प्रोफेसर धीरेन्द्र नारायण धीर नहि रहलाह

सुभाषचन्द्र झा, सहरसा। २९ अप्रैल २०२२, मैथिली जिन्दाबाद!!

प्रो धीरेंद्र नारायण झा धीर केर निधन मैथिली साहित्यक अपूरणीय क्षति

इएह अछि मैथिली मंचक प्रसिद्ध तिजोड़ी… बाम सँ महेन्द्र (भेलाही, सुपौल), जयराम खाँ (बनगाँव, सहरसा) आ धीर (घोंघरडीहा, मधुबनी)। – फोटो आ कैप्शन साभार किसलय कृष्ण

डॉ कुलानंद झा सहरसा बीएसएस कॉलेज, सुपौल केर सेवानिवृत्त प्राचार्य एवं मैथिली साहित्य केर ख्यातिलब्ध साहित्यकार प्रो. धीरेंद्र नारायण झा “धीर” के निधन केर दुखद सूचना सँ मैथिली साहित्यिक जगत मे शोकक लहरि व्याप्त अछि। हुनकर निधन मैथिली साहित्य जगत केर लेल अपूरणीय क्षति अछि जेकर भरपाई निकट भविष्य मे संभव प्रतीत नहि भ’ रहल अछि। हुनकर निधन पर प्रो डॉ कुलानंद झा बतौलनि जे प्रो धीर, महेंद्र आ जयराम खाँ सुप्रसिद्ध मैथिली मंच उद्घोषक मायानंद मिश्रक ‘तिजोड़ी’ छलाह। प्रो. धीर जीवन पर्यंत मैथिली साहित्य केर सेवा करैत रहलाह। इयैह कारण छल जे समूचा देश विदेश मे आयोजित होमय वाला मैथिली सांस्कृतिक मंच पर प्रो धीर अप्पन अद्भुत प्रतिभा केर प्रदर्शन कय लोक सबके मंत्रमुग्ध करैत रहलाह। हुनकर लिखल लतमारा लघु कथा संग्रह स पैघ प्रसिद्धि भेटलनि। ओतहि साहित्य अकादमी द्वारा एकटा अनुवादित पुस्तक हिमालयांत सेहो प्रकाशित भेल अछि। संगहि अखन तक अनेको पत्र पत्रिका मे कथा कविता प्रकाशित भेल छन्हि। प्रो० धीर बाबू कहने छलाह जे हमर कतेको रचना मे स किछुए प्रकाशित भेल अछि। शेष लिखित रचना जल्दिए प्रकाशित करायब। डॉ झा बतौलनि जे हुनकर अंतिम दाह संस्कार पैतृक गांव मधुबनी जिलाक घोघरडीहा गांव मे कयल गेलनि।

हिनक ज्येष्ठ सुपुत्र सचिन कुमार झा नम आँखि सँ मुखाग्नि देलखिन। शोक व्यक्त करय मे पूर्व विधायक संजीव कुमार झा, पीजी मैथिली विभागाध्यक्ष प्रो.डॉ.संजय कुमार मिश्र, डॉ मनोज सिंह, सुमित सुमन, प्रभात रंजन, राजेश रंजन, मनोज ठाकुर, किसलय कृष्ण, रामकुमार सिंह, संदीप कश्यप, संजीव कश्यप, मो मुख्तार आलम, भोगेन्द्र शर्मा, राघव झा, भरत झा, जीवछ झा, निरंजन कुमार, पवन कुमार, गिरजानंद मिश्र, सुरेश चंद्र झा, अश्विनी कुमार झा, सत्यनारायण झा, रमेश आनंद झा, सत्य नारायण मिश्र, रुपेश कुमार मिश्र, शालीन झा सहित अन्यान्य लोक श्रद्धांजलि अर्पित कयलनि।