दहेज उत्पीड़णक कारण दहेज मुक्त मिथिलाक मिथ्याचारी संरक्षक पर सामाजिक कार्रबाई

दहेज मुक्त मिथिलाक छठम् वार्षिकोत्सव पर मुम्बई मे समारोह

दहेज मुक्त मिथिलाक मुम्बई महाबैसार

 
* दहेज उत्पीड़णक एक खतरनाक मामिला
 
* स्वयं दहेज मुक्त मिथिलाक एक सम्माननीय पदेन सदस्य पर आरोप
 
* शंका आ सन्देहक कारण वैवाहिक सम्बन्ध बिगड़बाक केस
 
* घर मे आनल गेल पुतोहुक आत्मसम्मान केर रक्षाक बदला ओकरा घर मे नौकरानी बनाकय रखबाक कुचक्र
 
* महिलाक स्वाबलंबन आ जियय लेल न्युनतम् स्वतंत्रता हनन केर मामिला
 
* सामाजिक बैसार सँ निदान तकबाक प्रयासहु मे लड़का पक्षक अहंकार प्रदर्शन

* आरोपी पं. धर्मानन्द झा दहेज मुक्त मिथिलाक संरक्षक सहित समस्त पदभार सँ निष्कासित

उपरोक्त विभिन्न सन्दर्भ पर दहेज मुक्त मिथिलाक अन्तर्राष्ट्रीय संयोजकक रूप मे पहल करैत मुम्बई स्थित मैथिलीभाषी-मिथिलावासीक विभिन्न संस्था आदिक नामी-गिरामी व्यक्तित्व लोकनि संग आग्रह करैत दहेज मुक्त मिथिलाक पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री पंकज झा केर संयोजन मे काल्हि २९ जुलाई, २०१८ रवि दिन मुम्बई मे एकटा महाबैसारक आयोजन कयल गेल छल। समाजक लोकक संग कन्या पक्ष आ वर पक्ष दुनू केँ बैसेबाक, हुनका लोकनिक पक्ष बुझबाक आ तदोपरान्त समाजक तरफ सँ समाधान लेल सुझाव आ निष्कर्ष देबाक, पीड़ित पक्ष केँ न्याय दियेबाक कार्य करबाक मूल उद्देश्य सँ राखल गेल उपरोक्त महाबैसार मे सब कियो उपस्थित भेलाह, मुदा लड़का पक्ष उपरोक्त महाबैसार मे उपस्थित होयब गछलाक बादहु बैसार सँ ठीक ३ घंटा पहिने लड़का एहि लेल तैयार नहि होयबाक आ लड़की संग आगाँ जीवन निर्वाह नहि कय सकबाक, बरु जेल खटब वा आत्महत्या कय लेब आदि अनाप-शनाप बात लिखि समाजक बैसार मे हिस्सा नहि लेबाक जिद्द राखि अन्ततः महाबैसार मे भाग नहि लेबाक सूचना देलनि। परञ्च दहेज मुक्त मिथिलाक तरफ सँ राखल गेल महाबैसार हुनकर उपस्थित नहि भेने रद्द नहि कयल जा सकैत छल, कारण समाजक लोक सर्वोपरि होएत छैक आर संस्थागत आह्वान एहि तरहक अविवेकी वा कोनो एक पक्षक अपन अलगे तरहक जिद्दक कारण नहि रोकल जा सकैत छल, ताहि कारण बैसार करायल गेल। लड़की पक्ष आबिकय अपन पूरा बात रखलनि। समाजक लोक जिनका विवाह सँ आद्योपान्त धरिक सब बात बुझल-गमल छन्हि ओ सब कियो एहि विषय मे मंथन कयलनि। सीधा बात जे लड़का पक्ष सामाजिक बैसार तक मे नहि आबि दूरभाष द्वारा समाज केँ नहि मानबाक बात कहि बहिष्कार कयलनि, ताहि लेल सम्पूर्ण समाज एकमुष्ट स्वर मे आरोपी पक्ष केँ समाज सँ बहिष्कार करबाक आ कानूनी तौर पर ई लड़ाई लड़ि लड़की केँ न्याय दियेबाक वचनबद्धता प्रकट कयलनि।
 
