आइ तबियत सँ पाथर उछालल गेल अछि, आकाश मे भुर हेबे करतैकः अजित आजाद

एमएसयू द्वारा ‘मिथिला डेवलपमेन्ट बोर्ड’ केर स्थापना लेल कयल गेल दिल्ली मार्च पर प्रतिक्रिया

– अजित आजाद

दिल्ली मे दस गोटे जमा हेबाक मतलब छैक। हज़ार गोटे जमा हेबाक मतलब त’ छैके। जन्तर-मन्तर पर आइ जे मंत्र पढ़ल गेल तकर विशेष अर्थ छैक। ‘मिथिलावाद’क जयघोषक संग हज़ारो मुट्ठी आकाश दिस तनल जकर गवाह बनल संसद मार्ग। एही रास्ता सँ निकलत मिथिला राज्य। मिथिला विकास बोर्ड एकटा माँग थिक जाहि मे उपेक्षित मिथिलाक आस निहित अछि। अपने नेता सभक कमजोरीक कारणे आइ धरि पछुआयल रहलहुँ हमरा लोकनि। नेतृत्व जखन कमजोर होइत छैक तखन विकल्प पर ध्यान जाइत छैक। M S U एकटा विकल्प बनिक’ उभरल अछि। मजबूत विकल्प। मिथिलाक चिर लम्बित स्वप्न साकार होइत देखा पड़ि रहल अछि। ई आगि जे एखन छाती मे अछि से जल्दिये अनेक चिमनी सँ निकलैत देखब।

आरोप-प्रत्यारोप चलैत रहैत छैक। समय-शिला पर रहि जाइत छैक केवल मजबूत पैरक निशान। ओही चेन्हासी पर भविष्य अपन यात्रा तय करैत छैक।

आइ तबियत सँ पाथर उछालल गेल अछि, आकाश मे भूर हेबे करतैक।

देखब, भखरब नहि। एकता बनल रहय। कारण, आब अहाँक एकता पर आक्रमण करताह किछु क्षुद्र लोक। उखरब नहि आ मखरब सेहो नहि।

ज़िंदाबाद एमएसयू…