बाबाजी केर विशिष्ट भजन

606
baba lakshminath gosaiएक बेरि हर हमरा दिशि हेरू
पार्वती पति दारिद्र फेरू….
 
करिय अनुग्रह निज जनु जानी
होऊ सहाय शिव सहित भवानी
एक बेरि हर…..
 
काम-क्रोध-मद प्रीत के जारू
लोभ मोह ममता सब टारू
एक बेरि हर….
 
दु:खभंजन जनरंजन शंकर
संत सुधाकर दुष्ट भयंकर
एक बेरि हर हमरा…..
 
निज जनु जानी धरू करुआरि
लक्ष्मीपति हर पार उतारू
एक बेरि हर हमरा…..
 
– बाबा लक्ष्मीपति गोसाईं
 
हरि: हर:!!