जखन स्वयं भगवानो अपन संकल्प भक्तक कल्याण लेल तोड़ि देलनि……

मई १८, २०१८. मैथिली जिन्दाबाद!!

आध्यात्म 

प्रसंग – देवव्रत भीष्म द्वारा महाभारतक युद्ध मे कृष्ण सँ शस्त्र उठेबाक लेल बाध्य करबाक प्रसंग (समीक्षात्मक अध्ययन)

आइ भोरहि सँ भगवद्भक्तिक विभिन्न रूप सभक दर्शन भऽ रहल अछि। एकटा एहेन आख्यान जाहि मे अनैतिक केँ हरेबाक लेल अनैतिकताक सहारा लेबाक बात समाहित छल, से महाभारतक ओ समय मोन पड़ि गेल जाहि मे कहल जाएछ कि कौरव सेनाक सेनापति देवव्रत भीष्म केर दोसर बेर लेल गेल कठोर प्रण छल।
 
महाभारतक युद्ध मे भीष्म पर कौरवी सेनाक मुख्य नायक दुर्योधन आरोप लगबैत छन्हि जे ओ पाण्डव सब सँ कतहु न कतहु सहानुभूति रखैत छथि, ताहि कारण अपन सेनापतित्व मे युद्ध पूर्ण कौशलताक संग नहि लड़ि रहला अछि, युद्ध काफी धीमा आ उल्टे कौरव पक्ष केँ बेसी नोक्सानी देबयवला भऽ रहल अछि। एहि पर भीष्म दुर्योधनक दुर्बुद्धि केँ कोसैत अपन ईमानदारी सँ युद्ध लड़बाक बातो कहैत छथिन, संगहि दुर्योधन केँ विश्वास दियेबाक वास्ते अपन खास पाँच टा बाण केर चर्चा करैत कहैत छथिन जे यैह पाँच टा बाण सँ १-१ पाण्डव केर हत्या करता। पाण्डवहि केर हत्याक लेल खास रूप सँ बनायल गेल छल ओ ५ टा विशेष बाण आ ऐगले दिन केर युद्ध मे भीष्म पितामह १ न १ पाण्डव केँ जरूर हत्या कय देता – ई बात सुनितहि दुर्योधन अपन दिमाग लगाकय अपना पास लय लेलक। ई सोचैत जे कहीं ओ पाण्डव सभ पर फेरो सहानुभूति देखबैत ई पाँचो टा बाण ओकरा सभ केँ त नहि दय देता… लेकिन दोसर दिस ई सबटा संकल्प आ दुर्योधनक चालि केँ भाँपैत ‘अन्तर्यामी कृष्ण’ अपन शरणागत शिष्य अर्जुन केँ बुद्धि सिखबैत कहलनि, “अर्जुन, अहाँ केँ याद होयत जे दुर्योधन अहाँ सँ एकटा वचन केने अछि मनचाहा वस्तु माँगि लेबाक…. अहाँ जाउ आ ओकरा वैह वचन याद करबबैत पितामह द्वारा निर्मित ओ पाँचो विशिष्ट बाण मांगि लियऽ।”
 
अर्जुनक दुर्योधन केर समीप अबिते देरी दुर्योधन पूछैत अछि, “तूँ युद्ध विरामक प्रस्ताव संग आयल छँ या फेर राज्य मांगय लेल?” अर्जुन जबाब दैत कहलखिन, “नहिये युद्ध रोकय लेल, नहिये राज्य मांगय लेल। याद अछि भाइ, अहाँ हमरा एक बेर वचन देने रही जे मनचाहा वस्तु मांगि लिहें…?” दुर्योधन कहैत छैक जे हँ… ताहि पर ओ पुनः वादा करा पितामहक देल ओ पाँचो बाण मांगि लैत अछि। दुर्योधन ओ पाँचो बाण दय देलाक बाद हक्का-बक्का ओ सब कथा पितामह केँ सुना दैत अछि। पितामह बुझि जाएत छथि जे ई सबटा कृष्णजीक रचल व्युह थिक, ओ घुमा-फिरा अपन प्रिय पाण्डव लोकनिक जानक रक्षा लेल ई काज करौलन्हि। ताहि पर ओ सेनापतिक दायित्व निर्वाह करैत हताश दुर्योधन केँ उत्साह दैत कहैत छथि जे तूँ चिन्ता नहि करे, काल्हिक युद्ध मे या त कृष्ण स्वयं अस्त्र उठाकय अपन नैतिकता सँ उतरताह नहि त हुनकर प्रिय शिष्य अर्जुन मारल जायत। दुर्योधन पितामहक एहि कठोर प्रण सँ खूब प्रसन्न भेल। पितामह सँ विदाह लय ओ अपन शिविर दिस वापस आबि गेल आ काल्हिक प्रतीक्षा मे विश्राम करय लागल।
 
