शर्माजीक ५० मैथिली चुटकुला

हास्य-प्रहसन लेखन साहित्य लेखनक एकटा विशिष्ट विधा मानल जाएछ। मैथिली भाषा मे एक सँ एक दिग्गज रचनाकार हास्यरस केर प्रयोग करैत अपन नाम प्रसिद्ध कय चुकल छथि। एहि मे खट्टर काकाक नाम बड़ ऊपर छन्हि। समाजक यथार्थ केँ चित्रित करैत बड़ा बेवाकी सँ ओ लेखन कार्य करथि। हुनकर जोड़ी एखन धरि नहि भेटल अछि हमरा हिसाबे, लेकिन प्रयासरत बहुतो लेखक जरूर छथि जे हुनकर पासंग बरोबरि कम सँ कम सृजन कार्य मे लागल छथि। विगत किछु समय सँ ‘मैथिली फकरा, खिस्सा आ गप’ नामक फेसबुक ग्रुप पर सक्रियता सँ लेखन कार्य करैत आबि रहल रंजन शर्माक लेखनी मे खट्टर काका जेकाँ सामाजिक विषय केँ पकड़िकय लेखन त नहि अछि, परञ्च हास्यरस केर अद्भुत प्रयोग खूब भेटैत अछि। खासकय वर्तमान युग जाहि मे लोकक पास लंबा-लंबा खिस्सा पढबाक समय कम छैक, हिनकर छोट-छोट रचना आ विषय वस्तु मे मिथिलाक मौलिक समाज, सर्वहाराक आवाज तथा जनबोलीक शैली बहुत प्रभावित करैत अछि। आउ, देखी हिनकर किछु लेटेस्ट रचना सबः रंजन शर्माजीक मूल घर सीतामढी जिला – जानकीजीक जन्मस्थली मूल मिथिला मे छन्हि। 

१.

लड़िकारी के किरकेट खेलै में अप्पन नेम कानून छलैह…

• आठ गो ईंटाक विकेट रहतै, चाहे तीन टा सीसो क डंटा
• पहिल बॉल “ट्राई बॉल” नै मानबे त खेल भंडोल
• जोन बाऊन्डरी सँ बहरा बॉल फेंकत, ओकरे लाबय पड़तै
• बैटिंग टीम अम्पायरींग करतै….
• भूषण कक्का के छरदेवाली पर डाईरेक्ट लगतौ त “छक्का” आ हुनका कम्पोउंड में गेलौ त आऊट
• अंतिम वैट्समैन अकेलइये वैटिंग करतै
• जे बीच मे खेल छोडत, उ बिहान से नै खेलतै
• जेकर शॉट से बॉल नल्ली में जायत ओहे निकालत
• पोखरि दने शॉट मारय पर एक बेरि वार्निंग, दोसर बेर आउट
• जोन बॉल बाहर फेकत, ओहे लायत, नै त नाया कीने पड़तै
• नेनवा बुतरु सब खाली फील्डिंग करतै आ अंत मे एक एक ओभर खेलायल जतै
• झोलअन्हार भेला पर बॉलिंग सोहरा क होतै
• देवार सँ लागिक कैच भेल त नॉट आउट
• तीन बॉल लगातारे वाईड फ़ेंकले त औवर कैंसिल
• जे जीततै, सेहे अगिला बेर पहिले वैटिंग करतै
• कीपर, विकेट लाइन के आगु से बॉल पकड़त त आउट नै होतै आर नो बॉल मिलतै
• बैटिंग नै भेंटत त फील्डिंगो नै करब
• तीन वॉल से बेसि पर रन नै बनल त बैट्समैन रिटायर
• एम्पायर क बात नै मनला पर खेल देखै बला क फैसला अंतिम फैसला होतै
• मैच के बीच, घरे सँ कोनो बोला लेलक त पारी नै कटतै..आक करब
•जेकर बैट सेहे ओपनिंग करतै
•आउट भेला पर अंपायर के किरिया खाय पड़तै तबहियें आउट मानल जयतै

एहन किरकेट कोन कोन खेलने छी ?
आठ गो बैट त माय चूल्हि में जारि देने रहथि आ तीन गो बाबू तोड़िने रहथिन पीठिया पर। सीसो क डंटा बला विकेट, उ तोड़े के जिम्मा मास्साहेब के छलैन्हि

😛😛

२.

बनतीतरी सांझिक….. कर-कर पन्नी में एगो साड़ी लsकs आयल आ अपन मलकिनी क दैत बाजल,
“ई लीय, राखू अपन साड़ी… हमरा नै चाही”
मलकिनी : तोर सबिक त अलगे टिमाक रहै छौ… मथा असमान में उरियाइते रहै छौ की..?… नइहर सँ भेंटल छैs ई हमरा…. दू चारे दिन त पहिरनही छी….. आ तोरा द देलियौ… त पुरान भ गेलै की ?
बनतीतरी : सुनु नेs… अहां त स्पिडेs धs लै छी कुनो बात पर
मलकिनी : भाक…कथी स्पीड धयने छी हम गै…. आब तोरा बनारसी चहियौ की… अतेक नीक साड़ी छै…आ तोरा….”
“…. ओ हो, सुनु त पहिने” बात कटैत बनतीतरी बाजल।
मलिकिनी : ने सुनब तोर बात….काज करै में पोसाई पड़ै छौ… त कर… नै त दोसर अंगना देख ले.. ढेर मिलतै… मुदा तोर जंका नकचढ़ौनी नैs चाही
बनतीतरी : अहां तs लड़ीsये धs लै छी कुनो बात के….. बात सुनब नैs….आ फैसला सुनबे लागब
मलकिनी : की बाजय क छौ बाज, मुदा दोसर साड़ी नै देबौ…कानि खोलिक सुनि ले
बनतीतरी : मलकिनी, साड़ी त बेसि छै…. हमर एते ओकाद केम्हर जे एहन साड़ी कीन क पहिरु…. मुदा जहिना जहिना ई सड़िया पहिर क आबय छी… त मालिक, हमरा पर….. अहां बूझिक कहिनो धेयाने नै दै छथि, आर उल्टे उपर सँ उ बगल बला मुंझौसा, अहांक मुंहलग्गा कपिलदेउआ पाछा सँ आक कय दा पंजिया लेइया…. हम नै राखब ई मुसीबत

😅😅😅😅😛😛😛😛

३.

एक आदमी ट्रक बला से पुछलकै, “की …भगत सिंह के जानय छी ?
ड्राइवर मूर नै में डोलबैत कहलकै, नै हम नै जानय छी
फेर पुछलकै, “आर सुभाष चंद्र बोस के “?”
ट्रक वाला : उंहूं… हुनको नै
आदमी : महात्मा गांधी के त जनते हेबे ?
ट्रक वाला : सेहो नै.. उ कुन छलाह
फेर पुछलकै, चंद्रशेखर आजाद के ?
ट्रक वाला : नैs… नामो ने सुनने छी
आदमी : त फेर ई…. अपन ट्रक क आगु कयला लिखवैने छियै

“शहीदों को प्रणाम”

ट्रक वाला: अरे भयबा
ई त हुनका सब लेल लिखवैने छियै जे हमर ट्रक के नीच्चा आबि गेल रहथि

😝😝😂😂😂

४.

बैंक मैनेजर, खिसिआइत क्लर्क सँ बाजल, “मिसिरजी अप्पन बैंक के पुरान आ प्रतिष्ठित गांहक छथिन आर तो हुनका सँ बत्तमीजी कयलहीं… चल माफी मांग हुनका सँ”

कलर्क: हेल्लोs… मिसिरजीsss.. मिसिर जी बाजय छी?
मिसिर जी : हंs मिसिरे बाजय छी…. केs..?
क्लर्क: जी… हम बैंक सँ बाजय छी सर
मिसिर जी : अच्छा… तs की ? की बात छै ?

क्लर्क: जी, हमरा सँ गलती भ गेल… काल्हि अहां सँ कहने रहियै नैs….. “भाड़ में जाउ”
मिसिरे जी : अच्छा हंs… तs की ?
क्लर्क: हंs तs आबि मतेs जायब

😅😅😅😅

५.

