“सम्बन्ध सदैव समकक्षमे भेलासँ दीर्घकालिक होइत छैक।”

520

— कीर्ति नारायण झा।   

मिथिला में गताती बिवाहक गुण आ दोष – बिवाह दू टा आत्माक मिलन केर पवित्र बंधन होइत अछि। सम्बन्ध सदैव समकक्ष में भेला सँ इ बन्धन मजबूत आ दीर्घकालिक होइत छैक आ एहेन सम्बन्ध होयवाक पाछू गताती बिवाह सभ सँ बेसी सफल आ सुदृढ मानल जाइत छैक। गताती बिवाहक शाब्दिक अर्थ होइत छैक अप्रत्यक्ष रूप सँ जानल पहचानल परिवार में सम्बन्ध बनाओनाइ जाहि मे दुनू सम्बन्ध के जोड़य बला ब्यक्ति बर आ बधू दुनू परिवार सँ प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप सँ परिचित रहैत छैथि। एहि प्रकारक बिवाह में एहि बात केर आश्वासन रहैत छैक जे दुनू परिवार में खान पान, रहन सहन, बात ब्यवहार में समानता होइत छैक जे एक दोसर सँ सम्बन्ध जोड़बाक लेल सभ सँ बेसी महत्वपूर्ण मानल जाइत छैक अन्यथा असमानता के स्थिति में सम्बन्ध सदैव तनावपूर्ण रहैत छैक आ ओ बहुत दिन धरि निवहैत नहिं छैक। अपना सभक ओहिठाम आदि काल सँ गताती बिवाह के सभ सँ मजबूत साधन मानल जाइत छैक। पहिले हमरा हिसाबे शत प्रतिशत बिवाह गताती द्वारा निश्चित कयल जाइत छलैक आ ओ करीब करीब एक आध अपवाद के छोड़ि अधिकतर सफल सम्बन्ध होइत छलैक।पहिले अपना सभक ओहिठाम कनियाँ के बिवाह पूर्व देखवाक प्रथा नहिं छलैक, लोक गताती के बात पर बिश्वास कऽ कऽ बिवाह करैत छलाह आ कनियाँ बरक बड्ड सुंदर मिलान भऽ जाइत छलैक, बाद में देखा सुनी के प्रचलन सेहो आरम्भ भेलैक आ मन्दिर अथवा विद्यालय में परोक्ष रूप सँ लोक कनियाँ के देखि कऽ बिवाह केर प्रथा आरम्भ भेलैक मुदा इहो में गताती लोकनि सम्मिलित रहैत छलाह जे एहि प्रकारक ब्यवस्था के आयोजन के मुख्य आयोजक होइत छलाह। एहि प्रकारे कनियाँ के देखवाक ब्यवस्था सँ गताती पर शत प्रतिशत विश्वास में कमी अबैत गेलैक आ फेर तखन किछु मौद्रिक लेन देन भेला सँ लोक सभक विश्वास गताती बिवाहक ब्यवस्था सँ उठय लगलैक संगहि बिवाहक विभिन्न साइट सभ उपलब्ध भेलाक उपरान्त बर कनियाँ प्रत्यक्ष रूप सँ अपन अपन सम्बन्ध जोड़बाक लेल आगू बढय लगलाह, एकर सभ सँ पैघ कारण छैक जे बर कनियाँ के बिवाह बयस्क अवस्था में होमय लगलन्हि आ कन्या शिक्षा में वृद्धि भेलाक उपरान्त हिनका लोकनि के गताती के आवश्यकता समाप्त भऽ गेलन्हि आ इ लोकनि अपना के पूर्णरूपसँ सम्बन्ध जोड़बाक लेल सक्षम मानय लगलाह मुदा सम्बन्ध जोड़बाक लेल मात्र शारीरीक सुन्दरता पर्याप्त नहि होइत छैक जाहि मे इ नव जोड़ी लोकनि उलझि कऽ रहि जाइत छैथि आ शारीरीक सुंदरता जे दीर्घकालिक नहिं होइत छैक ओहि के दुष्प्रभाव के कारणे नवविवाहित जोड़ी के सम्बन्ध बहुत जल्दी टूटि जाइत छैक एकर अतिरिक्त अंतर्जातीय बिवाह के दुष्प्रभाव सँ नव बर बधू के सम्बन्ध टूटल जाइत छैक।गताती बिवाह में गताती के भूमिका आब शादी डाॅट काम सन साइट आ मोबाइल निभावैत अछि तेँ इ मजबूत आ टिकाउ सम्बन्ध के रूप में स्थापित नहिं भऽ रहल छैक। आधुनिक नव दम्पत्ति जोड़ी में छूट छुटाओल बला घटना आब बेसी होमय लगलैक अछि जे नीक संकेत नहिं अछि। पहिले के जमाना में एहि तरहक घटना नहिं के बराबर होइत छलैक। पहिले के दम्पत्ति शारिरिक सुंदरता सँ बेसी मोनक सुंदरता के महत्व दैत छलखिन्ह जकर सभ सँ बेसी बगुला दृष्टि गताती द्वारा राखल जाइत छलैक। अंततः गताती बिवाह के सफल बिवाहक स्त्रोत के रूप में मानल जा सकैत अछि ओना एक दू टा अपवाद सभ ठाम भऽ सकैत अछि ओ दोसर बात थिकै मुदा सफल बैवाहिक सम्बन्ध के सूत्र के रूप में गताती बिवाह के राखल जा सकैत अछि…