ओम्हर कृष्ण फेरो भीष्म पितामह केर ओहि प्रण केँ भाँपि लेलनि। ओ अर्जुन केँ बुझबय लागल छलाह। काल्हि बड़ा घोर युद्ध होयत। ताबत धरि पाण्डव पक्षक राजा युधिष्ठिर सेहो पितामह संग युद्धक रणनीति बनबैत जाबत पितामह केँ युद्ध मे बध नहि कयल जायत, ई युद्ध पाण्डव नहि जीति सकैत अछि कहलहि। कृष्ण बड़ा स्नेह सँ युधिष्ठिर केँ पितामहक देल आशीर्वाद ‘विजयी भवः’ मोन पाड़ैत कहलखिन जे आब अहाँ स्वयं भीष्म पितामहहि सँ हुनक आशीर्वाद मोन पाड़ैत पुछू जे ओ अहाँक विजयी मे बाधा सँ हँटबाक लेल कोना मारल जेताह। कहबी छैक न – महाभारतक युद्ध लड़बाक पात्र भले अलग-अलग छल, लेकिन सारा युद्ध एकमात्र कृष्ण टा लड़लन्हि। आन पात्र मात्र निमित्त रहल, लेकिन कृष्णक रणनीति-युद्धनीति-ज्ञान-उपदेश केवल एहि आधार पर पाण्डव लोकनि दुरूह कौरवी सेना पर विजयी प्राप्त कयलन्हि। युधिष्ठिर राताराती भीष्म पितामह केर शिविर मे जाय हुनका अपना केँ विजयी होयबाक आशीर्वादक गप मोन पाड़ि विजय मे स्वयं बड़का बाधा पितामहहि केर होयबाक बात कहलखिन। पितामह हँसैत कहलखिन जे बात तूँ ठीके कहि रहल छँ…. हमरा रहैत तोहर सेना कथमपि कौरव सेना पर विजयी प्राप्त नहि कय सकैत छौक।
 
“तखन पितामह, अहाँक आशीर्वाद सच कोना होयत?” युधिष्ठिरक एहि प्रश्न पर ओ कहलखिन जे हमर बध केर एकमात्र उपाय छौक जे अर्जुन शिखन्डी केँ आगाँ करय, हम बाण ओकरा पर नहि उठायब कारण ओ हमरा नजरि मे सब दिन स्त्री टा रहल अछि। बाण रखिते अर्जुन हमरा बाण सँ बेध सकैत अछि।” कहल जाएछ जे भीष्म पितामह कृष्णक बड पैघ भक्त, प्रशंसक, प्रेमी छलाह। भगवानक लीला सँ ओ सदैव आनन्दित होएत रहैत छलाह। भीष्म केँ सबटा ज्ञान छलन्हि। चूँकि ओ भगवान सँ पर्यन्त अस्त्र उठबेबाक शपथ लय लेने रहथि, एम्हर अपन बध करबाक उपाय सेहो प्रियपात्र युधिष्ठिर सँ दय देलनि आर फेर जे ऐगला दिनक युद्ध भेल तेकर विलक्षणता गहींर मनन केला सँ बहुत अजीबोगरीब बुझायत। वर्तमान समयक राजनीति मे अनेकों उठा-पटक आ अनैतिकताक खेल नैतिकताक नाम पर किछु एहि तरहक युद्धक परिचायक बुझाएत अछि। सब किछु पूर्व निर्धारित लेकिन सब अपन पूर्ण शक्ति आ ईमानदारिता केँ कर्तव्यनिर्वहण मे झोंकि देने रहैत अछि। कने देखू ऐगला दिनक युद्ध…!!
 