हम आई ले कोनोक “प्रोपोज उरपोज” नैs कयने छी…

कारण….
लड़िकारिये सँ मास्साहेब सिखबैक शुरू कयलन्हि…..”मान ले A के वैल्यू एतना छै आर B के ओतना… चल बता… A प्लस B के होल स्कावयर कते भेलै…?
कनि और नमहर भेलिये त सिखैलनि,… “मान ले,… चार आदमी, आठ घण्टा में तीन दिन के काज करै छै त पांच लोग मिलके ओतने देर काज करि के कते दिन में करतै”…..
कनि आर टेओलक भेलिये त सिखबलनि, “मान ले त्रिज्या क आधार एतना छै आर ओकर लम्ब ओतना छै, त त्रिज्याक क्षेत्रफल बता..”

मानैत मानैत कॉलेज पहुँचलियै जहां दोस मीत सब अपन अपन अटिया पटिया के ताक झांकि चालू क देलक, मुदा प्रोफेसर साहब फेर हमरे धरि लेलन्हि, “मान लीय…कि धरती के गुरुत्वाकर्षण सब जगह एक्के अछि त विषुवत रेखा आर दुनो ध्रुव पर…एक्के भार अलगा अलगा किया बुझाय छै”
पूरा लफंटूसी करे बला समय मानही आ suppose करे में गुजरि गेल….
आ जे जे भेंटेलन्हि ओहो मैथ पढा पढाक, मनबा मानबाक जिनगीये suppose करवा देलन्हि…

तहिना सँ हमहू ठानि लेलियै कि आब कोनोक प्रोपोज नै करब…
“खाली “मान लेबै” कि उ हम्मर छथि”

😅😅😅

६.

एक आदमी घरे लौटैत रहै कि रस्ता में ओकर गाड़ी खराब भ गेलै..
बहुत्ते राइत भ गेल छल आ उप्पर सँ कारि घुप्प अन्हरिया राइत….मोबाईलो क नेटवर्क गोल….
डरे त ओकर सभे किछ सटकल रहै….. एकदम सुनिसान… दूर दूर तक ले न कोना आगु नै पाछु…
गाड़ी साइड में लगलकै आ पैंरा ताकय लागल जे कोनो गाड़ी आबै त लिफ्ट मांगी…
दू अढ़ाई घण्टा बाद एगो गाड़ी बड़ धीरे धीरे आबैत नजर पड़ल त जान में जान अयलै…
लगिच्चा अयला पर गाड़ी रोकs लेल हाथ देलक… गाड़ी रुकलै नै बाकी आर किछ चढ़ लाइक धीमा भ गेलै… जवान झट सँ गेट खोलिक बैस गेलि.. मुदा भीतरे बैसैत ओकर होश खराब… गरदन सुखs लागल..
देखइया कि ड्राइविंग सीट पर त कोनो छित्ते ने छै..
गाड़ी अपने मने चलैत रहै….
एक त रात क अन्हार…ऊपर सँ एहन पिलही सटकाबै बला डsर..
ओकरा समझे ने आबैत रहै कि, की करू आ की नै…
उतरि जाऊ कि भीतरे रहू..
ई सब मोन में चलते रहै कि सामने रस्ता में एगो मोड़ आबि गेल …
तखने दू गो करिया हाथ ओकर बगल बला सीसा पर पड़लै आ गाड़ी घुमि गेलै… आ फेरु हाथ गायब …
अब त पैंट में पैखाना ने भेल…एहे गनीमत रहै नै त सब दस्सा भ गेल ओकर……
हनुमान चालीसा पढ़ क शुरू करि देलक.. आ भीतरे रहे में अप्पन ओकर बुधियारी बुझायल…
गड़िया धीरे धीरे ..रूकि रूकि कs आगा बढ़ैत रहल…..
तब एगो सामने पेट्रोल पंप नजर अयलै…
गाड़ी ओत जाक रूकि गेलै…
बेचारा आफ़ियत के नमहर सांस लेलक आ तुंते गाड़ी सँ उतरि गेल…
भरि छाक पानि पिलकै….
अतने में उ देखय छै कि एगो आदमी गाड़ी क ड्राइविंग सीट पर बैसे जा रहल छै….
उ दौड़इत गेल आ पकड़िक कहलकै, “एहि गाड़ी में नै बैसू…एहि में भूत छै…. हम एहि में बैस क एहि ठाम पहुंचलियै… नमहर नमहर कारि हाथ छैक ओकर..”
.
उ आदमी जोरि सँ ओकर गाल पर कड़क्का थप्पड़ देलक आर पुछलकै,
“साढ़… तों कखने बैसले एहि में….तखन सँ सोंचि रहल छी कि चलैत चलैत गड़िया एकदम सँ भारी कोनक भ गेल….”
ई हमरे गाड़ी छै…पेट्रोल खतम भ गेल छल त पाँच किलोमीटर सँ धकियबैत ला रहल छी…
भाक्क…. साढ़ नहिते…”

😛😛😛

७.

“की शुकुलजी… की बात…? बड़ खुश नज़र आ रहल छी…. किछ विशेष ?” मिसिर जी, शुकुल जी हंस्सी देखिक पुछलन्हि
शुकुल जी : हंs यौ…. खुशियक बात छै,….. हमर बगलगीर शर्माजी छथिन नेs…. हुनका दस लाइख के लॉटरी लगलैनि… आर हुनकर घरबाली हुलसि हुलसि क हमर घरबाली सँ गपियाय छलनि।

मिसिर जी : ठीक अछि, मुदा अहां किया अते कूदि रहल छियै… लॉटरी पड़लैनि शर्माजी कs… पाई भेंटतैनि हुनका….घरैतिन हुनकर दांति निकालै छथिन… गाड़ी उड़ी उ कीनतनि….ओहि सँ अहां के….. अहांअते किया खुश छी ? लॉटरिया में सँ किछ भेंटत उटत की ?

शुकुल जी : नै यौ… छै तs बगलगीरेs मुदा एक नम्बर के करमकीट छै साढ़ …. हमरा की देतै… मैलो नs देबs बला छै
मिसिर जी : तब किया अहांक दांति नै तोपाइया ?
शुकुल जी : आइ भिनसरेs…. साढ़ के…. लॉटरिया क टिकट हुनक कुकुरबे चिबा गेलै

😅😅😅😅😜

८.

नन्हकू मिसिर के सौंआं जनमदिन अयलै त पोता परपोता सबि मिलके हुनकर जनमदिन मनैलनि.. सब कोना बधाई दय छलन्हि…
ओहे में जमुना शुकुल पुछलखिन्ह, “कक्का… अखनो अहां फिट्टेs छी… एहि उमिर में एते फिट… आखिर राज की अछि..?”

मिसिर बाबा अपन सेहत क राज बतबैत बजलन्हि, “देख…. हम्मर बिबाह पचहत्तर बरीस पहिने भेल छलs… आ ओहि बेरी… हम तोर काकी सँ आ काकी तोर हमरा सँ सत् कयने रहथि कि जहिनो अपना दुनो में झगड़ा चाहे बहस हेतै… त’ हारय बला… घर सँ बहार जाकs दू कोस पैदलेs चलि क आयत..
आ… ओहि दिन सँ कोनो एहन दिन नैs भेल जेहि में रगड़ा ने भेल आर हम पिछुलका पचहत्तर बरिस सँ रोजे खुलल हवा में बहरा चले चलि जाय छियै… एहे राज छै हम्मर सेहत केर…”
तब ओम्हर सँ दमोदर झा आक पुछलन्हि, “ठीक छै… मुदा काकीयो त ओहने अहीं जंका… पातर-छीतर आ टनकगर छथिन्ह.. एकर की राज छै ?”

मिसिर बाबा उहो राज खोललन्हि,”उ दोसर राज छै… हम्मर घरबाली सबदिन्ना….. हम्मर पीछा करैत रहथि दू कोस ला… ई देखबाक लेल कि हम ओतs दूर जाइ छियै कि नैsssss… बुझायल..?”

😛😛😛

९.

एगो ‘मुखिया जी’ के मिसिर जी ‘बोतो’ कहि देलन्हि…..
आब त मुखिया जी बमकि क फायर….. बस चलतियै त ओहि ठाम पटकि पटकि क धो देतयितनि…. मुदा मुखिया पोस्ट के इज्जत…. खून पीकs रहि गेलाह….. मुदा कोर्ट में मोकदमा ठोकि देलनि…

जज साहेब, “बोतो” बाजय पर मिसिर जी सँ पूछताछ कयलनि…. तs बेचारा मिसिर जी अप्पन गलती मानैत माफी माइंग लेलाह…

जज मुखिया जी सँ कहलखिन…” मुखिया जी… आब तs ई अब माफ़ी माइंग रहल छै… किछ बाजय क छै ?

