सोशल मीडिया पर चीन विरुद्ध माहौल बनैत देखि ओकादि मे आबि गेल चीन

मारिक डरे भूत पराय
 
सन्दर्भः चीन द्वारा आतंकी मसूद अजहर पर बैन केर प्रस्ताव मे तकनीकी विरोध राष्ट्र संघ मे
 
रायटर एजेन्सी केँ चीन फैक्स कय केँ मसूद अजहर – जैश-ए-मोहम्मद केर मुखिया पर प्रतिबन्ध लगेबाक सम्बन्ध मे भारत सहित समस्त सम्बन्धित पक्ष सँ बातचीत करबाक लेल तैयार रहबाक समाचार सम्प्रेषित कयलक अछि। रायटर द्वारा देल गेल समाचार मे स्पष्ट कहल गेल अछि जे बुध दिन (१३ मार्च २०१९) जहिया सँ चीन द्वारा अमेरिका-फ्रांस-ब्रिटेन द्वारा मसूद केँ बैन करबाक प्रस्ताव केँ राष्ट्र संघ मे पास होइ सँ रोकल गेलैक तहिया सँ भारत केर जनता मे चीनी समान नहि प्रयोग करबाक एकटा होड़ मचि गेलाक कारण चीन एहि तरहक बयान जारी कय केँ तनावपूर्ण स्थिति केँ कम करबाक प्रयास कयल गेल अछि।
 
सच छैक जे वर्तमान अर्थ युग मे आर्थिक कारोबार आ आर्थिक दशा-दिशा सभ देशक मुख्य सम्पत्ति आ शान थिकैक। चीन हो या विश्व केर कोनो मुलुक, सब केँ भारतक विशाल बाजार सँ लाभ भेटैत छैक। भारतक मुख्य सम्पत्ति एकर विशालता थिकैक। आर यैह कारण भारत केँ विखंडित करबाक कतेको रास षड्यन्त्र सेहो यदा-कदा सुनय मे अबैत रहैत अछि। लेकिन ई देश जाहि सुझबुझ आ समझदारी सँ विगत ७ दशक सँ आगाँ बढि रहल अछि ताहि कारण एकर सुरक्षा आन्तरिक आ बाह्य सब शत्रु सँ अत्यन्त सुदृढ आ दुरुस्त छैक। एहि राष्ट्रक संविधान आ राज्य संचालन नीति सेहो बाकायदा हरेक जनता केँ सुरक्षित आ विकसित बनि आगू बढबाक अवसर प्रदान करैत छैक। आर, एहि तरहें ई विश्वक एक उत्कृष्ट बाजार आइये नहि अदौकाल सँ रहि आयल अछि।
 
भारत संग ब्यापारिक सम्बन्ध बनेबाक लेल मध्यकालीन समय सँ आइ धरिक इतिहास अत्यन्त व्यापक आ वृहत् रूप देखाबैत अछि। हालांकि ईहो सच छैक जे यैह ब्यापारक आड़ मे भारत पर बाहरी लोकक शासन सेहो रहलैक। लेकिन बाहरी तखनहि शासन कय सकल जखन भारतीय संघक विभिन्न रियासत (छोट-छोट राजाक अधीन रहल राज्य) आपस मे टूटल रहल, एक-दोसर पर आक्रमण करैत रहल। जखन कियो अपने मे टूटल रहत त बहरिया शासन करबे करतैक। व्यक्तिगत संयुक्त परिवार मे भाइ-भाइ बीच कय तरहक दरार आ मतान्तरक लाभ सेहो कियो तेसर लोक उठबिते अछि। ताहि हेतु १९४७ मे स्वतन्त्रता आ १९५० संघीय गणराज्यक रूप मे घोषित ई महान राष्ट्र भारत आइ अपन मजबूत अर्थतन्त्रक कारण विश्व मे एकटा अलग शक्तिसम्पन्न राष्ट्र कहाइत अछि।
 
पुलवामा मे भेल आत्मघाती आतंकी हमला मे लगभग ४० गोट सैनिक केँ शहादति सँ खिन्न भारतक सैन्यबल अपन सहनसीमा केँ बिसैरिकय पड़ोसी राष्ट्र पाकिस्तानक सीमा मे अवस्थित आतंकी अड्डा पर सीधा आक्रमण कय ई संकेत दय देलक जे आब आतंकी गतिविधि केँ कियो बाहरी मुलुक जँ भारत विरुद्ध प्रयोग करत तऽ भारतक सुरक्षा आ अखन्डता केर रक्षा लेल भारत अपन सैन्यबल केँ प्रयोग करैत ‘लड़ो-मरो-मारो’ केर नीति पर बढैत देश सुरक्षित राखत। चीन केँ अपन ओकादि आर्थिक नुकसान सोझाँ ठाढ देखिते देरी याद आबि गेलैक अछि। बातचीत लेल समय केँ बहाना बतबैत ओ ई देखाबय लागल अछि जे भारत केँ अपन शत्रु कोनो हिसाब सँ बनेनाय ओकरा लेल खतरनाक सिद्ध हेतैक। आइ पाकिस्तान त आर्थिक रूप सँ दिवालिया भइये गेल अछि, चीन अपन अर्थतन्त्र केँ पाकिस्तानक राह पर अग्रसर नहि करत से सतर्क भेल अछि। भारत लेल ईहो एक तरहक ‘अच्छे दिन’ कहल जा सकैत छैक।
 
हरिः हरः!!