मैथिलीक ओ प्रसिद्ध रचना घसल अठन्नी

संकलन

– ब्रजेश मिश्र

madhup jeeअपन विद्वता आओर रचना सँ मिथिलाक गरिमा चारि चान लगौलैन कवि चूड़ामणि काशीकांत मिश्र “मधुप” । पं.कविचूड़ामणि कशिकांत मिश्र ‘मधुप’, कोर्थू, दरभंगा, जीवनकालः १९०७ -१९८७।
आउ आइ पढ़ी हुनक तीनटा रचना मैथिली कविताक अहि मंच पर :
 
१. घसल अठन्नी, २ छुतहर आ ३. प्रकृति सुंदरी
 
कवि चूड़ामणि उपाधि सँ विभूषित मैथिलीक उद्भट कवि ओ गीतकार मधुप द्वारा राधाविरह, झंकार, द्वादशी, प्रेरणापुंज, मधुप-सप्तशती, परिचय आदि काव्य संकलन रचना कैल गेल । रसगुल्ला, टटका जिलेबी, पँचमेर, चौंकि चुप्पे, बोलबम, विदागीत आदि गीत संग्रह प्रचलित भेल। ‘मैथिली सप्तशती सुधा’ (दुर्गा सप्तशतीक अनुवाद)। 1971 मे राधा विरह महाकाव्य पर साहित्य आकादेमी पुरस्कारसँ पुरस्कृत। राधा विरह महाकाव्य केर माध्यम सँ कतेको युगीन सन्दर्भकें स्वर देल आ स्वतंत्रत भारतक उपजैत नव परिवेश केँ अपन लेखनी सँ संचित-सम्पोषित कएल। अपन कविता ‘घसल अठन्नी’ केर शिल्प, संवेदना अा लोक सरोकारक लेल अतिशय लोकप्रिय । कविता मे जनवादी स्वर अा स्थापित व्यवस्थाक मुखर विरोध अा संगे संग गीतक माध्यमे सेहो नव चेतनाक संचार। कविता मे एक दिस प्रकृति प्रेम सन कोमल विषयक समावेश त’ दोसर दिस क्रांति गीतक आह्वान। एक दिस सहज बोधगम्य भाषा त’ दोसर दिस अनुप्रास अा तत्समक प्रयोग सँ निकसल पांडित्य पद्य।
 
 
१. घसल अठन्नी
 
जेठक दुपहरि
बारहो कलासँ उगिलि उगिलि भीषण ज्वाला
आकाश चढ़ल दिनकर त्रिभुवन डाहथि जरि जरि
पछबा प्रचण्ड
बिरड़ो उदण्ड
सन सन सन सन
छन छन छन छन
आगिक कण सन
सन्तप्त धूलि अछि उड़ा रहल।
खोंतामे पक्षी संच मंच
हिलबए न पाँखि
खोलए न आँखि
तरुतर पशु हाँफै सजल नयन
चरबाह भागि घर गेल विमन
इनहोर बनल पोखरीक पानि
जलचर-थलचर काँपए थर थर
टाटी, फड़की, खिड़की, केवाड़ लागल घर-घर
ई अग्निवृष्टि!
नहि कतउ बाटमे बटोहीक हो एखन दृष्टि
संहार करत की प्रकृति सृष्टि-
ई अग्निवृष्टि!
श्री मान लोकनि
जे तुन्दिल बनि
मसलंगमे ओंगठल
शरबत छनि-मिसरी बदाम बरफें घोरल
नर्तित बिजुली पंखा तर छथि
सेहो अशान्त बाजथि हरि! हरि!!
की कथा सजीवक
छाहरियो अभिलाष करए भेटए छाहरि
जेठक दुपहरि!
 
ई समय यदपि
बुचनी घर आँगन छोड़ि तदपि
गिरहस्थक कोड़ए खेत एखन
की करति बेचारी!
आठ पहर दुर्दैवक डाँगें अछि पीटलि
विधवा परिवारहीन बिलटलि
छौ मासक एके टा बच्चा
भाविक सम्बल
जे कानि रहल छै धूर उपर
परिबोध कोना क’ करति तकर?
शोणितोक आब नहि छैक शेष
पुनि दूधक हएत कोना सम्भव?
सहि तीनि सांँझ ई आइ आएल
बनि मजदुरनी अठ अन्नी पर
सूर्योदयसँ सूर्यास्त तक्क
करतैक काज
नहि पनिपिआइयो पाबि सकति!
 