भीष्म पितामह अपन पूर्ण प्रखर शक्तिक संग अर्जुनक रथ केँ विदीर्ण कय दैत छथि। अर्जुनक रथ पर स्वयं भगवान् कृष्ण रहितो, हुनक रथक ध्वजा मे स्वयं बजरंगबली हनुमानजी विराजित रहितो… भीष्म पितामह अपन सम्पूर्ण शक्ति सँ लगातार बाणक बरसात कएने अर्जुन, कृष्ण सभ केँ घायल कय देलन्हि। रथ टूटिकय टुकड़ा मे बिखैड़ गेल। कृष्ण सब किछु जनितो हुनक प्रण केँ पूरा करबाक लेल आखिर रथक पहिया हाथ मे उठाकय भीष्म केँ ललकारलन्हि…. बहुत भेल पितामह भीष्म! आब अहाँक बध हमरे करय पड़त। भीष्म हँसैत कृष्णक ई तेख-तामश आ लीलाक आनन्द लैत बध होयबाक लेल तत्परता सँ हाजिर देखेलाह। एम्हर अर्जुन अपन प्राणक रक्षा होएत देखि, पुनः शिखन्डी वला उपाय केँ मोन पाड़ि भगवान् कृष्ण सँ अस्त्र राखि देबाक अनुरोध कयलन्हि। हालाँकि ताबत धरि भीष्म पितामह केर प्रण जे प्रभुजी सँ अस्त्र उठबायब से पूरा भऽ चुकल छल। शिखन्डीक सोझाँ पड़िते ओ बाण राखि देलनि, ई कहैत जे हम तोरा सदैव स्त्री मानल आर हम तोरा पर अस्त्र प्रहार नहि करब… लेकिन शिखन्डी अपन प्रतिशोध लेबाक कारण दोबारा जन्म लेबाक बात कहि आइ ओकरे बाण सँ हुनक मृत्यु होयत कहिकय बाण चलाबय लगलाह। भीष्म अपन पीठ घुमाकय ओकर बाण केँ सहि रहल छलाह। लेकिन ताहि सँ हुनकर बध होयब संभव नहि रहय। तखन कृष्ण अर्जुन सँ अपन बाण सँ पितामह केर बध लेल उकसायल गेल… आर फेर भीष्म मुर्च्छित भऽ पीठहि मे लागल बाण केर शय्या पर अर्राकय खैस पड़लाह, पुनः बाणहि केर तकिया, बाणहि सँ जमीन फोड़ि शीतल जल केर पान… आदि भेल आ सूर्य जखन उत्तरायण मे प्रवेश करता तखन मृत्यु केँ वरण करबाक बात कहि सब केँ ओ विदाह कयलन्हि।
 
एतय, गर करयवला बात बहुत रास छैक। एखन मूल बात एतबे जे जाहि कृष्ण द्वारा महाभारतक युद्ध मे अस्त्र नहि उठेबाक वचन देल गेल छल, से भक्तक कल्याण आ दोसर भक्तक मान केँ रखबाक लेल अनैतिकताक कलंक माथ पर लैत आखिर रथांगपाणी सेहो बनलाह।
 
हरिः हरः!!
किछु लेख जे हमरा आइ एहि आलेख लेल प्रेरित करबाक संग-संग बहुत रास नव जानकारी सेहो देलकः

Surdas on Bhishma’s second, fiercer vow

We know of Devavrata’s famous vow of accepting Satyavati’s son as his king and observing celibacy for life in the ‘Mahabharata’, so that his father Shantanu could marry Satyavati (whose father wanted Satyavati’s child to be the heir). It was this vow due to which Devavrata was named Bhishma by the gods. But there was another vow that Bhishma made, that he would make Krishna break his vow of not taking up arms in the battle of Kurukshetra. Let us live through this fiercer vow of Bhishma in the magical words of Surdas in Braja Bhasha. Surdas is known to excel at ‘vatsalya rasa’ (emotion of parental love), here he excels in ‘vira rasa’ (the heroic emotion). The stanza, set to Rag Sarang, is from the first book of the Sur-sagar:

