सहरसा आयुक्त द्वारा पौराणिक सांस्कृतिक पहिचान केँ सम्मान

अमित आनन्द, सहरसा। जुलाई २९, २०१५. मैथिली जिन्दाबाद!!

CommissionerTNBindhyeshwari
सुश्री तेनजिन निमा बिन्ध्येश्वरी – कोसी प्रमण्डलक पहिल आयुक्त – १९९० बैच केर बिहार कैडर भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारी। मूल निवासी – शिमला। रुचि: संपन्न सांस्कृतिक धरोहर।

कहबी गलत नहि छैक, हाकिमो मे हाकिम जे बौद्धिक स्तर सँ हाकिम! देश स्वतंत्र भेना कतेको दशक बितल, बित गेल कतेको वर्ष सहरसा जिला बनब आ कोसी प्रमण्डल केर मुख्यालय रूप मे स्थापित होयब। कतेको रास हाकिम एतय एला आ अपना-अपना स्तर सँ एहि पौराणिक नगरी केँ अपना स्तर सँ सजेबा-बनेबा लेल प्रयास कएलनि।

हाल एतय आयल छथि पहिल महिला कमिश्नर – सुश्री टी एन बिन्धेश्वरी, जिनक संस्कार आ सोचक दिशा अत्यन्त प्रभावशाली अछि। आयुक्त साहिबा संग अनौपचारिक आ औपचारिक सब भेंट मे ओ एहि सुन्दर नगर आ भूमिक ऐतिहासिकता पर चर्चा करैत रहली अछि। हुनक जिज्ञासा अहू लेल अधिक छन्हि जे ओ एहि क्षेत्रक दुइ सहपाठी (आइएएस) सरोज झा एवं अनिल झा केर व्यक्तित्व, ओज, शालीनता आ सुसंस्कृत होएबाक पूर्व स्मृति केँ आइयो ओतबे तरोताजगीक संग मनमस्तिष्क मे रखैत छथि। संयोग जखन भेटलैन जे एहि क्षेत्रक सर्वोच्च हाकिम बनिकय लोक सेवा मे आयल छथि तऽ ओ आर अधिकारी सँ हँटिकय किछु अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्य करबाक लेल उत्सुक छथि।

सुश्री बिन्धेश्वरी बहुत गंभीर चर्चा करैत जानकारी हासिल करैत छथि जे आखिर एहि मिथिलाक सिम्बोलाइजिंग आइडेन्टीटी लेल कोन वस्तु सबसँ उपयुक्त अछि। चर्चा मे ‘मिथिला चित्रकला’ जेकर तांत्रिक, आध्यात्मिक, भौतिक, दैविक, श्रृंगारिक – बहुआयामी महत्त्व छैक, जेकरा लोक पहिने भगबती घर, कोहबर घर, अंगना, दलान, हर जगह ससम्मान स्थान दैत छल; जाहि सँ प्रत्यक्षदर्शी केँ सेहो अनेको तरहक सुन्दर प्रेरणा आ मनमस्तिष्क केँ नियंत्रणक संग आत्ममुग्धताक आभान होइत छलैक।

एतेक गंभीर आ गूढ बात सुनिते आयुक्त साहिबाक मन मे निर्णय आबि गेल जे एहि प्रमण्डलक हरेक सरकारी कार्यालयक इन्टेरियर डेकोरेशन मे एहि ठामक सांस्कृतिक पहिचान केँ स्थापित कैल जाय आ ताहि लेल ‘मिथिला चित्रकला’ सँ दोसर कोनो आन वस्तु उपयुक्त नहि होयत। किछु एहि तरहक प्रेरणा ओहि अंग्रेज कलेक्टर आ ओकर फियान्सी केँ सेहो आयल हेतैक जे मधुबनी मे कार्यरत १९३४ केर भूकम्पक बाद टूटल मकान आदिक निरीक्षण काल मे एहि चित्रकलाक अवलोकन करैत एकरा विश्वस्तर पर प्रचार केलक आ एहि चित्रकलाक नाम ओतहि सँ ‘मधुबनी पेन्टिंग’ बनि गेल छल।

हाल कमिश्नर साहिबा बिन्धेश्वरी जी केर आदेश पर कोसी आयुक्त कार्यालय मे विश्वविख्यात मिथिला पेंटिंग केर संग जिला केर ऐतिहासिक धरोहर सबहक पेंटिंग सरकारी कार्यालय मे लगायल जा रहल अछि। लोकमानस केँ अपन  संस्कृति सँ परिचिति देबाक हुनक ई पहल अत्यन्त सराहनीय अछि। जिला जन संपर्क पदाधिकारी बिन्दुसार मंडल बतौलनि जे मैडम केर आदेशानुसार सब प्रमुख सरकारी कार्यालय मे एहि तरहक पहल अपनायल जाय लागल अछि। उठायल गेल पहल मुताबिक लेल गेल किछु तस्वीर एतय समेटल गेल अछि।

DSC01809 DSC01810 DSC01811 DSC01812 DSC01817 DSC01819 DSC01820