नैन्सी हत्याकांड मे एसआइटीक मनगढंत कहानीक फूजल पोल, परिवारक लोक केँ हाई कोर्ट सँ जमानत

महादेवमठ, मधुबनी। २२ अगस्त, २०१७. मैथिली जिन्दाबाद!!

नैन्सी हत्याकाण्ड मे झंझारपुर डीएसपी निधी रानीक अगुवाई मे गठित स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम (एसआइटी) द्वारा परिवारहि केर लोक – नैन्सीक दुइ चाचा राघवेन्द्र झा तथा पंकज झा केँ आरोपी बनाओल गेल छल तिनका लोकनि केँ पटना हाई कोर्ट द्वारा सशर्त जमानत देल गेल अछि, १० हजार केर मुचुल्का आ आगूक अनुसंधान मे सहयोग करबाक वचनबद्धता पर ई जमानत उच्च न्यायालयक तरफ सँ भेटल से अदालतक आदेश सँ स्पष्ट अछि।

परिवारक लोक शुरुए सँ एसआइटी पर आरोप लगबैत रहल अछि जे बिना कोनो सबूत या कारण मनगढंत काल्पनिक कहानीक आधार पर  परिवारहि केर लोक केँ फँसाकय असली आरोपी केँ बचेबाक कार्य भेल। हाई कोर्ट पटना केर आदेश सँ सेहो यैह बात स्पष्ट भेल अछि जे आवेदक राघवेन्द्र झा तथा पंकज झा केर वकालत कएनिहार विद्वान् अधिवक्ता रमाकान्त शर्मा अदालत केँ जानकारी करबैत कहलनि। अधिवक्ता शर्मा द्वारा अदालत केँ पुलिस द्वारा परिवारक लोक केँ गलती सँ फँसेबाक बात कहैत खबरी (सूचना देनिहार) द्वारा देल गेल सूचना पर्यन्त एहि बातक समर्थन करैत अछि जे परिवारक लोकक कोनो हाथ नहि छैक आर पुलिस असली दोषी ऊपर कार्रबाई करबाक बदला परिवारक लोक पर दबाव बनेबाक काज केलक अछि। एहि प्रकार सँ तथ्य एवम् परिस्थितिक आकलन करैत उच्च न्यायालय द्वारा आवेदक राघवेन्द्र एवं पंकज केँ जमानत देबाक लेल सशर्त सहमति-आदेश देलक अछि। न्यायाधीश ए. के. उपाध्याय केर सुनबाई मे ई आदेश १९ अगस्त केँ पारित कएल गेल।

ओम्हर परिवार द्वारा दायर कएल गेल शिकायत मे बनाओल गेल आरोपी सभक जमानत मधुबनी न्यायालाय सँ खारिज कएल जेबाक समाचार स्रोत सँ भेटल अछि। विदित हो जे पुलिस डायरी मे उल्लेख कएल गेल विवरण आर एसआइटी द्वारा कएल गेल विभिन्न छानबीन केर विवरण अनुरूप परिवारक लोक पर कपोलकल्पित आरोप लगाओल गेल हो, मुदा यथार्थ साक्ष्य आर खोजी कुत्ताक देल निशानदेही केर आधार पर दोषी आ अपराधक प्रकृति गोल-मोल भेल अछि।

मैथिली जिन्दाबाद सँ राघवेन्द्र झा बात करैत कहलैन जे अनाहक मे प्रशासन अपन जिद्द सँ परिवारक निर्दोष लोक केँ फँसाकय कलंकित करबाक काज केलक अछि। भगवानक घर मे देरी भले भ जाय मुदा अंधेर नहि छैक। हमर कैरियर पर असर जरुर पड़ल अछि, लेकिन आगाँ ई न्याय केर धर्मयुद्ध हम सब एकजुट बनिकय लड़ब। निधीरानी डीएसपी साहिबा आबो कम सँ कम हमर परिवार प्रति बनल गलत धारणा बदलती, प्रशासन एखनहु असली दोषी केर छोड़ल साक्ष्य सब ताकिकय कठोर सँ कठोर सजा देबाक काज करत से आशा आ अपेक्षा करैत छी।

परिवारक स्रोत सँ ईहो पता चलल जे परसू संध्या मे मधुबनीक एसपी पुनः परिवारक लोक सँ हत्या सम्बन्धी विभिन्न पूछताछ करय पहुँचल छल। आब आगाँ प्रशासनक रुखि केहेन रहत से आगू पता चलत। परिवारहु केर लोक एखनहु असली दोषी विरुद्ध उपलब्ध साक्ष्य सब खोज कय रहल अछि। नैन्सीक आत्मा केँ शान्ति तखनहि भेटत जखन असली हत्यारा कानूनक फँदा मे पड़त।