“If I do not make Krishna take up arms today, I will embarrass my mother Ganga and will no longer be known as the son of Shantanu.[1] After shattering [the other] chariots, I will shatter the great chariot [of Arjuna]. I will make it fall to the ground along with the flag of Hanuman. I swear on Krishna, if I cannot do all this, then I will not get the state (svarga) which awaits a Kshatriya.[2] Facing the Pandava forces, I will run [alone] and spill rivers of blood. Says Surdas, [Bhishma takes the resolve that] I will not show my back to Krishna, the friend of Arjuna, as long as I live.[3]”

“यदि आज मैं हरि को शस्त्र धारण नहीं करवाऊँगा तो मैं अपनी जननी गङ्गा को लज्जित करूँगा और [अपने पिता] शन्तनु का पुत्र नहीं कहाऊँगा॥ १ ॥ रथों को खण्ड-खण्ड करके [अर्जुन के] महारथ को खण्डित करूँगा और कपि-ध्वज सहित उसे गिरा दूँगा। यदि इतना नहीं कर पाया तो हरि की शपथ है कि मैं क्षत्रिय की गति (स्वर्ग आदि) नहीं पाऊँगा॥ २ ॥ मैं पाण्डव दल के सन्मुख होकर दौड़ूँगा और रक्त की नदी बहा दूँगा। सूरदास कहते हैं [की भीष्म ये प्रतिज्ञा करते हैं] कि जीते-जी मैं अर्जुन के सखा कृष्ण को पीठ नहीं दिखाऊँगा॥ ३ ॥”

आजु जौ हरिहिं न सस्त्र गहाऊँ।
तौ लाजौं गंगा जननी कौं सांतनु-सुत न कहाऊँ॥ १ ॥
स्यन्दन खंडि महारथ खंडौं कपिध्वज सहित गिराऊँ।
इती न करौं सपथ तौ हरि की छत्रिय-गतिहिं न पाऊँ॥ २ ॥
पाण्डव-दल-सन्मुख ह्वै धाऊँ सरिता रुधिर बहाऊँ।
सूरदास रणविजय-सखा कौं जियत न पीठि दिखाऊँ॥ ३ ॥

भीष्म पितामह केर पाँच स्वर्णिम बाण केर रहस्यः लेखक – विरुपाक्ष दास

महाभारत के युद्ध में दुर्योधन ने भीष्म पितामह पर यह आरोप लगाया कि वे पूरी तीव्रता से युद्ध नहीं कर रहे हैं, इसलिए अभी तक पांचों पांडव जीवित हैं । ऐसी तीक्ष्ण बाते सुनकर भीष्म पितामह के हृदय को ठेस लगी । 5-arrows-of-bhishmaउन्होंने ऐसा झूठा और नीच आरोप लगाने के लिए दुर्योधन की भर्त्सना की । फिर उन्होंने अपने शस्त्र भण्डार से पाँच अद्भुत दिखनेवाले बाण निकाले और दुर्योधन से कहा, “दुर्योधन, यह पाँच बाण मैंने पांडवों की हत्या के लिए विशेष रूप से तैयार किये हैं। इसके बावजूद तुम मुझपर राजद्रोह का आरोप लगा रहे हो । यह बाण अचूक हैं और मेरा प्रण है कि मैं कल युद्ध में इनसे पांडवों का वध करूँगा ।” दुर्योधन वह बाण देखते ही अत्यंत प्रफुल्लित हुआ, किन्तु उसने सोचा, “यदि किसी प्रकार यह बात पांडवों को पता चली तो श्री कृष्ण इन बाणों को प्राप्त करने के लिए अवश्य षड्यंत्र रचेंगे। और यदि उन्होंने अर्जुन को यह बाण लेने के लिए यहाँ भेजा तो पितामह दे देंगे।” उसने तुरंत भीष्म पितामह से वह बाण अपनी सुरक्षा में रखने के लिए माँगे और अपने शिविर में चला गया ।