एहि पर मुखियो जी माफ़ी देबा लेल तैयार भ गेलन्हि….. मुदा एगो शर्त राखि देलन्हि कि आई के बाद मिसिर जी आब कोनो मुखिया के बोतो नै बजताह…..

मिसिर जी मान गेलन्हि कि आई से कोनो मुखिया के उ बोतो नै बजतनि

जज साहेब, मिसिर जी के बरी करि देलनि…

जाइते जाइते मिसिर जी जज साहब से पुछलनि,…..”योर हॉनर, हम तs आब मुखिया जीक बोतो त कहिनो नै बाजब….कान पकड़ै छी….मुदा एगो बात अहां किलियर करि दीय कि हम बोतो के मुखिया जी कहि सकै छी कि नेs…?

जज साहेब बजलनि,
“बोतो के जे मोन होय से कहू….. कोर्ट के ओहिसँ किछ दरकार…कोनो माने मतलब नैs”

बाहर निकलि गेलन्हि मिसिर जी… आ पाछु सँ अमला फयदा संग मुखियो जी। कैम्पसे मे… पता नै केम्हर से एगो बोतो आक टहलैत रहै….
मिसिर जी बोतउआ लग जाक बजलाह,…. “अच्छा आज्ञा दिउ मुखिया जी… आब चलै छी हम”

😅😅😅

१०.

बिबाह क दू दिन पहिने….
होबय बला घरबाली क मेसेज आयल फोन पर…
“सॉरी….. आबि हम्मर बिबाह अहां संग नै भ सकैइया…. केम्हरो आर जगह फिक्स भ गेलै..”
दूल्हा बने कs दिन राइत सपना देखने, लड़िका क मुंहि लटकि ढाबुस सन भ गेलै आर… ओ.. टेंशन में आ गेल….

आध घण्टा बाद फेरु मेसेज आयल…
“जाsssss..ह.. गलती सँ ई मेसेज अहांक चलि गेल…?”
आबि तs लड़िका….
एमरी आउर जबरदस्त टेंशन में….

😅😅😅😅

११.

वकील कक्काक बेटी के बिबाह छल.. लवा-भुज्जी होबय बला रहै….. आर एम्हर पंडी जी आंखि बन्दि करि के… मंतर पढ़ैत रहथि…. एगोs मंतर पढ़िक बजलनि…. “ॐ गन गणपते नम:…. 51 रुपैया दक्षिणायां समर्पियामी”… एतना फेर पढ़िक वकील का सँ बजलनि, “चढ़ाsउ 51 रुपैया….. वकील का, 51 टका फांड़ा में सँ निकालिक राखि देलनि….

फेर पंडीजी आंखि ओंहाइते बंद करिक मंतर पढै लगलनि… कनि देर बाद फेर….
“ॐ गन गणपते नम: ….101 रुपैया दक्षिणायां समर्पियामी”…. फेर धरु 101 रुपइया गणेशजी पर…. वकील साहेब 101 रुपैया धरि देलनि

फेर आंखि बंद क शुरू… मंतर शुरू भ गेल…. आ मंतर खत्म होबते….”ॐ गन गणपते नम: 151 रुपैया दक्षिणायां समर्पियामी ” राखू ने 151 गो गणेशजी पर…. बेचारा वकील का… 151 गो फेर राखि देलनि…

पंडीजी क फेर आंखि बन्द… आ झूलि झूलिक मंतर पढैक चालू…

वकील का सोचै लगलनि कि आय त पंडीजी दक्षिणा धरबबैत धरबबैत एगो चवननियो ने छोड़ताह फंsड़ा में…… किछ उपाय खोजs क चाही। ओम्हर पंडीजी आंखि बन्द कयने झुमैत रहथि… एन्नेss… वकील कक्का झट सिना गणेश जी क उठाक पाकेट में नुका लेलनि….

पंडीजी मंतर पढ़ला के बाद…”ॐ गन गणपते नम:.. 201 रुपैया दक्षिणायां समर्पियामी”… धरु तs गणेश जी पर 201 रुपैया…..
मुदा आंखि खोलिते देखै छथि….
ले बलैया…. ई की..?
गणेशेs जी गायब… ?

पंडीजी एम्हर ओम्हर हुलकैत खोजि खाजिक पुछलन्हि : यौ जजिमान… गणेश जी केम्हर गेलखिन ?

कक्का बजलन्हि , “यौ सरकार.. कते घनघोर लगन अछि सगरो आय… आर कोनो हमरे बेटी क अकेल्लइये थोड़बे बिबाह छै… आरो लोगिक बेटी सबिक बिबाह छै सँउंस देश दुनिया मे…. चलि गेल हेतन्हि केम्हरो… आरो दोसर दोसर बेटी सबिक असीरबादी देबे….
अहां.. अप्पन चालू रहल जाओ सरकार

😅😅

१२.

श्रीमती जी क तबियत खराब रहैन्हि त’ नरेश भाय डॉक्टर लग लs गेलन्हि… डॉक्टर जांच उंच क कहलकै
हिनका हीमोग्लोबिन कsम छैन्हि, आर शरीर मे आयरनोs बहुत्ते कम अछि….
श्रीमती जी : हूंsssss…
डॉक्टर : कमजोरी ने धरतैनि… देखियौ त कैल्शियम के कते कमी छैन्हि
श्रीमती जी (फुसफुसाइत) : हूंssss… बड़का डॉक्टर बने छथि ई
डॉक्टर : …आर रौद में करू तेल लगाक बैसू….विटामिन ‘डी’यो क कमी छैक अहांक….!
श्रीमती जी : अहां हमर साउस छी की…?
डॉक्टर : हम किया अहांक साउस रहू

श्रीमती जी :- बस करू डाक्टर साहेब… रहs दीय…. अहां त हम्मर साउसों सँ एक लग्गी आगा छी… दस साल भ गेल मुदा एते ‘कमी’ त” हम्मर साउसो नै निकालिनि कहिनो

😜😜😜😜

१३.

बिबाहक मड़वा पर लड़िकी लजायल दुबकल बैसल छलs… ओम्हर पंडीजी झूलि झूलिक मंतर पढ़ैत रहथि…
जेनहाइते पंडीजी बजलखिन लड़िका के, कि दान के बेरि भ गेल… अहां तर में अप्पन हाथ राखू आ उपर कन्या के….
तखन लड़िका, लड़िकी क कान में फुसफुसायल
“हम फूसि बाजिक बिबाह ने करs के चाहय छी…. हम पहिनहि बता दय छी…. बाद में ने बाजब कि हम्में नै बतैलों…. बाद में कोनो रगड़ा ने चाहय छी…हम्मर आय सँ पहिने सात आठ गो लड़कि सबसँ “चक्कर” छल.. अखने बूझि सुनि लीय..”

लड़िकीयो कनि पहुंचल बुधियार छल… ओहो फिसफिसाइय क फुसकल, ”
अहूं बेसि…चिंता ने करू…. टेंशन नै नs लीय… हमरा पता छै सब…. जखन दुनो गोरा क जनम कुंडलीया मिल गेल छै त साला करैक्टर कोना ने मिलतै

😛😛😛😅

१४.

बेचारा मरद सबिके त एनाहिये भरि दिन हरदी गरदी छुटल रहै छै आ…. हुनका तs कहिनो सोचहूं के मौका नै भेंटे छैन्हि….. कि बिबाह कs पन्द्रहेs बरीस बाद… किया ओ पैंतालीस पचास कs लागय छथि आर ओतने समय बीतला पर ‘मेमसाहब’ तीसेs साल क कोना ?

कारण छै…
साल भर के टैम में मेमसाहब छत्तीस गो पाबनि करतनि आ हरेक पाबनि में बहत्तर बेरि भगवान सँ एक्के बात गोहरैतनि…
“हे भगवान्… हमरो उमिर हिनकेs लागि जाये… हमरो उमिर लsकs जीयथि ”
भगवान सुनि लै छथि हुनकर बात…

बस्स…. ई सब किरपा… भगवानेs ओतs सँ ठेलाs रहल छै…
मानू……चाहे नै मानू

😛😛😛😅

१५.

हम, की अहां लोग सबिक शरीफ आ धर्मतमा बुझाय छी…?
ई भरम में नै रहू अहां सब..

