विरार मुम्बई मे २५ दिसम्बर केँ होयत भव्य विद्यापति स्मृति समारोहः संयोजक धनंजय झा

मिथिलांचल सांस्कृतिक समाज सेवा ट्रस्ट केर तरफ सँ प्रेस विज्ञप्ति
 
स्थानः विरार, मुम्बई (महाराष्ट्र) ।
दिनांकः २ दिसम्बर, २०१७ ।
 
प्रिय मैथिली संचारकर्मी,
 
अपने लोकनि केँ जानकारी करबैत हर्ष भऽ रहल अछि जे ‘मिथिलांचल सांस्कृतिक समाज सेवा ट्रस्ट, विरार’ केर तत्वावधान मे आगामी २५ दिसम्बर अपराह्न २ बजे सँ मिथिलाक जन-गण-मन मे स्थापित मैथिली भाषाक मेरुदण्ड महाकवि तथा राजधर्मक पुरोधा विद्यापति केर स्मृति पर्व समारोहक आयोजन होमय जा रहल अछि। ई आयोजन रौतवाडी गाँधी चौक विरार मे होयत। एहि अवसर पर महाकवि कोकिल केर आजीवन योगदान सँ सनातन मिथिला संस्कृति केँ भेटल अमरता प्रति स्मृतिक शब्द मैथिल विद्वान् एवं सामाजिक अभियंता, कवि-साहित्यकार लोकनिक संग मैथिल समाजक वरिष्ठ समाजसेवी लोकनि द्वारा राखल जायत।
 
महाकवि केर कवितक प्रभाव कोना जन-गण-मन केर कंठ मे आइ धरि विराजैत अछि, कोन तरहें ओ मिथिलादेशक राजाक गरिमाक रक्षा लेल कठोर गुप्तवासक जीवन जिबैत – दिल्लीक यवन शासक सँ अपन राजाक प्राणक रक्षा हेतु अपन विद्या, कला आ समर्पण सँ सफल भेलाह – संस्कृतक अगाध विद्वान् रहितो मिथिलाक आमजन लेल सहज बुझय योग्य भाषा मैथिली मे रचना करैत ‘देसिल वयना सबजन मिट्ठा’ केर क्रान्तिकारी नारा दैत अनुगामी शेक्सपियर आ तुलसीदास संग रविन्द्रनाथ ठाकुर समान प्रखर रचयिता लोकनिक आदर्श पुरुषक रूप मे विश्व पटल पर स्थापित होएत मैथिली एवम् मिथिलाक पहिचान केँ आइ सँ लगभग ८ सौ वर्ष पूर्वकालहि सँ विश्व परिवेश मे उच्च स्थान दियबैत हम समस्त वर्तमान मैथिल समाज केँ प्रतिष्ठा, आत्मगौरव आ स्वाभिमानक प्रेरणा सँ भरल सन्देश आइ धरि दैत छथि – यैह महाकवि कोकिल केर स्मृतिक मूल मर्म, उद्देश्य ओ लक्ष्य थिक। विद्यापतिक स्मृति सँ हुनकहि सेवक मुदा यथार्थ मे आराध्यदेव महादेवक रूप मे उगना आइयो ओतबा प्रसन्न होएत छथि, तैँ हम प्रवासी महाराष्ट्रियन मैथिल समाज लेल ई अवसर अत्यन्त गरिमा सँ भरल होयत। आजुक दिन अपन वेश-भूषा आ सिरस्त्राण पागक प्रयोग कय हमरा लोकनि जनक-जानकीक मिथिला मे जन्म प्राप्त कय महाकवि एवम् हुनकहि समान अनेकानेक विभूति लोकनि केँ स्मरण करब ई सच मे सौभाग्यदायिनी होयत।
 
