रहुआ-संग्राम मे शुरू भेल दुइ-दिवसीय लक्ष्मीनाथ गोसाईं महोत्सव २०१८

रहुआ-संग्राम, मधेपुर। अप्रैल १, २०१८. मैथिली जिन्दाबाद!!

– लक्ष्मीनाथ गोसाईं महान उपदेष्टा छलाह – प्रो. शशीनाथ झा
 
– विशाल साहित्य, भक्ति दर्शन, समाज एवं देशक स्थिति अपन जीवन मे दर्शौलनि।
 
-गोसाईं केर सब साधना स्थली आइ धरि ज्ञान प्राप्तिक केन्द्र अछि।
 
– साधना स्थल पर पीपरक वृक्ष केँ बोधि वृक्ष समान बतौलनि।
 
– गोसाईं जीक प्रत्येक वचन आइयो अनुकरणीय अछि।
 
– द्विदिवसीय संत शिरोमणि लक्ष्मीनाथ गोसाईं महोत्सव केर भेल शुभारम्भ
 
– योगाभ्यास आ शोभा यात्रा प्रातः काल निकालल गेल।
 
– लक्ष्मीनाथ गोसाईं पर परिचर्चाक भेल आयोजन
 
– मिथिलांचलक कतेको रास साहित्यकार, साधक व समाजसेवी समारोह मे भेलाह सम्मिलित ।
 
मधेपुर प्रखंडक रहुआ-संग्राम पारसमणि धाम मे संत लक्ष्मीनाथ गोसाईंक साधना स्थल पर दुइ दिवसीय महोत्सव केर आयोजन कयल गेल अछि । साधक प्रभाकर आचार्य द्वारा प्रातः काल योगाभ्यास सँ कार्यक्रम केर शुरूआत भेल । स्कूली बच्चा एवं साधक लोकनि बाबाजी केर जयघोष सँ गुंजायमान गामक प्रमुख मार्ग पर शोभा यात्रा निकालल गेल ।
 
डाॅ खुशीलाल झा, कमलाकान्त झा, अजित आजाद, डाॅ ममता झा, डाॅ रामसेवक झा, नारायण झा एवं मलयनाथ मिश्र द्वारा संयुक्त रूप सँ दीप प्रज्वलित कयकेँ कार्यक्रमक विधिवत् उद्घाटन कयल गेल । दिवाकर झा ‘सुमन’ द्वारा गोसाउनीक गीत व ‘प्रथम देव गुरूदेव जगत मे’ केर गायन सँ लक्ष्मीनाथ केर वन्दना कयल गेल ।
 
आगत अतिथि लोकनिकेँ पाग-दोसल्ला सँ आयोजक मंडल द्वारा सम्मानित कयल गेल छल । कार्यक्रम केर अध्यक्षता करैत रहुआ-संग्राम केर पूर्व मुखिया कमलाकान्त झा कहलनि जे एहि तरहक आयोजन प्रशंसनीय अछि । वर्तमान परिप्रेक्ष्य मे जनमानस केँ बाबाजी सँ प्रेरणा लेबाक चाही । मुख्य अतिथि डाॅ खुशीलाल झा कहलनि जे बाबाजी केर पंचरत्न गीता सँ हमरा लोकनि केँ शिक्षा लेबाक चाही । डाॅ ममता झा द्वारा माय-बहिन सब सँ अपना-अपना घर मे बाबाजी द्वारा गायल गीत सभ केँ गेबाक आह्वान कयल गेल जाहि मे भगवान् प्रति समर्पणक गाथाक संग मनुष्यक निर्धारित कर्म-कर्तब्यक सेहो बखूबी प्रेरणा भेटैत अछि । प्रो.शशीनाथ झा लक्ष्मीनाथ गोसाईं केँ महान साधक बतौलनि । डाॅ रामसेवक झा कहला जे समाजिक कुरीति केँ दूर करबाक लेल वर्तमान समय मे लक्ष्मीनाथ गोसाई जी सँ आत्मसात करबाक आवश्यकता अछि ।
 
योगदिवस केर दिन लक्ष्मीनाथ गोसाईंक प्रतिमाक आराधना हेबाक चाही । स्वरचित पंचरत्न गीता केर माध्यम सँ गोसाईंजी ब्रह्म केँ प्राप्त कयलन्हि। आजीवन अपन योग, कर्मनिष्ठ कर्तव्यपरायणताक संग समदरसी संतक रूप मे बिना कोनो भेद-विभेद समस्त मानव कल्याण लेल चिन्तन करैत रहलाह बाबाजी। एहि तरहक अनेकानेक यथार्थ मानवोपयोगी बाबाजीक सन्देश केर विशेष चर्चा करैत उद्घाटन सत्र मे विद्वान् वक्ता लोकनि लक्ष्मीनाथ गोसाईं केँ स्मरण कयलन्हि। कार्यक्रम मे मलयनाथ मण्डन, अजित आजाद, डाॅ योगानन्द झा, दुःखमोचन झा, प्रो शशीनाथ झा, नारायण झा, आनन्द कु झा, प्रणव नार्मदेय, कपिलेश्वर साहु, अशोक झा, हरिचन्द्र झा, अभयकान्त ठाकुर, अरविन्द मिश्र, नारायण यादव, सोहन मिश्र, रमाकांत झा, लक्ष्मी मंडल आदि सेहो सम्बोधित कयलन्हि ।
 
कार्यक्रम केर संयोजन सुमित सुमन कयलन्हि अछि, बाबाजीक जीवन पर आधारित एहि महत्वपूर्ण कार्यक्रमक आयोजन अपन जीवनक एकटा अत्यन्त महत्वपूर्ण उद्देश्य रहबाक बात कहि एकरा सफल बनेबाक वास्ते सभक सहयोग आ योगदान प्रति आभार प्रकट कयलन्हि । कार्यक्रम मे परिचर्चा गोष्ठीक अलावे पहिल दिन संध्याकाल सांस्कृतिक कार्यक्रमक आयोजन सेहो कयल गेल छल जाहि मे पवन नारायण गायक व हुनका संग आयल सांस्कृतिक टोली द्वारा विभिन्न कार्यक्रम परोसल गेल, एकर संचालन किसलय कृष्ण कयलन्हि ।