शरीफ छियै,
मुदा ओतनो शरीफ आ धर्मतमा नैs कि मरे बेरि परान निकालि ला कs बाद… यमराज हमरा सँ बाजथि कि, ” चल….तों महीष पर बैस,….हम्में एकर पगहा धयने आगु आगु पैदsले चलै छी”
बुझलियै…

😜😜😜😜😅

१६.

ज्ञानक गप

शादी बिबाह में कर-कुटमयता सँ नेओता पिहानी में भेंटे बला पैंट शर्ट के कपड़ा….सियायत कहिनो ने…. बस खाली…. एम्हर सँ ओम्हर…. एई कुटमयता सँ ओहि कुटमयता बउआयत घुमैत रहत….

😉😉😉😉😅😅

१७.

एक आदमी सुलभ शौचालय में बैसल अप्पन भरि दिन के पेट मे जमा, जमापूंजी क “फरियबैत” छल…. कि तखने बगल बला “केबिन” सँ आवाज आयल…
“कीsss… केहन छी अहां….?”
आदमी घबरा गेलै मुदा तइयो बाजल…”हूंss ठीक छियै…”
फेर ओम्हर सँ : की…… की भs रहल छै?
आदमी : भाय… एहिsज्जा की हेतै….ओहे छी…..जे एतs… सब करै छै..
फेर ओम्हर सँ : बड़ सुन्नर…. हमहूं आ जाउ..?
आदमी : नैs..नैs.. हम असगरेs नीक छी… ओम्हरे रहू…. झिटकिन्नियो टूटल छै…. केनहैतो हदियायल बैसल छी

फेर ओम्हर सँ : अच्छा डार्लिंग… राखय छी… बाद में फोन करब… अखन कोनो उल्लूक पठ्ठा बगल बला में बैसल छै जे…. हम बतिया रहल छी अहां सँ… आर जबाब दs रहल छै उ हमरा

😛😛😅😅

१८.

मास्साहेब : गुरु चाणक्य अप्पन नीतिशास्त्र में कहने छथिन, …..ककरो…. एक्केs दुश्मन से…..रहि रहिक फेर फेर युद्ध नै लड़बाक चाही….नs तs….अहां अप्पन सभे ‘युद्ध कौशल’ आ “रणनीति” दुश्मन क सिखा देब….

मियोंs-बीबी क संबंधोs में इहे होई छै। दुनु योद्धा भरि जिनगी लड़ैत लड़ैत….. एक दोसर के “वार” अतेक जान-बूझि जाय छै कि…..लड़ाई जिनगी भर चलैत रहत… मुदा एकर कोनो स्थायी समाधान क नाम पर किछ नै निकलत…

चेला : त फेरु गुरुजी, ई समस्या सँ निकले कs लेल कुन उपाय… की करबाक चाही ?

गुरु : एक्के उपाय छैक…..”दुश्मन” बदलैत रहू

😛😜🤓😀😅

१९.

नया कनिया बिबाह भsकs अयलन्हि… भरि दिन आबय जाय, कनिया देखै बला सबिक गहमा गहमी रहै…. उप्पर सँ धिया पुता सबिक भरि दिन घर मे दौड़ा दौड़ी ताका झांकी , परेशान भ गेलिह। खैर, सांझि भेलै त किछ हल्लुक भेलनि….
राइत क पतिदेव जब घर मे अयलनि त आरो सिकुड़ि गेलन्हि… पतिदेव बुझिलन्हि जे नया घर, नया लोग, नया समाज, नया परिवार सँ कहीं अनभुआह लागैत होतैन्ह…. मोन में किछ किछ शंका शुंका हेतैन्हि………
एहि लेल कनि लगीच्चा बैस क प्रेम दर्शाब लगलन्हि….
आब इहे अहांक घर अछि… आब जे छै से एहे छै…. ई घर के अहां मन्दिर बनाक राखू… अहीं हमर साधना छी…. अहीं अराधना छी….अहीं हमर मोनक पूजा छी….अहीं आरती छी….अहीं हमर कल्पना छी….अहीं हमर जिनगी के कविता छी

ई सब सुनि सुनि क कनिया बिभोर भ गेलीह आर सिकुड़नाइ बन्द भsक…. हुनकर फूलिनाइ चालू भ गेलैन्हि…. ओहो भाव बिभोर भक बजलनि,….
“अहां कते नीक आ दरिया दिल छी… झूठ्ठे हम डेराय छलिह…
अहूं हमर पछुअत्ती बला दिनेश छी
अहां हमर भैंइ दुहेबला सुरेश छी
अहीं कॉलेज बला नीतीश छी
अहां ट्युशन बला रामफल सर छी
आर अहींक हम आब चकलेट देबै बला घनश्याम बूझब…

आत् तोरा के….
बेचारा क तs….मन्दिरक नेओं पड़ै कs पहिनहिय जमीन दरsकि गेलै आ भरि राइत टूटलहबा ईंटा, बालू आ सिमिन्ट सँ गदहकीरतन चालू रहल

😅😅😅

२०.

न्योता भेंटे पर हम कोनो बरियात नै छोड़य छियै….
एहि आस में कि,…..की पता….कखन दूल्हा बनल लरिका के मूड बिगड़ि जाये आर उ पिनइक कs बिबाह करै से मुकुइर जाय….
आरो कहीं हमरा भाग सँ…. बेटी क बाप बाजय,
“बेटाss…. आबि हम्मर लाज अहींक हाथ मे अछि…. राखि लीय”
आर हम…. करेज ऊंच कयने चारु दिस तकैत….अपन रोब देखबैत… ….. …… ….. ..

😜😜😜😜😅

२१.

गुरुजी स्कूल में लड़िका सबिक सामाजिक शिक्षा क पाठ पढ़बै छलन्हि…

“पत्नी आर पति… ई दुनो संसारि के गाड़ीक दूटा चक्का अछि…. एहि गाड़ीक दुनो चक्का में एक्को टा कोनो….. जे जाम भ जाये चाहे बिगड़ि जाये…. तs… संसारिक गाड़ी चलबै ने करतै…. ताहि लेल…”
पाछा सँ गोलुआ बाजल, “…….. ताहि लेल टंच स्टेपनी राखय क चाही”
तकरा बाद त मास्साहेब के छेंउकी … गोलुआ के “भालटू” कटे तक सपसपाइत रहल सड़ सड़

😛😛😛😅

२२.

एगो अंग्रेज आक हमरा सँ किछ गिटपिट गिटपिट अंग्रेजी में पुछलकै…. अंगरेजी आबय नै छलs….ने बुझलियै तs अपने भाषा मे जबाब दs देलियै… फेरु उ गिटपिटाइते चलि गेल…
भुनेसर कक्का हमरा पर बमक क फायर….
“इजत माटि में डुबा देले… की सोंचने हेतै… जे किछ पुछलिये त जबाबो ने भेंटल… कोन बोक्का सँ पाला पड़ल”
हमहू कहि देलियै,
“हम जानय छियै जे हमरा अंगरेजी उंगरेजी नै आबइया…
कोन जुलुम भ गेलै…. अंगरेजबो कs कोन मारे मैथिली आबय छै जे हम कानू…गलती त ओकरो छै… सीख क आब चाहैत रहै एत..”

😅😅😅😅

२३.

पत्नी होबय क चाही… तs चंदा कोचर सन सीईओ…… जे एक्के झटका में सवा तीन सौ करोड़ रुपइया आईसीआईसीआई बैंक सँ निकालिक अपन पतिदेव के दs दय….
एगो हम्मर भकोलि छथि… जे रोजे हम्मर बटुआ में सँ किछ ने किछ रुपइया घिंचैत रहतनि…. आ किछ पूछू त “हमरा की पता…. हम ने जानय छी…. हम कहिनो अहांक मोटरी चोटरी हींरैs छी की… अहीं सँ गिनs में गलती भ गेल हैत….. चाहे केम्हरो खरच कs देने होयब”। एतबा बजैत भीतरे घुसुकि जयतनि
बताबू …
कोनो जबाब छै एकर…?

😅😅😅😅😛😛

२४.

अपन श्रीमती जी के अल्बम के फोटू में अहांss….जखन श्रीमतीजी के दहिने आ बामे ठार हुनकर दूटा सुन्नर सखी सहेलर में सँ…… ककरा बेसि देखय छियै…. ओहिसँ अहां कोन विचारधारा के छी… से स्पष्टेs बुझा जायत।
बुझा जायत कि अहां “दक्षिणपंथी” छियै कि “वामपंथी”

मुदा, …
हुनकर दुनो सखी क नजरअंदाज करि क खाली अपन श्रीमतीये जी क ताकय छी तs विसबास करू, अहां छी एकदम शुद्ध खांटी…………
“कट्टरपंथी”

😜😜😜😜

२५.