सन्ध्याक समय
संसार अभय
उगि चान सदय
शीतल ज्योत्सनासँ कएल मुदित ब्रह्माण्ड सकल
नेरूक हित दौड़लि हुँकरि गाय
टुन-टुन-टुन-टुन
टन-टन-टन-टन
घण्टीक शब्द
घर-घरसँ बाहर भेल धूम
तैयो भूखलि-प्यासलि बुचनी
आँचल तर झपने पुत्रा अपन
कुट्टी-कुट्टी परिधान मलिन
हड्डी जागल
सौन्दर्य गरीबीसँ दागल
भूखक ज्वालासँ जरक डरें
तारुण्य जकर अबितहिं भागल
पाकल पानहुँसँ बढ़ल-चढ़ल
पीयर ओ दूबर-पातर तन
फाटल ओ फुफड़ी पड़ल ठोर
आमक फाड़ा सन नयन
खाधिमे धएल जकर दुर्दैव चोर
चिन्ता-चुड़ैल केर चढ़ल कोर
झरकाइ रहल छै आंग जकर
प्रतिपल हा! आशा बनि अंगोर
दे कने अन्न-जल प्राण जकर
अछि बाजि रहल छलसँ नोरक,
से बनि कातरि
कहुना क’ डरि
कर जोरि कहल:
ओ घसल अठन्नी चलि न सकल
हम सब दोकानसँ घूमि-फीरि
छी आबि रहलि
करु कृपा अठन्नी द’ दोसर
एसकरुआ हम
भ’ गेल राति
गिरहत, न आब देरी लगाउ
भूखें-प्यासें हम छी मरैत
लेबै बेसाह
कूटब-पीसब
बच्चा भोरेसँ कानि-कानि
छट-पट करैत अछि जान लैत।
 
ई फेर आएल भुकब’ कपार
कहुँ असल अठन्नी अदलि-बदलि
क’ रहलि चलाकी साफ-साफ
रौ! ठोंठ पकड़ि क’ कर न कात
ई डाइनि अछि
देखही न आँखि
अछि गुड़रि रहलि
अबिताहिं बुधना सन स्वामीकें
चट चिबा गेलि
लक्ष्मीक बेरिमे महाजनी
अछि चुका रहल
क्यो अछि नहि ?
एहन अलच्छीकें क’ देत कात ?
 
मालिक!
हम कर्ज न छी मँगैत
अथवा नहि अएलहुँ भीख हेतु
उपजले बोनि टा देल जाए
हम थिकहुँ अहीं केर प्रजा पूत
कै बेरि एलउँ
टुटि गेल टाँग
अन्नक मारल अछि हमर आँग
जरलहा दैव मरनो न दैछ
की समय भेल
हा! देह तोड़ि क’ कएल काज
सुपथो न बोनि अछि भेटि रहल
तें जगमे ई पड़लै अकाल
उठबितहिं डेग लागए अन्हार
मरि जाएब एतइ
ककरा कहबै?
हित क्यो ने हमर
अनुचितो पैघ जनकें शोभा
भगवान! आह!
 
गै छौक न डर?
कै खून पचैलनि ई बण्डा
रोइयों न भंग
युग-युग दारोगाजी जीबथु
क’ देबौ खून
गै भाग भाग
बनिहारकें द’ क’ उचित बोनि
कुलमे लगाएब की हमहिं दाग?
ई अपन भभटपन आनक लग
तों देखा
थिकहुँ हम काल नाग
ई ओना जाएत?
यम माथ उपर छै नाचि रहल
रौ, की तकैत छें मूँह हमर
छोटका लोकौक एते ठेसी?
 
चट-चट-चट-चट
कुलिशहुँ सँ कर्कश भीमकाय
मखनाक चाटसँ निस्सहाय
भू-लुण्ठित दुनू माइ-पूत
भ’ गेलि बेहोश
तैयो सरोष
क’ बज्रनाद
भुटकुनबाबू उठलाह गरजि:
मखना! मखना!
केलकौक भगल
ला बेंत हमर
नारिक चरित्रा तों की बुझबें?
जीवने बितौलहुँ ऐ सबमे।
दन-दन-दन-दन
मूर्छितो देह पर बेंत वृष्टि

बस एक बेर अस्फुट क्रन्द

शिशु संगहिं बुचनिक मुक्त सृष्टि!

