जय राष्ट्रवादक आड़ मे खेलबाड़

विचार

– प्रवीण नारायण चौधरी

राष्ट्रवाद केर जयकार करू… मन्त्रीजीक इच्छा पूर करू
 
मन्त्रीजी जहिया गाम अबैत छथि, एक बेर अपन क्षेत्रक विभिन्न मुख्य गाम सब मे निश्चित घुमैत छथि। एहि बेर एला त एकटा विचित्र युवक भेटलनि, मन्त्रीजी कतबू बुझबथिन जे अवस्था बहुत नीक बनि गेल अछि, मुदा ओ कहैत छन्हिः
 
“अवस्था केना नीक कहबैक? अपन भाषा-भेष लेल काज कयनिहारक कोनो पूछे नहि, हाई कमान्ड केर तरबा चाटनिहार आ समाज केँ बँटनिहारक पाछाँ दुनिया पागल देखैत छी। एकरा अहाँ कहैत छी मन्त्रीजी अवस्था नीक…. ई अहाँ जनता केँ ठकि रहल छी।”
 
“चुपू! चुप रहू। अहाँ सब भाषा-भेष आ कि कहाँ दैन मे लागल छी। विकास केर बात करू। कहू कि चाही?”
 
“से मन्त्रीजी! अहाँ कुनू बाहर सँ एलहुँ, अहाँ सेहो त जनिते छी अवस्था। विकास केहेन होइत आयल अछि अपना सब ओतय से चुनाव समय टा मे अहाँ केँ मोन रहैत अछि? आब अहाँ सेहो सब किछु बिसैरिकय अपन पप्पाजी जेकाँ दिन राजधानी मे कटैत छी आ गाम एला पर जनता केँ फुसलाबय लेल एक बेर….”
 
“यौ लालजी! ई के थिकाह यौ? बड फचर-फचर बाजैत छथि। से हिनका सँ पूछियौन त ओ जे स्कूल बनबय लेल पाइ पठेने रही से केकर कृपा स? आ, अस्पताल मे दू टा बेड बढबा देलहुँ से हिनका नहि कहलियैन? ओ जे बाबन बिघा मैदान स डीह टोल धरिक डेढ किलोमीटर कच्ची सड़क जे पानि-बुन्नी मे चलय जोग नहि रहि जाइत छल – तेकरो बनबाबय लेल योजना पास करेलहुँ से केना-केना ई हिनका किछु नहि पता छन्हि। अहाँ सब हमर क्षेत्रीय प्रतिनिधि भऽ कय एना जे जनमानस केँ गोल-गोल मानसिकतामे राखब त यैह न होयत जे भरल गौंआँक सोझाँ काल्हिक टिनही हिरो सब हमरा आगू मे नेतागिरी करता?”
 
मन्त्रीजीक दमसैत आवाज सुनिकय एक बेर सभा सन्न भऽ गेल। मन्त्रीजीक प्रतिनिधि हकलाइत किछु बजितैथ ताहि सँ पहिने मन्त्रीजी फेरो बिफरैत बाजि उठलाह….
 