अबर हाले….सऊदी अरब के एगो मौलाना साहेब….एकटा फतवा देलन्हि…जे… जखन भूख लागय…आर खयबा लेल किछ ने होबे त उ अपन घरोsबाली कs खा सकै छै…

यौ अरबी भाय लोग…. अहां सबि त बड़ भाग बला छियै जे अहां सबिक एहन घरबाली सब भेंटल जे एक्को रत्ती चू-चपड़ नैs करै छथि…
…..आर एकटा हम्मर सबिक छथि… जोन बिना कोनो फतवे के हर समय…..हमरे सबिक कांचे चिबबै लेल तैयार बैसल रहै छथि..

😜😜😜😅😅

२६.

मास्साहेब लरिका सबिक सत् करबैत रहथि स्कूल में..

मास्साहेब : हे..रे… लरिका सब… देश समाज के नीक नागरिक बनै लेल….तों सब आई हमरा सामने सत् कर, जे तों सब कहिनो दारू ताड़ी नै छूबे
भुटुक : ने छुअब सर
मास्साहेब : कहिनो दहेज नै लेबे, ई समाज के रोग छै
भुटुक : नै लेबै सर, के रोग पोसतै
मास्साहेब : कहिनो कोनो लड़िकी क पाछा नै पढ़बे
भुटुक : अच्छा अहां बाजय छियै तs नै पडब
मास्साहेब : कहिनो लड़िकी सब जौरे मटरगश्ती नै करबे
भुटुक : नै करब
मास्साहेब : जरूरत पड़ै पर देशक लेल जान परान लगा देबे
भुटुक : लगाइये देबै मास्साहेब… आबि बाकी की रहलै… आर एहन जिनगी राखिये क की करबै

😜😜😜😅😅😅😅

२७.

आयकाल एगो फैशन चलल छै…..
दू चारोs बरीस छोटगर लड़िकी होयत ने….. से हो ‘अंकल-अंकल’ कहि क बाजत…
काल्हि एक टा कन्या हमरो ‘अंकल’ बजलक.. मोन त कूढ़ि गेल मुदा हमहू एगो नीक अंकल जंका ओकर बाप सँ…. ओकर सभे “लफड़ा” सबि जना देलियै

😅😅😉

२८.

प्राइमरी किलास में मास्साहेब गणित सिखबैत रहथि। ओहि में नरेश भाय के छोटका गोलुओ पढै छल…
पढ़बैत पढ़बैत मास्साहेब अउंघायल गोलुआ पर सवाल दगलनि

मास्साहेब : बेटा गोलू… ,
गोलू : जी सर…
मास्साहेब : मानि ले… जे हम तोरा दस गो लड्डू देलियौ
गोलू : अंयs.. हम किया मानू…? अहां देबे नै कयलियै त मान केना लू आ मनला से की हेतै
मास्साहेब : अरे बुड़बक भकोल… गणित छै, मान ले नैs…. माने में तोर की जाय छौ
गोलू : ठीक छै.. अहांक मोन छै त मान लइ छी, मुदा याद राखब… अहां मुरजबानीये देने छी
मास्साहेब : हं.हं.. ठीक छै… आबि तों…. हमर देलहा में सँ पांच गो घुरा देले….. त कते बचतौ तोर लग…?
गोलू : 20 गो
मास्साहेब : कोनाक ?
गोलू : अहूं मानीये लीय ने… माने में अहूंक कथी जाइया…

😛😛😅

२९.

बिन्दा कक्का… दाढ़ी बनबै लेल गुदरी ठाकुर लग गेलाह आ बजलनि, “देख हमरा गाल पर.. कय ठाम गंहिंर-गुहींर छै जेई से दाढ़ी बनबै में केश छूटि छाटि जाय छै…. तोरा…? नीक सँ बनतउ..?”
ठाकुर : हं…. कक्का… बैसूss बना देब… एकदम चकाचक….
ठाकुर अपन दराज में सँ एकटा लकड़ी कs गोली निकालिक कक्का क देलक आर कहलकै,”जोन साइड हम बनायब, ओइ साइड… ई गोलिया के दांत आ गाल क बीच्चे राखब, जेना जेना बाजब, ओनाहीते गोली घुमायब… गंहीरा उप्पर भ जायत त एक्को टा केश ने छूटत..”
कक्का ओहने कयलन्हि।
एक साइड के दाढ़ी बनला के बाद लकड़ी बला गोली दोसर गाल दने करेत कक्का, ठाकुर सँ शंका सँ पुछलन्हि, “मुदा एहि दने से ओहि दने करैत ई गोली पेट में चलि गेल तब..?”
ठाकुर बड़ शांति सँ जबाब देलकै,
“त की भेलै…. काल्हि आकs लउटा देब… भिनसरे तs निकलिये जायत…. कतना लोगिक गलती सँ पेट मे ई गोलिया चलि जाय छै…. तs उ सब बिहान भेले… लउटाइये जाय छै… अहूँ ओनाहीते लउटा देब..”

कक्का ओइ बेरि से घरेs आक सांझि तक ला 200 बेरि कुल्ला करि चुकलन्हि आर बेटा के इनार पर दू बाल्टी पानि लेल पठैने छथि

😅😅😅😅

 

३०.

चलु गंगा स्नान… चलु बागमती निहाये…. चलु कमला जी..

बुढ़ि-पुरान लोग सब इहे कहि कहि क अपन अपन पाप धोबे नद्दी जायत रहथि.. आ मोन सँ चाहय छथि जे नबको सब एहे करै। हुनका सबिक बेरि ई सिद्धांत नीक छलैन्हि… मुदा आब…?
जुग बदलि गेल छैक, आब केतनो अहां नद्दी निहा क…अप्पन अदिया गुदिया…, करम-कुकरम बला पाप धो धा लीय, मुदा एहि भरम में ने रहू कि पाप कटि जायत….धोबा गेल…आ स्वर्ग में सीट बुक्के भ गेल…. कहि दै छी, पाप ओनाहिते लागले रहत…

ओहे पाप आ कुकरम धोयल पनिया, पीबा लेल… पाइप लाइन सँ फेरु, घुरिक अहींक घर मे आबय छै…. आर धोउ पाप

फूसि तs नै बजलियै..?

😅😅😅😅

३१.

जेतना तूफ़ान सब आबय छै.. सभे महिला लोगिक नाम पर रहत माने कि “स्त्रीलिंग”.. जे जनानी सबिक नमहर सम्मान आ इज्जत क रूप में देखल जाय छै… जेना ओखी, कटरीना, लीजा, लैरी, सुनामी, हनीफा, बुलबुल, सायरा…..
जे उठत त कते घंटा तक तबाही मचायत से दैबो नै जानत

आ एम्हर मरद (पुर्लिंग) क नाम पर… सब लsदs केवल एक्के टा “भूकंप” छै…
ओहो बेचारा बेसी से बेसी 10-15 सेकंड ला फड़फड़ा कs शांत भs जायत

