डा. सी. पी. ठाकुर केर नागरिक अभिनन्दन काल्हि १५ दिसम्बर मिथिला मे

दरभंगा, १४ दिसम्बर २०१८. मैथिली जिन्दाबाद!!

सीबीएसई मे मैथिली पढौनी लेल स्वीकृति दियेबाक महत्वपूर्ण कार्य लेल अपन सद्प्रयास कयनिहार सांसद एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री पद्मश्री डा. सी. पी. ठाकुर केर नागरिक अभिनन्दन दरभंगाक बाजितपुर (बीएमपी-१३ समीप) स्थित महात्मा गाँधी शिक्षण संस्थान परिसय मे कयल जायत। ई जनतब विद्यापति सेवा संस्थानक मीडिया प्रभारी चन्द्रशेखर झा ‘बूढाभाइ’ द्वारा विज्ञप्ति जारी करैत देल गेल अछि।

सीबीएसई केर पाठ्यक्रम मे मैथिली विषय केँ शामिल करेबा मे प्रभावकारी भूमिका निभेबाक लेल मिथिलाक सपूत माननीय सांसद व पूर्व केन्द्रीय मंत्री पद्मश्री डा. सी पी ठाकुर केँ विद्यापति सेवा संस्थान केर तत्वावधान मे भव्य नागरिक अभिनंदन समारोह केर आयोजन दिनांक १५ दिसम्बर २०१८ (शनि दिन) केँ मध्याह्न १२ बजे बाजितपुर, बीएमपी-13 केर समीपस्थ महात्मा गाँधी शिक्षण संस्थान परिसर मे कयल जायत। विज्ञप्ति मे उल्लेख अछि।

केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर संग विगत जुलाई २०१८ मे पत्राचार कय सीबीएसई मे भारतीय संविधानक अष्टम अनुसूची मे सूचीकृत भाषा मैथिली केर पढौनी लेल डा. ठाकुर निवेदन कएने छलाह, जेकर जबाब मे १५ नवम्बर मे मंत्रीजी एहि बातक पुष्टि कयलनि जे मैथिलीक पढाई करेबाक लेल संस्थान केँ स्वतंत्रता आ मान्यता दय देल गेल अछि।

एहि समाचार सँ मिथिलाक जनमानस मे आ समस्त भारतवर्षक मैथिलीभाषी मे एकटा नीक ऊर्जाक संचरण भेल अछि, कारण सब सँ बेसी महत्वपूर्ण केन्द्रीय बोर्ड द्वारा मैथिली मे पढौनीक मान्यता देला सँ आब प्रारम्भिक शिक्षा मे मैथिलीक पढौनी केलाक बादे युपीएससी वा बिपीएससी आदि मे मैथिली माध्यमक उचित लाभ लेल जा सकत। संगहि सी-टेट परीक्षा सँ लैत अन्य प्रतियोगी परीक्षा मे मैथिली विषयक पढाई केर प्रत्यक्ष लाभ मैथिलीभाषी केँ भेटबाक अपेक्षा अछि। एहि महत्वपूर्ण कार्य लेल डा. सी. पी. ठाकुर सँ भेटिकय हुनकर दिल्ली आवास पर आ सामाजिक संजाल आदि मे सम्मान कार्यक्रमक लाइन लागि गेल अछि। प्रस्तुत तस्वीर मे मिथिला आन्दोलनक पुरोधा डा. बैद्यनाथ चौधरी ‘बैजू’ द्वारा डा. सी. पी. ठाकुर केर सम्मान संग अन्य मुद्दा पर सेहो बातचीत केर थिक। हालहि ११ दिसम्बर जन्तर-मन्तर पर मिथिला राज्य केर स्थापनाक मांग संग एक-दिवसीय रूटीन धरना मे सहभागिता उपरान्त डा. बैजू द्वारा डा. ठाकुर केर सम्मान कयल गेल छल।