“आर हे बौआ! अहाँ केँ ई भाषा, भेष, क्षेत्र आदिक बात के सिखा रहल अछि? ई सब देश तोड़य वला क्षेत्रवादक बात थिक। हम सब राष्ट्रवादी दलक राष्ट्रवाद जनसेवक सब छी। क्षेत्रक विकास जरूरी छैक, मुदा समग्र राष्ट्रक स्थिति देखब बेसी जरूरी छैक। देखैत नहि छियैक, डेली ५ गो देशक सीमारक्षक सैनिक मारल जा रहल अछि। अलगाववादी सब देश तोड़य लेल बाहरी मुलुक सँ फंड पठाकय सेना पर पाथर-रोड़ा बरसाबैत अछि। देश ओकरा सँ निबटय मे बेहाल अछि। देखू त फल्लाँ प्रदेश मे कोना साम्प्रदायिक ताकत धर्मक नामपर मारकाट मचौने अछि… कोना एहि देश मे रिफ्यूजी सब आबिकय हावी भेल जा रहल अछि। आर, ई देशक एकटा राजनीतिक शक्ति एखनहुँ वोट लेबाक लेल ओकरा सभक तुष्टीकरण मे लागल अछि। अहाँक मन्दिर पर लाउडस्पीकर प्रतिबन्धित रहत, लेकिन ओकर मस्जिद मे अजान फुकेबाक लेल विशेष सुरक्षा व्यवस्था। देशक स्थिति देखू बौआ! ई मैथिली-मिथिला आ मैथिली मे प्राथमिक शिक्षा, आदि-इत्यादि बेकार मुद्दा सब थिक। बेरोजगार लोक नेता बनय लेल ई सब मुद्दा उठबैत अछि। अहाँ सब एहि सब चक्कर मे जुनि पड़ू। जय राष्ट्रवाद केर नारा लगाउ आ चौकन्ना रहू। देश मे ओकर सभक आबादी बढल जा रहल अछि। कनिकबो एम्हर-ओम्हर देखू कि सब कियो मिलिकय सौंसे सुड्डाह करू। हम थाना-मजिस्ट्रेट सब केँ मैनेज कय लेने छी। बस अहाँ सब उग्रताक संग राष्ट्रवादक नारा लगबैत देशक रक्षा मे लागि जाउ।”
 
सौंसे गौंआँ थोपड़ी पिटैत अछि। ओ युवा जे अपन भाषा-संस्कृतिक संग सामाजिक मान-मर्यादा आ स्थानीय विकास आदिक बात कय रहल छल तेकरा मूरी गोरय लेल बाध्य कय मन्त्रीजी खूब प्रसन्न मुद्रा मे चुनाव जितल दिन जेकाँ खनकदार हँसी हँसैत अपनहि फेर बात फेरैत छथि।
 
“अच्छा ई बात बताउ, हमर पार्टीक नेता फल्लाँ सिंहक बेटीक विवाहक कार्ड किनका-किनका लग आयल आ के-सब चलब?” गामक सब मुख्य लोकक नाम पहिनहि कार्ड पठबेबाक मैनेजमेन्ट कय लेने नेताजी एहि तरहें दोसर पत्ता फेकैत जनताक सम्पूर्ण मूड केँ अपना पक्ष मे कय लेलाक बाद अपन क्षेत्रीय प्रतिनिधि लाल केँ कनखी मारिकय ई देखबय के चेष्टा करैत छथिन जे देख लेलियैक न जनता केँ कोना राष्ट्रवादक नामपर आ धार्मिक उन्मादक नामपर दिमाग केँ भटकेलाक बाद भावुक जुड़ावक बात कयल जाइत छैक। फेर लाल केँ सेहो हिम्मत बढि गेलैक, ओ जोर सँ दहाड़ैत बाजल….
 
“मन्त्रीजी हमरा गामक सब केँ लगभग कार्ड पहुँचि गेल छन्हि। अपने आश्वस्त रहू आ ओतुका इन्तजाम देखू। एतय सँ हमरा लोकनि ५ टा बोलेरो आ २ टा स्कोर्पियो आ १ टा टबेरा मे हमरा संग ई युवक अभियन्ताक संगी-साथी चलता। हमरा सब केँ ओतय सब इन्तजाम समय सँ भेट जाय से कनी अपने देख लेबैक।”
 
“अवस्स! अवस्स!! ओतुक्का सारा चिन्ता हमर छी। हमर पार्टीक माननीय नेताक बेटीक विवाह पर हमर क्षेत्रक जनता बेसी सँ बेसी जुटैथ, ई हुनक आदेश अछि। तेकर खियाल अपने सब राखब। बेस, त आब हम चलब। जय राष्ट्र – जय राष्ट्रवाद!!”
 
सब कियो ‘जय जय! जय जय! जय राष्ट्रवाद!’ केर नारा लगबैत मन्त्रीजी केँ अरियाइत अबैत अछि। खिस्सा खत्तम – पैसा हजम!!
 
हरिः हरः!!