😝😝😝😝

बेचारा ओपिंदर थाकल-मुकल सांझिक एकटा नमहर तरबुज्जा लsकs आयल। घर में घुसबे कयलाह कि देखय छथि कि हुनक ओपिंदराइन तरबुज्जो से बड़ मुंहि फुलौने बैसल छथि। ओपिंदर सोचय लागल कि आई जरूर काम करे बाली कोनो नीमन सूट पहिर क हिनका कुढा देने होयत ? फेर सोचलाह कि कहीं बगलवाली भौजी नय तँ कोनो चटकगर साड़ी देखाक आगि सुलगैलखिन ?
तखने एकटा करकरायल अबाज गूंजलि, “ल अयली तरबुज्जा ? अबि अपनहि काटब आओर अपने खायब ?
ओपिंदर कनि पुचकारs लागल : खिसियायल छी कीss…?
पत्नी : हम की खिसियाउ.. हम्मर त करमेs खिसियायल अछि… अहां हम्मर प्रोफाइल पिक्चर कियै न लाइक कयलियै?
ओपिंदर : अहां भरि दिन अप्पन प्रोफाइले फोटुये बदलैत रहब तँ आफिसो क काज करब कि बस एगो एहे काज छैक…?
पत्नी (कोप भ क) : पंडीजी क आगू तँ केतना ख़ुशी सँ सकारने रही कि सातो बचन निमाहयम…की झुठ्ठे बजै छी हम.. आंय…?
ओपिंदर : ओफ्फोह… अबि एहि में शादीक बचन केम्हर सँ घुसि गेल… आओर बचन देने छलिह जे अहांक सुख-दुखि में साथि रहब, साथि देब ? आ तखन फेसबुकोs त नैs छल ?
पत्नी : अरे एकटा लाइक द देतियै तँ कोन एहि में अंउठा घँसा जाइत ? मुदा हम्मर ख़ुशी क त कोनो बाते नय.. हम्मर ख़ुशी के बात होयत तँ सब भूलि जाय छी…. उ बड़का बड़का टिकुलीवाली आओर ओ बन्हकट्टी पहिरै वाली सब जे ऑफिस में छैक, ओकर प्रोफाइल पिक्चर पर त खुबे लाइक आ कमेंट करय छी
ओपिंदर (कनि मक्खन लगबैत) : चलू एहे बात पर चार गो लाइक आओर दू टा कमेंट क दै छी।
पत्नी : छोड़ू रह दीय , ओ फोटो बदल देने छी। कखन तक अहांक भरोसे ओ फोटो रहतियै

बेचारा ओपिंदर…… फोड़ि लेलनि तरबुज्जा अप्पन मथा पर

😅😅😅😅😅

 ३३.

पत्नी : आयकाल ने….अहां बहुत्तेs बदलि गेल छी… भरि मुंह बातो ने करय छी हमरा सँ..

पति : नै.. से बात नै… बड्ड काज छै.. ओहि में अखन बिजी छियै

पत्नी : छोड़ू छोड़ू…. एक हफ्ता सँ त अहां काजे क बहन्ना बनबै छियै… मुदा हमरा शंकोs धरइया कि किछ छिपबै छी हमरा से…

पति : नsss… छिपाउ नुकाउ कथी…कनि टेंशन छै…

पत्नी : हमेशे अपन टेंशन हमरा सँ नुकबैत रहै छी अहां…
बताउ ने…. हाथ, जखन धयने रही तखन पंडीजी की बजने रहथि…”जिनगी के समस्या के हल… दुनु गोरे मिल बैस करब”…हमरा बताउ त सही…… दुनु गोरा मिलके कोनो ने कोनो उपाय निकालिये लेबय…अहां किछ त बताउ.. पिरोब्लेम की छै..?
पति : अहांक बsस के ने…
पत्नी : हमरा कमजोर नै बुझु… माय बाबू क बीच टेंशन हमही फ़रियबै छलिह नहिरा में…
पति : ने भs सकइया अहाँसँ…
पत्नी : बतबे क मोन नै…त तिहत्तर गो बहन्ना…

पति : ने मानब.. त सुनु आ एकर समाधान निकालू…
टीडीएस फ़ाइल करs क छै…
इनकम टैक्स, दुइये दिन में फ़ाइल करे क नोटिस आयल छै, से ओहो जल्दिये करय पड़त..
प्रॉपर्टी टैक्स देबाक छै…
जीएसटी रिटर्न फ़ाइल करनाई जरूरी छै…
कस्टम विभाग में शिपमेंट अटकि गेलै, ओकरा फ़रियाबे क छै.
मार्केट सँ तगादा नै अखन आबि रहल छै
बाजार सँ गंहकिये गायब छै
उपर से सरकार के सीलिंग क लफड़ा पड़ल छै से अलगा…
मार्च क्लोजिंग में अकाउंट पर ध्यान दू… मुदा अकाउंटेंटबोs एम्हर चारि दिन सँ गायब छै
रोज सेल्सटैक्स सँ भरि दिन में चारि बेर फोन आ रहल छैै…….

मैदान सँ आबय छी, ताले एकर सबिक समाधान निकालिक राखू तखन भरपेट गपियायब अहां संग…

पत्नी : छठ, रामनवमी आ नवरात्र तs खत्में भs गेल छै…
अहां नs… आई दू पैग मारिये लीय…. टेंशन दूर भ जायत….

पत्नी जी, बिना कोनो आवाजे के “आबय छी” बजलनि आर तेजी से भीतर….
मुदा जाइत जाइत पतिदेव सँ एतबे बजलनि, “अम्मा जी क तेल लगबै क छै बाकी आई याद सँ बन्हिया ब्रांड बला दू पैग लs लेब

😅😅😅😅😛😛😛

 ३३.
“दरोगा जी, एहि आदमी क उठाक बंद करु तs जेल में… आर बन्हिया सँ कूटू…. कनिको दनाइये नै छै एकर पास….पता ने कोन घमंड में फूलिल छै….ई हमर, आय भरि दिन खबसूरती क अपमान कयलक…एक पउआ खून जरा देलक”, पितायल तमतमाइत एगो महिला थाना में एगो दूबर पातर आदमी क घिसियबैत लs जाक बजलनि

थानेदार : की बत्तमीजी कयलक अहाँसँ..? हे… रे.. की कयलही तों..? कोनो अश्लील हरकत कयलक की…?, अहांक देह उह छू छा देलक..? अंउंरी चाहे हाथ सँ कोनो गन्दा इशारा कयलक की..? की देखिक सीटी बजैलक..?,की एम्हर ओम्हर हाथ ध देलक..?
महिला : नैs नैs… एहन किछ ने कयलक ई..
थानेदार : तs अहीं बताउ मेडम… अहां सँ की कयलक जे से एकर गलती पता चले आ हम हाजत में बंद कर दियै.. गलती कयने हैत त निमन सँ सोंटायत आई…
महिला : ई अभागल पिछला बारह घंटा सँ हमर संग हमर सामनहिय बला सीट पर बैसल आ रहल छै…. आ एहि….बारहो घंटा में एक्को बेरि जे ताकइत… ई एक्को बेरि हमरा तरफ ने आंखि उठाक देखलक आर नै हमर खबसूरती क बड़ाईये कयलक, आरो….कोनो एहन हरकतो ने कयलक जे से हमरा खुश होबाक मौका भेंटेs..
थानेदार : मेडम अहां जते बता रहल छियै….ओहि आधार पर तs एकरा पर कोनो केसेs नै बनै छै.. तs केना हम बन्द करि दियै..?
महिला : कथीक दरोगा छी… जाउ…. केना दरोगा बनि गेलियै… अरे अहां कम से कम….एकरा पर “नकारा” होबय क केस ठोकिक भीतरे त करियै सकै छियै नs

😜😜😜😅😅

३४.
एगो बसीठबा छै…. जे कयटा सेटिंग बला फिरेन्ड रखने छै… दहिने, बामे, आगु, पाछु। जब न देखू तब भरि दिन…. कान में कनगुज्जी ठोकने….फोन पर कोनो नs कोनो संग मुस्की मारैत….लल्लो चप्पो करैत… शरीफ के कक्का बनल “हं.. हूं… कहिना…मिस यू” में ओझरायल रहत..

आ एगो हम्मर करम छै… एक त सीता क सराप छै जे कहिनो भेंटत ने…आर डीह बाबा के दाढ़ी उढ़ी धsकs गोहरैला पर साल में एकाध गो लॉटरी जंका कोनो एंजेल पिरिया, नॉटी एंजेल सँ कनेक्शन भिड़ीयो गेल…. त दू महीना गपियैला क बाद पता चलत कि उ एंजेल पिरिया उरिया नैs… कोनो “मंगरुआ पाड़ा” छल… साढ़ के

😅😅😅😅😉

३५.
स्कूल में एहि “बालक” कs चलते बहुत्ते लड़िका फड़िका सबि बिन मतलबे ठोकायत रहै छै….. कखनो कनैठी त कखनो कानि धs कs उठ्ठा-बैठी…. कखनो मास्साहेब के हरियर करची त कहिनो मथा पर “डस्टर”… हमहूं कय बेरि कुटायल छी।

कीSS… अहूं सब ..?

😅😅

No automatic alt text available.
३६.