बंधुगण! एहि समारोहक उद्घाटनकर्ता चर्चित एवं समर्पित समाजसेवी कमलजी सेठ करता, प्रमुख अतिथिक रूप मे हितेन्द्रजी ठाकुर, विशिष्ट अतिथिक रूप मे अपन विकासवादी छवि लेल प्रसिद्ध मिथिला विकासपुत्र व शिक्षाविद् डा. सन्दिप झा, प्रथम महिला महापौर श्रीमती प्रवीणा हितेन्द्र ठाकु, तथा आमदार क्षितिज ठाकुर सहभागी रहता। हिनका लोकनिक संग एहि समारोह मे विभिन्न अन्य गणमान्य व्यक्तित्व, समाजसेवी, संचारकर्मी, अभियन्ता लोकनिक सुन्दर उपस्थिति रहत। जनतब दी जे पहिल बेर शुरु होमय जा रहल “मैथिली संस्कृति प्रतिबद्धता सम्मान’ प्रदान करबाक परम्पराक शुरुआत होयत। एहि बेर प्रथम वर्ष ई सम्मान करीब २० गोट विशिष्ट योगदानकर्ता केँ देबाक निर्णय सम्मान हस्तान्तरण निर्णायक समिति द्वारा लेल गेल अछि। विद्यापति केर स्मृति हो आर मिथिलाक अदौकालीन सभ्यता मे निहित गीतनाद आ काव्य सरितक संग हास्य-प्रहसन नहि हो से संभव नहि अछि। जानकारी दय रहल छी जे एहि समारोह मे स्वरकोकिला मिथिलाक नाम केँ विश्व-स्तर पर पहुँचेनिहाइर राइजिंग स्टार टाइटिल केर उप-विजेता मैथिली ठाकुर स्वयं उपस्थित रहती। तहिना मैथिली गीत-संगीत मंच केँ अपन विशिष्ट गायकी सँ ओत-प्रोत कयनिहार माधव राय एवं आरो कतेको रास नवोदित – प्रतिष्ठित स्थानीय कलाकार लोकनिक सुन्दर संगम होयत।
 
कार्यक्रम आयोजनक समय सारिणी निम्न अछिः
 
दिनांक २५ दिसम्बर, २०१७
 
समय सारिणीः
२ बजे सँ रुद्री पाठक संग कार्यक्रम प्रारंभ – उद्घाटन सत्र
३ बजे सँ पारम्परिक कीर्तन
३ः३० बजे सँ कवि सम्मेलन
४ः३० बजे सँ विद्यापति गीत एवं मिथिलाक लोकगीत-संगीत
७ः३० बजे सँ स्वागत समारोह
८ः३० बजे सँ रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम
 
विदित हो जे एहि समारोहक अध्यक्षता मैथिल समन्वय समिति केर अध्यक्ष श्री प्रेम चन्द्र झा करता। तहिना स्वागाध्यक्ष श्री बौआकान्त झा, मंच प्रभारी श्री सुनील ठाकुर, निवदेक श्री देवेन्द्र झा (आयोजक संस्थाक अध्यक्ष) तथा संयोजनक कार्य हम धनंजय झा कय रहल छी। तहिना समारोह केर समस्त व्यवस्थापन हेतु एक ५१-सदस्यीय आयोजन समितिक सेहो गठन कयल गेल अछि। बाकी आजुक संचारप्रधान युग मे अपने लोकनि समारोहक मुख्य ध्येय, कार्यक्रम प्रारूप, सहभागी अतिथि, विद्वान्, कवि, कलाकार एवं आयोजन समितिक समस्त सदस्यक योगदान केँ सम्पूर्ण मिथिला समाज धरि – संगहि अन्य-अन्य भाषा मे राष्ट्र स्तर पर सेहो प्रचार-प्रसार कय अपन मिथिलाक लोकमानस मे संस्कृति, सभ्यता आ पहिचान प्रति जागरुक बनि सेवाभाव सँ कार्य करबाक संदेश केर भरपूर सहयोग करब, यैह अपेक्षाक संग, समारोह मे खुल्ला सहभागिता केर मद्देनजरि सब कियो जरुर सहभागिता दय कार्यक्रम केँ अपूर्व सफलता प्रदान करब से विनम्र अनुरोध अछि।
 
अपनेक विश्वासी,
 
 
धनंजय झा
संयोजक,
विद्यापति स्मृति पर्व समारोह, विरार