“मिथिला अपना आपमे चारू धाम केॅं महिमा सहेजने अछि।”

91

— शिखा झा।       

“पल्लव मिथिला मैथिलीक अछि सेवक अनुचर
अभिनव अनुखन कर्मशील साहित्य सहोदर अभ्युन्नति आदर्श बढ़ायब डेग निरंतर जानकीक जय नित्य उचारू श्री मुरलीधर। “

मिथिला अपना आप में चारू धाम के महिमा सहेजने अछि। कमला कोसी के नगरी छी त स्वभाव सेहो जाति हिसाबे ओहिने।
कखनो प्रचंड वेग में आ कहुखन के अनंत सौम्यता लेने।

मतभेद कत्त ने होइछ। जखन स्वर्गलोक में सहो देवगण में आपसी मतभेद क खिस्सा सुनेत छी त मनुक्ख के गप्पे कोन।

मिथिला में मधुरक मिठास छय आ भाँग के नशा सेहो । तेतैर के खटास छे आ मिर्चय के बिसबीसी सेहो। जातिपरक भेदभाव त हरदम से रहल मुदा आब कनी बेसी दृष्टिगोचर भ रहल। कारण सबसे पैघ जे आब सुनबाक क्षमता कम भेल जा रहल छे लोक सब में। सही ग़लत के भान के बिना उधियाय लगला से आपसी मनमुटाव आ कर्कश वाद विवाद बेसी होमय लागल अछि।

ई सब रहतो मिथिलाक लोकक स्वभाव पान सन जे ऊपर से भले हरियर या पीयर मुदा घुईल के रंग लाल ए रहैछ। से चाहे कोनो जाति वर्ग या केओ।

मिथिला सीता के नगरी छी आ सीता धरती से जनमल छली वेहे स्वभाव मिथिला के कण कण में निहित जे बेर पर सब माटि से जुड़ल रही।

मिथिलाक संस्कार संग रहनाय सिखबेत अछि आ सिखबेत अछि पैघक मान।

मिथिला नगरी
में सभक हम
करब सदा सम्मान
माँ सीता के पावन धरती सभक अछि अभिमान।

शिखा झा
देहरादून।