यौ भाय लोग,
यदि अहां अप्पन घरवाली कs वैलेंटाइन डे पर गिफ्ट दs रहल छियै चाहे हुनका भन्सा में पुआ पूड़ी सब बनबै में मदद करि रहल छियै, हुनका खोंपा में फूल खोंसे छी चाहे अरगन्नी पर हुनका संग कपड़ा पसारय छी त” जरूर पसारू, खूब खोंसू, खूब करू… मोन लगाक करू…. भगवान अहांक…..दुनो तरहत्थी सँ आशिर्बाद देतनि,
मुदा…..
हेss…….. अहां सँ एकटा विनती छै कि अप्पन एहि सब रंग ढंग में सँ, कोनो करतूत के फ़ोटो फेसबुक, व्हाट्सऐप आओर, आरो सोशल मीडिया पर पोस्ट करि के कयला कोनो दोसर के जिनगी में जहर घोरिक उछन्नर लगबै छी।
बेचारा शांति सँ जी रहल छै, जीय दियौ हुनका….
बाकी अप्पन अहां चालू रहू….

😜😜😜😜

 ३७.
किशुन झा एकटा बहुते सुन्नर पड़ोसिन क फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजलनि….मुदा ओम्हर सँ एक्सेप्टेs नै भेलै…. रहि रहि क रिक्वेस्ट पठावथि… तइयो कोनो फरक ने…. उ हुनका भावेs नs दय छलन्हि….

एगो आयडिया आयल खुराफाती दिमाग मे…
“ऐंजेल प्रिया” क नाम सँ नाया आईडी बनाक रिक्वेस्ट भेज देलनि……. फट्टs सिना रिक्वेस्ट एक्सेप्ट भ गेल….

आबि अधरतिया ले रोज गपशप होबे लागल…
रोजे क नेमें बनि गेल हुनकर….
खुशी सँ दांत नै तोपाये छलैन्हि

एक दिना एगो बिबाह में गेलन्हि त पड़ोसिनो पहुंचल रहथि…. नया चमकदार साड़ी पहिनने पड़ोसिन खुब चमकैत रहथि…. उपर सँ सेन्ट उंट लगैने गम गम गमकबैत माहौल के आरो बनेने रहथि….

…..त झा जी लगीच्चा जाक बजलनि,
“बाह की बात छै भाभी श्री …!!!
सोशल मीडिया पर त अहां हड़कम्प मचैने छी…अहीं क त चर्चे अछि सगरो.. अहांक स्टेटस आ फोटू पर “लाइक्स” आ “कमेंट्स” क बाढ आबि जाइय”

ओ बजलीह…
“ दू……र…. अरे हमरा कहां ओते फुरसत भेंटइय… हमरा त… महीन्नो दिन सँ बेसि भ गेल… फेसबुक खोलsला… हम त छुबे ने करय छी…..
हम्मर आईडी.. त अहांक भाईय साहब चलबै छथि…. हुनके फेसबुक तेसबुक में मोन लागय छैन्हि…. दैब जाने अधरतिया ले कथी उ टीपीर टीपीर करै छथिन..”

कस्सम से, ओहि दिन क बाद सँ… किशुन झा के जब जब “भाई साहब” पर नजर पड़ै छैन्हि…त मुंह हर हर नीम भ जाइ छैन्हि…. आबि त हुनका रहि रहिक चैट में कयल गप सब मोन पड़ै छैन्हि….

काल्हि गाछक नीच्चा खटिया पर पसरल मुंह धुआं कयने बड़बड़ाइत रहथि
“अभगला करमफुट्टा हरामखोर नहिते….
ऊपरो वाला सँ डsर नै लागय छै एहन कमीना लोग सबिक…
कहूs तs…”

😅😅😅😅😅

३८.

बिबाह के पहिने…. लल्लो चप्पो में…. अपन होबय बला श्रीमती जी कs फरमाइस पर खुब “रिचार्ज” करबै छी त करू…. मुदा, याद पारिक दहेज जरुरे मांइग लेब….
समाज जाये भाड़ में…
आखिर अप्पन उधारी असूल करनाई फर्ज छै कि नै…
आंय..

😛😛

३९.

जाय दीय….. बाजे दियौन…. ओ कतनो बाजथि कि
“एक चुटकी सिंदूर की कीमत तुम क्या जानो “फलना बाबू”…
मुदा कहिनो हुनका कुहि करिके आंख सँ एक्को बून नोर नै खंसे देब…..
एनाहिते तs घर किराया, नेनवा सबिक फीस, ट्यूशन, कोपी किताब, टेम्पू, राशन पानी, दबा दारू, बीमा, बिजली पानि, आर बहुत्ते किछ मिलाक पचास पचपन हजारि क कांटा त उठिये जाय छै। ई बात तs पहिने… कोनो क नै बुझाय छै मुदा पालकी खड़खड़ीया सँ उतरितेs…. “एक चुटकी सिंदूर” क कांटा कतs दूर तक जायत, दैबो ने जानय छथि….
आ ओहि पर सँ कहिनो हुनका आंख सँ नोर चुअय लागे त बुझु आरो खटिया ठार..
एक चुटकी सेनुरो सँ… बेसि महंगा पड़ै छै नोर….
एक बून नोर जखने टपकल, तखने उ 650 रु क ‘लोरियल आईलाइनर’ आ 2500 रुपइया क ‘डायोर मस्कारा’ क भठ्ठा बैसा देत..
उ साढ़, नोरक बून ओत सँ पिछुलैत खंसैत गाल पर कहर ढाइत 2500 रुपइया बला “डी एंड जी” ब्लशर क… माइर मारत..
सढ़बा फेर ओत सँ ढुरकैत ठोर पर पहुंचल त साढ़…. 850 टका क ‘मेबीलाइन लिपिस्टिक’ क चून लगा देत…
माने कि एगो नोरक बूंद 6000 त पाकिट में सँ लपेटिये लेत….
आब पहिने सँ धमकी त मिलबे करय छलs कि “एक चुटकी सिंदूर की कीमत तुम क्या जानो फलनमा बाबू”.., आबि गलतियो सँ एगो नोर चू गेलैन्हि त बुझू सेनुरक दाम छौ हजार आरो बढ़ि जायत….

सावधानी हटल दुर्घटना घटल

😅😅😅😜😜

४०.

जब अमिरका में लाइन कटैs छै…,
त’ ओते क लोक पावर हाउस में फोनियबै छथि
जब जपान में बिजली कटत त” लोग पहिने अप्पन अप्पन फ्यूज चेक करै लगतनि….
आर जब अपना इहां लाइन कटत…
त’ सबसँ पहिले बहरा निकालिक लोग देखत….
कि हमरे कटलै कि सगरोs..?
अच्छा सबिक कटलै नs… एगो नमहर सांस छोड़िक निचिंत भ जयताह

😅😅😅😅

४१.

एकटा स्त्री… एगो साँड़क मुंहि में घीउ सँ चपड़िआयल एक गंडा रोटी खुअबैत रहथि….

ओहि ठाम ठारि हिटलर कक्काक शंका भेलन्हि जे ई जनानी…. सांड़ क गाई त नै बूझि रहल छथिन….
तब…
हिटलर कक्का : बहिन,… ई साँssड़ छै….गाई नै, …. अहां एकरा अतेक रोटी खुआ रहल छियै… मुदा ई ससुरा, रोजेs गामक आर पंचायत में चार पांच लोगक सींग मारिक हड्डी तोड़ दय छै… बड्ड मरखाह छै…. अहां खुआ क आओर एकरा मजगूत करि रहल छियै… ?
जनानी : भाई साहेब…. हमरा पता छै कि ई साँड़ अछि। हम्मर पतिदेब जे छथि ओ हड्डिये क डॉक्टर छथिन आर हुनकर हॉस्पिटल इ साँड़ क कारण चलै छै..!

😁😁😁😁😁😃😂

४२.

जुगेसरा क माय, जुगेसर सं कहलखिन, जे गरमी बेसि पड़ि रहल छै… मुड़ेरी पर चिरई चुरगुन्नी लेल पानि धरे सं सुन्नर कनिया भेंटय छै।
जुगेसर अप्पन मायक बात गिरह में बान्हि लेलक आर बेचारा बनिहारी करय छलs तइयो अप्पन पेट काटिक चिरई लेल मुड़ेरी पर पानि क जगह ठंडा रूह-आफजा रखे लागल…
नतीजा सामने अछि

ताहि दुआरे हम बाजय छी, हम्मर बातक गिरह पाड़ि लीय..
फयदा में रहब

😅😅😅😅

Image may contain: 2 people, people smiling, selfie and close-up
४३.

