मैथिली सुन्दरकाण्डः समुद्र केर एहि पार आयब, सभक लौटब, मधुवन प्रवेश, सुग्रीव मिलन, श्री...

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री तुलसीदासजी रचित श्रीरामचरितमानस केर सुन्दरकाण्डक मैथिली अनुवाद समुद्र केर एहि पार आयब, सभक लौटब, मधुवन प्रवेश, सुग्रीव मिलन, श्री राम-हनुमान्‌ संवाद चौपाई : चलैत...

मैथिली सुन्दरकाण्डः लंका जरेलाक बाद हनुमान्‌जी केर सीताजी सँ विदाई माँगब आ चूड़ामणि पायब

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री तुलसीदासजी रचित श्रीरामचरितमानस केर सुन्दरकाण्डक मैथिली अनुवाद लंका जरेलाक बाद हनुमान्‌जी केर सीताजी सँ विदाई माँगब और चूड़ामणि पायब दोहा : पूँछ मिझाय विश्राम...

मैथिली सुन्दरकाण्डः लंकादहन

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री तुलसीदासजी रचित श्रीरामचरितमानस केर सुन्दरकाण्डक मैथिली अनुवाद लंकादहन दोहा : कपि केर ममता पूँछ पर सबकेँ कही बुझाय। तेल बोरि पट बान्हिकय पावक दिहीन...

मैथिली सुन्दरकाण्डः हनुमान्-रावण संवाद

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री तुलसीदासजी रचित श्रीरामचरितमानस केर सुन्दरकाण्डक मैथिली अनुवाद हनुमान्‌-रावण संवाद दोहा : कपि देखि के दसानन हँसल कहल दुर्बाद। सुत वध सुरति कयल पुनि उपजल हृदय...

मैथिली सुन्दरकाण्डः हनुमान्‌जी द्वारा अशोक वाटिका विध्वंस, अक्षय कुमार वध और मेघनादक हनुमान्‌जी केँ...

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री तुलसीदासजी रचित श्रीरामचरितमानस केर सुन्दरकाण्डक मैथिली अनुवाद हनुमान्‌जी द्वारा अशोक वाटिका विध्वंस, अक्षय कुमार वध और मेघनादक हनुमान्‌जी केँ नागपाश मे बान्हिकय...

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री सीता-हनुमान् संवाद

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री तुलसीदासजी रचित श्रीरामचरितमानस केर सुन्दरकाण्डक मैथिली अनुवाद श्री सीता-हनुमान्‌ संवाद सोरठा : कपि कय हृदय विचार देलनि मुद्रिका सोझाँ खसा। जेना अशोक अंगार देला हरखि...

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री सीता-त्रिजटा संवाद

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री तुलसीदासजी रचित श्रीरामचरितमानस केर सुन्दरकाण्डक मैथिली अनुवाद श्री सीता-त्रिजटा संवाद दोहा : जहिं तहिं गेल तखन सबटा सीता मन मे सोच। मास दिन केर बितिते...

मैथिली सुन्दरकाण्डः हनुमान्‌जी केर अशोक वाटिका मे सीताजी केँ देखिकय दुःखी होयब आर रावण...

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री तुलसीदासजी रचित श्रीरामचरितमानस केर सुन्दरकाण्डक मैथिली अनुवाद हनुमान्‌जी केर अशोक वाटिका मे सीताजी केँ देखिकय दुःखी होयब आर रावण केर सीताजी केँ...

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री हनुमान् विभीषण संवाद

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री तुलसीदासजी रचित रामचरितमानस केर सुन्दरकाण्डक मैथिली अनुवाद हनुमान्‌-विभीषण संवाद दोहा : रामायुध अंकित गृह शोभा बरन न जाय। नव तुलसीक बृंद ओतय देखि हरख कपिराय॥५॥ भावार्थ...

मैथिली सुन्दरकाण्डः लंका वर्णन, लंकिनी वध, लंका मे प्रवेश

मैथिली सुन्दरकाण्डः श्री तुलसीदासजी रचित श्रीरामचरितमानस केर सुन्दकाण्डक मैथिली अनुवाद लंका वर्णन, लंकिनी वध, लंका मे प्रवेश नाना वृक्ष फल फूल सोहाए। खग मृग बृंद देखि...