संगहि, दहेज मुक्त मिथिला आरोपी व्यक्ति धर्मानन्द झा जिनका संस्थाक संरक्षक पद पर ससम्मान स्थान देने छल, जिनकर अनेकानेक योगदान केँ पर्यन्त सराहना करैत छल – तिनका आइ बाध्य भऽ समाज द्वारा दोषी ठहरेबाक, समाजक बैसार मे नहि आबि अपन अहंकार आ अटेरी देखेबाक कारण हुनका तुरन्त प्रभाव सँ पदमुक्त करैत अछि; आगामी समय ओ संस्थाक नाम अपन नाम संग जोड़िकय कतहु प्रयोग नहि करथि आर समस्त मिथिला तथा भारतक एक-एक सजग जनमानस केँ हुनका द्वारा भेल मिथ्याचार केँ जा धरि उचित रूप सँ सुधार नहि कयल जाइत अछि ता धरि लेल सामाजिक बहिष्कार करबाक आह्वान करैत अछि। दहेज मुक्त मिथिला संस्थाक रूप मे एक पति-परित्यक्त बेटी केँ न्याय दियेबाक लेल वांछित कानुनी सहयोग लेल शीघ्र विभिन्न स्तर पर विचार-विमर्श करैत महिला आयोग, महिला हिंसा एवम् उत्पीड़ण प्रकोष्ठ तथा सिविल क्राइम केर निबटारा लेल प्राथमिकी दर्ज करायल गेल थाना, अदालत, हाई कोर्ट आदि धरि उचित रूप सँ पीड़ित के संग देत।
 

छोट मे ईहो बता दी –

दहेज सिर्फ नगद मांग (तिलक) मात्र नहि बल्कि विवाह पूर्व अनेकानेक शर्त आ विवाहक बादहु किनको बेटी केँ अपना घरक पुतोहु बनाकय रखबाक लेल विभिन्न शर्त जबरदस्ती लादब – ईहो दहेज उत्पीड़णक मामिला भेल। मुम्बई स्थित धर्मक एक प्रसिद्ध स्थल मे पूजारी केर भूमिका मे रहैत, पूरा आस्थावान् लोक-समाज लेल ‘गुरुजी’क रूप मे जानल गेनिहार व्यक्तित्व, स्वयं दहेज मुक्त मिथिलाक नारा केँ बुलन्द करबाक लेल संकल्पित व्यक्तित्व – आइ एहि तरहें अपन पुत्रक जिद्द आ संगत मे दबंगइ सँ मामिला फरिछेबाक अहंकार रखनिहार व्यक्तिक चलते समाज सँ बहिष्कृत हेता ई अकल्पनीय छल हमरा सब लेल। लेकिन समाज मे कतबो धर्मक चोला ओढि, पब्लिक केर समक्ष मीठ-मीठ बात बाजि आर फेसबुक पर अपन बड़का-बड़का स्वच्छ विचार आ फोटो देखाकय थोड़ेक समय लेल जरूर केकरो बरगलायल जा सकैत छैक – असलियत एक न एक दिन देखाइते टा छैक…. बिल्कुल ताहि तरहक ई केस आइ हमरा लोकनिक सिर नीचाँ कय देलक अछि।
 
एकर प्रायश्चित आब एक्कहि टा बुझा रहल अछि जे सतायल गेल बेटी सँ बिना कोनो अपन शर्त रखने सिर्फ ओकर मोन आ विवेक केँ मानि ओकर सोहाग, भाग्य आ सिन्दूर केर मर्यादा ओकरा लौटा दी। एहि लेल स्वयं लड़का, पिता, माता, भाइ ओ परिजन – जे-जे लोकनि ओहि बेटी पर अत्याचार कयलनि से बिना कोनो समय गमेने माफी मांगि ओकरा अपन घरक मलिकाइन बना ओकर जीवनक सुरक्षाक बन्दोवस्त करथि। वा, ओ पीड़ित समाजक बचिया जेना चाहैत अछि तेना ओकरा न्याय दी। ओ खुश त हम सब खुश।
 
जानकारी लेल – समाजक राय एहि वीडियो पर देखि सकैत छीः

https://www.facebook.com/pravin.choudhary/videos/10157283730298492/?t=13

https://www.facebook.com/alok.jha.90834/videos/1785439004883778/?hc_ref=ARSoyUDHWXZ-dmjDMgMeIKXN-P2mYWJAvruYARxTpnixAygZuwGhgTI6ctj7v_3-dAM
 
हरिः हरः!!