जीवनक एक अति महत्वपूर्ण सूत्र केर व्याख्या

जीवनक ई सूत्र थिक   हमर एक प्रिय भजन अछि 'सीताराम सीताराम सीताराम सीताराम - यह नाम बनाया प्रथम पूज्य गणपति जी को पल मे' -...

संस्कार केर मुख्य स्रोत आ मौलिकता पर हमर विचार

विचार - प्रवीण नारायण चौधरी संस्कार हमर पिता अपन उत्तरार्ध जीवन मे समाजक बच्चा सब केँ पढ़ेनाय, होमियोपैथिक दबाइ के किताब पढ़ि डाक्टरी सिखने रहबाक कारण डाक्टर...

मनन करय योग्य किछु बात

विचार - वन्दना चौधरी मनन करै योग्य किछ बात 🙏 आय हम भोरे भोर अपन घर के सोचलौं किछ विशेष सफाई करै छी, कियैक त किछु दिन...

मातृभाषा मैथिली आ हमर लेखन रुचि

लेख - वन्दना चौधरी मैथिली भाषा के शिक्षा उत्तरप्रदेश के काशी स्थित कोनो विद्यालय में प्राप्त करबाक अवसर उपलब्ध नहि छल। लेकिन हिन्दी लेखन में प्रारंभिक...

महिलाक सम्मान मे पागक स्थान पर चुनरी-खोंइछ आदिक प्रयोग हो

स्त्रीक माथ पर सम्मानक प्रतीक 'पाग' - कहीं समलैंगिकता केर प्रोत्साहन त नहि? (विचार, प्रवीण नारायण चौधरी) आदरणीय स्त्री समाज हमर बातक अर्थ उल्टा नहि लगबथि,...

मिथिला मे रोजगारक पैघ अवसरः विज्ञापन एजेन्सी

विचार - प्रवीण नारायण चौधरी विज्ञापन सँ जुड़ल उद्यम आ रोजगारक अवसर हिन्दी भाषाक एकटा बहुत पोपुलर कहिनी छैक - 'दिखता है सो बिकता है'। यथार्थो यैह...

मैथिली मे बनय कार्टून फिल्म

विचार - प्रवीण नारायण चौधरी बहुत जरूरी काज - मैथिली मे कार्टून कैरेक्टर आधारित फिल्म धारावाहिक के निर्माण आ प्रदर्शन   मिथिला ब्वाइज द्वारा मैथिली मे नीक-नीक कार्टून...

लव मैरिज कियै बढि गेल – दहेज लेबाक दुष्परिणाम एहि लोक सँ परलोक धरि...

विचार - प्रवीण नारायण चौधरी स्वर्णलता दीदीक समाद   आइ मैसेन्जर चेक करबाक क्रम मे भोरे-भोर जे सन्देश देखलहुँ ताहि पर केन्द्रित छी। स्वर्णलता दीदी लिखली अछि, "आइ...

हाइ के जवाब बाइ?

'हाइ' के जवाब 'बाइ' (निजी विचार) - प्रवीण नारायण चौधरी सच बात ई छैक जे हमरो कियो 'हाइ' कहिते ओकरा तुरन्त हम 'बाइ' कहि देल करी,...

युवा आ दहेज मुक्त मिथिला

युवा   ओना त युवा केँ परिभाषित करबाक पहिल आधार उमेर मात्र होइत छैक, मुदा उमेरक अधिकतम सीमा सेहो भिन्न‍-भिन्न हेबाक कारण युवा कहेबाक दोसर...