तेसर मैथिल वर-वधू परिचय सम्मेलन मधुबनीक आयोजन पर आयोजकक बैसार मुम्बई मे

मुम्बई सँ राजकुमार झा – मैथिल समन्वय समिति द्वारा तेसर बेरुक वर-वधू परिचय सम्मेलन केर तैयारी पर समीक्षा बैसार सम्बन्ध मे निम्न जानकारी व्हाट्सअप मार्फत शेयर कएने छथि। 

विदित हो जे आगामी १८ नवम्बर मधुबनीक वाटसन स्कूल केर प्रांगण मे मैथिल वर-वधू परिचय सम्मेलन एहि वर्ष तेसर बेरुक आयोजन होयत जाहि मे मिथिलाक लोक केँ प्रवासक स्थल सब पर बिखैरकय रहबाक कारण जे विवाह-दान मे तकलीफ होइत अछि तेकर समाधान लेल एकटा उचित डेग केर रूप मे आयोजन केँ बुझल जा रहल अछि। एहि मे सहभागिता लेल www.matrimony.maithil.org पर विवाह योग्य वर आ कन्याक परिचय रजिस्टर करय लेल कहल गेल अछि। आउ पढी राजकुमार झा केर रिपोर्ट बैसार केर सम्बन्ध मेः

थोपड़ी बजैत रहल, उत्साह बढ़ैत रहल”

सुरभि हॉलक आंतरिक वातावरण सुरभिमय बनल छल । उत्साह, आनंद आ उमंगक त्रिवेणीक संगम स्पष्टतः परिलक्षित भS रहल छल । तेसर “वर-वधू परिचय सम्मेलन” आयोजनके तैयारी संबंधित आम बैसारमे उपस्थित मातृशक्ति, मान्यवरगण आ नवयुवक अपन सर्वश्रेष्ठ योगदान हेतु उत्साहित छलाह । गोसाउनिक गीत “जय-जय भैरवि, असुर भयाउनि…. “सँ भगवतीक वंदनाक मंगलमय प्रस्तुति बान्हि देलक उपस्थित जनसमुदायकें । तदनुपरांत प्रारम्भ भेल ऐतिहासिक सम्मेलनकें आयोजन संबंधित महत्वपूर्ण विचार-मंथन ।

परमादरणीय श्री बिनोद झाजीक अध्यक्षतामे मंच पर विराजमान संरक्षक महोदय आदरणीय डाॅ. संदिप झाजी, अध्यक्ष महोदय आदरणीय श्री प्रेमजी, आदरणीय श्री अशोक सिन्हाजी एवं मंच संचालनक दायित्वके निर्वहन करैत संयोजक पंकज झाजी मैथिल समन्वय समितिक कार्य उद्वेश्य एवं भविष्यक कार्ययोजनाक विस्तृत जानकारी उपस्थित महानुभाव लोकनिक समक्ष प्रस्तुत कयलनि । धनंजय झाजी द्वारा मैथिल समन्वय समितिक तत्वावधानमे विगत् आयोजित भS चुकल “वर-वधू परिचय सम्मेलन” केर आयोजनक अनिवार्यता किऐक अनुभव कयल गेल ताहि पर विशेष रूपें उल्लेख कयल गेल । परमादरणीय संरक्षक महोदय, परमादरणीय अध्यक्ष महोदय एवं परमादरणीय अशोक सिन्हाजी द्वारा प्रस्तुत कयल गेल सम्बोधन समितिक प्रति रूचि आ आस्था रखनिहार सेवाधारीक लेल उत्साह उत्सर्जित कयलक ।

जेनां विभिन्न पुष्पदल एकठाम एकत्रित भS फूलबारीक शोभाकें वर्द्धित आ सुभाषित करैत अछि तहिना मैथिल समन्वय समिति रूपी फूलबारीमे मैथिल समाजक सभ वर्ग सम्मिलित भS समितिक लक्ष्य आ उद्वेश्यरूपी मकरंद सँ सुभाषित करेबाक सत्प्रयासक प्रति संकल्प, सुखद भविष्यक शुभ संकेत थिक । एतेक सुन्दर आयोजन हेतु समितिक उपाध्यक्ष आदरणीय भगवान चौधरीजीके हृदयस्थ अभिनंदन करैत हुनक समितिक प्रति समर्पणके नमन करैत छी । राष्ट्रगानक उपरांत स्मरणीय आम बैसारक विधिवत् घोषणा कयल गेल। जय श्री हरि ।