता से इस छलिया मानव संसार के लोगों से तुम्हारे लिये न्याय की लड़ाई हमलोग लड़ेंगे। अब तुम तो सारी बेटियों-बहुओं में आ गई हो। बस, देखें ईश्वर आगे क्या चाहते हैं। दहेज मुक्त मिथिला के भाईयों ने अभी-अभी सारा प्रबन्ध करके आज का कैन्डल मार्च का आयोजन अभी से कुछ ही देर में करने जा रहे हैं। ईश्वर तुम्हारी आत्मा को निश्चय ही शान्ति देंगे। अस्तु!

हरिः हरः!!