सविषाद हासमे चन्द्रमाक

ओ घसल अठन्नी बाजि उठल:

हम कत’ जाउ

अवलम्ब पाउ

के शरण?

घसल जनिकर अदृष्टि!
*२. छुतहर*

अस्पृश्य भेलहुँ कै कोन पाप ?
मृत्तिका एक एके कुम्हार,
ओ दण्ड चक्र चीवर सम्हार।
आकार एक क्यों मंगल घट,
गौबरौड़ बनल हम सही ताप।।
जाहि मृगनयनिक कटि माथ उपर,
घुमलहुँ कतेक दिन रसनिर्झर।
से देखि दूर कहि दूर जाथि,
नहि जानि देल के एहन शाप ?
जे कुकुरौं कैं सुतधि पलंग,
पी मद्य विलोचन करथि रंग।
से देखि हमर मुख करथि घृणा;
दुर्भाग्यक पड़ि गेल केहन छाप ?
चढ़ि चाक प्रदक्षिण हरिक कएल,
आवामे तनकें हवन कएल।
फल तकर केहन विपरीत भेल,
झूठे थिक सबटा योग-जाप।।
घट-घटमे वासी ब्रह्म एक,
हो भान अविद्यासँ अनेक।
बुझितहुँ वेदान्ती हमर वारि।
अपवित्र कहथि क’ क’ प्रलाप।।
हो सदिखन संसारक सुधार,
पतितौक बनथि क्यो कर्णधार।

उद्धार सुधारकसँ न हमर,
ई सभ्य समाजक थिक प्रताप।।३.प्रकृति सुंदरी

धैर्य निधिकेँ, हरिणीकेँ आँखि, कल्पना सहृदय कवि केँ देल
भाव भंगी रमणीकेँ, शान्ति मन्त्र गान्धीजीकेँ दए देल
मातृभूमिक नामेँ मरिजाइ मदनमोहन ओ भगत, गणेश-
लाजपति रौशन रामप्रसाद वीर बटुकेश्वर केँ आदेश
देल अपने जपि क्रान्तित्क मन्त्र, पैरकेँ पटकि करथि भूकम्प
उठा कौखन दारुण तूफान जलधिमे मचा देल हड़कम्प
गरजि कौरखन कए बिजुलिक व्याज मूसलाधार बारि बरिसाय
भसाबथि देशक देश अनन्त सुनाबथि हाय पिता! हा माय!
दृश्य चीनीक गढ़क अछि पस्त, देखावथि जे कयलक जापान
जारशाही अछि मटियामेट करै छल जे मनुष्य बलिदान
दिवाला अवसेनियाँक भेल जकर ठोकै छल बहुतो पीठ
घमण्डे सदिखन-जे छल चूर देखाबाथि, से देखबइ अछि पीठ
कोन गनती ई सब, ब्रह्माण्ड अखण्डक छथि करैत ई नाश
सृजन पालन लय हिनके हाथ, सुरासुर नर हिनके अछि दास
हिनक चरणाम्बुजकेँ हम वन्दि मङइ छी हाथ दुहूकेँ जोड़ि
तते माँ! शक्ति दिअऽ जे पारतन्त्र्य बेड़ीकेँ दी हम तोड़ि
विजय हो क्रान्तिक भारतमाँक, विजय हो साम्यवाद हो घोष
विजय हो उच्च हिमालयगिरिक उग्र हो हिन्द निवासिक रोष
अरब निधिमे बीचीक मृदंग हर्षसँ बाजओ, उठओ तुफान
हिन्द सागरमे खाड़ी बंग सुनाबथु निज कल्लोलक गान
शस्य सम्पन्न हमर हो देश, होइ हम रणदीक्षा निष्णात
देखि मम ज्ञान तथा विज्ञान, विपक्षिक काँपय थरथर गात
विश्व पुनि हिन्दक सुनिकेँ नाम, करए स्वप्नहु मे हाहाकार
आत्मबल देखि अचिन्त्य अनन्त पैरपर नमवय शिर संसार
चरणध्वनिसँ डगमग हो भूमि, त्यागसँ विश्व विपिन छकिजाथु
एक सत्याग्रह देखि अपूर्व मुग्ध भय रिपुओतक झुकिजाथु
करी स्वातन्त्र्यक निशिदिन गान अन्तमे ‘मधुप’ रहल छथि माङि
विजय सूचक भारत केर ध्वजा हिमालय गिरिपर दी हम टाङि।⁠⁠⁠⁠