भगवान् कृष्ण की रणनीति

भगवान् कृष्ण अंतर्यामी हैं और उन्हें सब कुछ पता चल गया । उन्होंने अर्जुन को भीष्मदेव की प्रतिज्ञा के बारे में बताया और निर्देश दिया, “यह बाण अब दुर्योधन के पास हैं । क्या तुम्हे याद है कि एक बार दुर्योधन ने तुम्हेँ एक इच्छा पूर्ती का वचन दीया था । तुम दुर्योधन को इस वचन की याद दिलाओ और उससे वह पाँच बाण लेकर मेरे पास आओ ।” भगवान् के आदेश पर अर्जुन दुर्योधन के शिविर में गए । दुर्योधन ने अर्जुन से पूछा कि क्या तुम युद्ध रुकवाने के लिए आये हो या राज्य मांगने ? अर्जुन बोले, “नहीं, युद्ध तो जारी रहेगा । लेकिन यदि आपको याद है, कि आपने मुझे कुछ देने का वचन दिया था ।” “हाँ, अवश्य याद है । बोलो क्या चाहिए ।” “मुझे पितामह के वह विशेष पाँच बाण चाहिए ।” दुर्योधन ने तुरंत वह बाण अर्जुन को सौंप दिए और यह समाचार पितामह भीष्म को मिला।

भीष्मदेव की प्रतिज्ञा

भीष्मदेव भी अर्जुन की तरह ही भगवान् कृष्ण के परम भक्त हैं । वे जानते थे की भगवान् कृष्ण बहुत चतुर हैं और वे अपने भक्तों को अवश्य बचाएँगे, इसलिए उन्होंने ऐसा किया है । वे बोले, “यदि कृष्ण ने मेरी प्रतिज्ञा तोड़ी है तो मैं भी कृष्ण को उनकी प्रतिज्ञा तोड़ने के लिए बाध्य करूँगा । मैं इतना घमासान युद्ध करूँगा कि कृष्ण को शस्त्र न उठाने का अपना वचन तोड़ना ही पड़ेगा । यदि कल कृष्ण ने अपनी प्रतिज्ञा नहीं तोड़ी तो अवश्य ही उनका मित्र अर्जुन युद्ध में मारा जाएगा ।”

भगवान् बने रथांगपाणी

rathangapani-krishnaदूसरे दिन भीष्मदेव ने अर्जुन के विरुद्ध इतना घमासान युद्ध किया कि अर्जुन के प्राण पूरी तरह से संकट में पड़ गए । अर्जुन का रथ टूट कर बिखर गया और वह निचे गिर गए । तब भगवान् कृष्ण के समक्ष दोगंभीर विचार आए । पहला था अपने परम सखा अर्जुन के प्राण बचाना और दूसरा थाअपने परम भक्त भीष्म की प्रतिज्ञा को न टूटने देना । इस परिस्थति में अपने दोनों भक्तों की रक्षा के लिए उन्होंने अपनी प्रतिज्ञा  तोड़ी । एक क्षत्रीय के लिए अपनी प्रतिज्ञा तोड़ना बहुत ही अपमानजनक बात होती है, किन्तु भगवान् ने इस अपमान की परवाह नहीं की और भक्तों के कल्याण को महत्त्व दिया । उन्होंने तुरंत एक टूटे हुए रथ का पहिया उठाया और भीष्मदेव को चुनौती देते हुए कहा, “भीष्म आप अपना प्रहार बंद कीजिये, नहीं तो मैं आपका वध कर दूंगा ।” यह देखते ही भीष्मदेव ने अपने अस्त्र त्याग दिए और भगवान् का आह्वाहन करते हुए बोले, “मैं तैयार हूँ । आप मेरा वध कर सकते हैं ।” इस प्रकार इस लीला में भगवान् कृष्ण ने भीष्मदेव के वचन को भी कायम रखा और साथ ही अर्जुन कि रक्षा भी की ।

जैसे ही अर्जुन ने श्री कृष्ण को अस्त्र उठाए देखा तो उन्होंने तुरंत जाकर भगवान् के चरण पकड़ लिए और उन्हें उनके वचन की याद दिलाई। इस प्रार्थना से शांत होकर भगवान् कृष्ण ने वह रथ का पहिया फ़ेंक दिया और भीष्मदेव पर कृपा दृष्टि डालते हुए वहाँ से चले गए । भीष्मदेव अपने अराध्य भगवान् की इस अद्भुत् लीला को देखकर पुलकित हो रहे थे और भगवान् कृष्ण को प्रेममय भाव से प्रणाम कर रहे थे ।

इस लीला में भगवान् कृष्ण का नाम पड़ा रथांग पाणी अर्थात जिन्होंने अपने हाथ में रथ का अंग उठाया है ।