अप्पन अप्पन आधार कार्ड 31 मार्च 2018 तकला अप्पन ससुरारि सँ लिंक करवा लीय, नै त ससुरारि पछ में होबय बला शादी बिबाह आर दोसर दोसर जग-जुप में समय समय पर भेंटे बला कपड़ा, सलामी, उपहार, आर साले साल भेंटे बला सीजनेबल आईटम जेना पापड़, बड़ी, तिलौरी दनौरी अंचार, फल नै भेंटत……………….
एहि लेल जल्दीयेs अप्पन आधार लिंक करा लीय……..

ई योजना खाली दसेsसाल तक पुरान पाहुन पर लागू छैक…
ओहि सँ पुरान के त’ ओनाहितों कोनो नै पूछै छै…

नोट : सठियाल फुफ्फा उफ्फा त’ सोचबो नै करथि.. अलगा रहही में भलाई अछि

😅😅😅😅😅

४४.

नाया नाया बिबाहक बाद पतिदेव अपन घरबाली क फोनि नंबर मोबाइल में अइ नाम सँ सेव कयलनि :
‘माई लाइफ’
साले भर बाद ओ नाम बदलिक लिखलनि :-
‘माई वाइफ’
दू साल बाद नून-हरदी क भाव बुझायल तँ रखलनि :
‘होम’
पांच साल बाद तँ ओ अपन ओकाद पर आबि गेलनि, फेर सँ नाम बदलि देलनि :
‘हिटलर
दस साल बाद तँ एहन कनफुजियैलनि जे इ सभे नाम सबक साइड में टरकबैत एगो फेर नाया नाम धरि देलनि :
‘रॉन्ग नंबर’

४५.

बुधन राय क घरबाली, बुधन सँ बजलनि,
“सुनै छियै…हमरा आमक चटनी खाय लेल मोन करइय…हमरा कांच आम तोड़िक ला दीय”
बुधन : हमरा नै आबइय गाछि पर चढ़s.. हम नै लायब..
घरबाली : हूंह… अहां सं नीक तँ बानर … जे गाछि पर चढ़s जानय छै

एहि अपमान सं पिताकs बुधन पन्द्रह दिन खुबे पिरैक्टिस कयलाह आर कूदुक कुदुकि क गाछि पर चढ़ै लेल सीख लेलनि..
सिखला क बाद घरबाली लंग जाक बाजय छथि,
“आम खायक मोन हैत तैं बाजब… आबि हमरा गाछि पर चढ़े आबइय”
घरबाली : तैं आबि, अहां में आर बानर में कोन अंतर रहि गेल

😅😅😅😜

४६.

आइकाल क छोट छोट धिया पुता सबिक देखबै, जब जुत्ता-मोजा, टाई आर स्कूल डरेस पहिर क स्कूल जाय घड़ी जेनाहिते टेम्पू/बस में बैसत… टाटा करै लागत…फलाइंग चुम्मा देत आर एम्हर माय बाप मुसुकाइत अप्पन करेज फुला कs अठत्तर इंची केर कय लेतनि……

एकटा हमसब छलिहs…
इस्कूल जाय घड़ी केम्हरो संसsरिक “गोली” नै तँ गुल्ली-डंटा खेलs निकलि भाग जाय छलिह….
खोजी होबय तँ बाबू, कक्का, भाय सब टांगि-टुइंग क ओनाहिते गंजिsये में बिन खयने, बिना केसे-तेसे सोंटने….लेंर-पोंटा बहबैत, साथे एकटा झोरा, ओहि में एकटा चनकल सिलेट आर मोरायल छितरायल मनोहर-पोथी…उप्पर सँ एगो फटल बोरा लsकs टँगने टँगने घिसियबैत इस्कूल चंहुपबैत छलनि…पूरा टोल जान जाय छलs जे आई इ बेट्टा “थमायल” छै…
जंगला सब से बूढो-पुरनिया सब बाजैत रहथि,
“नै कानूs… इस्कूल जायक चाही”
हम देह-हांथ तिरैत..हुनके सबिक जबाब दै छलौं,
“जायक चाही तँ अंहे सब जाउ नै..”
टाटा आर बाई-बाई के करै छल…
भोकार पारि क चिचियाहीं में दू घन्टी पार भ जाय छल

टाई बला नेनवा सब पढ़ै छै झूलि झूलिक
“जोनी जोनी यस पापा….”
“पिग्गी आन दि रेलवे..पीकिंग अप स्टोन…”

आर….
हम सब पढ़ियै …
ओहो बे-मोनेs सं
“मां…माला पहन
पनघट पर नटखट मत बन
मां पिताजी आगे देखो
रानी मदन अमर
स्कूल जा
सरपट मत दौड़”

😅😅😅😅

४७.

चिंता कs बात अछि..
अहां सब धेयान नै दय छियै….

हम सब अप्पन धीरे-धीरे…. अप्पन संस्कृतिsये बिसरि रहल छियै…. देखैत देखैत भुला रहल छी… कते नेम-धेम त भुलाइये गेलै…..

ओइ कड़ी में एकटा, आइयो….
एगो बिसरैत “संस्कृति” पर नजर पड़ल….

“एकटा नेनवा क देखलियै,
एगो ‘आइसक्रीम-कप’ के “ढक्कन”…
उ “बिना चटले” फेंक देलकै

😅😅😅😅😅

४८.

किछ दिन पहिने रजिंदर साव, नरेश भाय क सलाह देने छलs जे घरबाली क “मारि” सँ बचs क अछि तँ एगो “रोटी-मेकर” ल लिउ
“न बेलना रहsत आओर न मार खायब”

नरेश भाय क ई सलाह पसंदि पड़ि गेल। ओ बाजार सँ रोटी मेकर कीन कs लs अयलनि, घरोबाली देखि क खुश भ गेलखिन आ एम्हर नरेश भाय बेलना क घूरि में फूंकिक ताप गेलनि

नरेश भाय किछ दिन खुबे खुश रहलनि,
मुदा एक दिन मुंह लटकौने फेरु रजिंदर साव क भिर पहुंचलनि
रजिंदर : की यौ, मुंह कियैक लटकैने छी..आबि तँ सब नीके हेत..
नरेश : वाशिंग मशीन कोन कम्पनी क ठीक हेतय
रजिंदर : वाशिंग मशीन…….?
नरेश : हं…. बेलना त आगि में जरा देलियै मुदा कपड़ा खींचे बला “थापी” त अखन छित्ते छै…

😅😅😅😅😅

४९.

सांझिक नरेश भाय मुंहि लटकयने घर पहुँचलनि तं घरबाली पुछलखिन,
“की बात छै ? मुंह कियैक सोंठियने छियै अहां ?

नरेश : आय हमर करखन्ना में जोना मशीन पर हम काज करै छलौं… ओहि में शॉर्ट सर्किट सँ आगि पकड़ लेलकै…. मशीन पर काज करs बला सभे स्वाहा भ गेलै…
घरैतिन : “भगवान … शुकुर…कयलनि….
मुदा अहां केना बांचि गेलियै ?
नरेश : हम कनि देर ला बाहरे गुटखा खाये चलि गेल छलिह…
घरैतिन : चलु जान बांचि गेल अहांक… नै त आय हम कोन गति में रहतियै
नरेश : मालिक मरs बला साबि पर आश्रित घरबाला क 10-10 लाख मुआवजा देबक सकार कयलखिन

घरैतिन (भनभनाइत) : आगि लागे अहांक गुटखा में, हज़ार बार कहने छी कि गुटखा नै खायल करू ….. नै खायल करू… मुदा मानइया के… सुनिबे नै करतनि हम्मर बात …. गेलै नs हाथ सँ 10 लाख …..

😅😅😅😅😅😅

५०.

महात्मा जी, स्त्री के गुण चरित्र पर प्रवचन दैत दैत, भीड़ से एकटा सवाल कयलखिन
“हां… त बताउ… श्रेष्ठ कोन..पत्नी कि बहिन”

छोटका कक्का एक दिन पहिनही ससुरारि से लौटल छलन्हि कनिया काकी के बिदागिरि करबा के, आर दिमाग मे ससुरारे घुमय छलन्हि, ई दोसर बात छल कि बैसल रहथि सत्संग में मुदा आत्मा से ससुरारे रहथि।
कान में आवाज पडलैनी महात्मा जी के, “श्रेष्ठ कोन… पत्नी कि बहिन” त छूटते कक्का बजलनि,

“पत्नी के बहिन”

😅😅😅😅😅