राजनीतिक दाव केर खेल मे नीतीश कुमार केर टक्कर नहि

सम्पादकीय जुलाई २७, २०१७. मैथिली जिन्दाबाद!! राजनीति केर दाव खेलेनाय नीतीश कुमार केर विशेषता बिहार केर राजनीति मे महागठबंधन निर्माण सँ लैत नव सरकार गठन आर सरकार...

कतय पहुँचि गेलहुँ मिथिलावासी

२५ जुलाई २०२१ - मैथिली जिन्दाबाद!! कतय पहुँचि गेलहुँ मिथिलावासी   अपने समस्त मिथिलावासीक पृष्ठभूमि मे संयुक्त परिवारक संस्कृति अछि। सौंसे गाम-समाज केँ एकत्रित भाव मे कोनो...

मैथिली गीत-संगीत-मनोरंजन केर दुनिया मे कथित सम्भ्रान्त समाजक सेंशरशीप सिर्फ एक मिथ्याचार

किछु अहिना-ओहिना: मैथिलीक मंच आ अश्लीलताक परिभाषा तकैत प्रवीण   आजुक युग मे ढोलक-झालि-मृदंग आदि पुरना जमानावला बाजा सब बड कम चलैत अछि। रसनचौकी सँ अंग्रेजी...

मैथिल ब्राह्मणक विवाह सभा सौराठ मे शुरु: मृतप्राय परंपराकेँ जियेबाक खोखला संकल्प

विशेष संपादकीय सभावास प्रारंभ मैथिल ब्राह्मणक वैवाहिक संबंध निराकरण लेल कुल ४२ सभा मे सँ एकमात्र प्रमुख सौराठ सभागाछी मे काल्हि ४ जुन सँ सभावासक प्रारंभक...

अन्तरंग प्रेम प्रदर्शनक वस्तु नहि बंधुगण! वैलेन्टाइन डे पर एना उचित नहि…….

वेलेन्टाइन डे स्पेशल वैधानिक चेतावनी   प्रेम दिवस - प्रेम विशेष चर्चा, उपहार आदान-प्रदान... रोज डे, चकलेट डे आ कि-कहाँदैन डे-फे... सुनैत-सुनैत मोन आजिज भेनाय जे...

मिथिला राज्य लेल रूटीन धरना आइः अखिल भारतीय मिथिला राज्य संघर्ष समिति

विशेष सम्पादकीय १७ जुलाई, २०१७. मैथिली जिन्दाबाद!! मिथिला राज्यक मांग पर संघर्ष केँ निरन्तरता मे रखैत अछि अखिल भारतीय मिथिला राज्य संघर्ष समिति भारतीय संसद केर मनसून...

धरातलीय परिवर्तन लेल ईमानदार नेतृत्वक आवश्यकता – वसुन्धरा झा आ जीतिया समारोह

.... आर एकटा समारोह एना बनि गेल लोकोत्सव.... (एकटा सत्यकथा जे परिवर्तन लेल धरातलीय नेतृत्व केर विकास पर आधारित अछि)   आइ सँ ठीक एक सप्ताह...

आशा पर पड़ि रहल अछि पानि: मधेस मे समस्या आ तैँ देश मे समस्या...

राज्यपक्ष केँ गंभीर होयब अत्यावश्यक!! नेपाल सरकार आ राज्य संचालन केर जिम्मेवारी सहित केर राजनीतिक दल द्वारा जाहि तरहें मधेस केन्द्रित राजनीतिक दल केर माँग...

भारतीय राजनीति मे कर्नाटकक हाई वोल्टेज ड्रामा पर एक दृष्टि

विशेष सम्पादकीय भारतीय राज्य कर्नाटक मे संपन्न विधानसभा चुनाव मे भारतीय जनता पार्टी राज्यक जनता द्वारा सर्वाधिक सीट पर विजयी बनेलाक बादो सरकार बनेबाक लेल...

जनकल्याण लेल नेतागिरी या समाजसेवा

संपादकीय नेतागिरी कम, समाजसेवा बेसी करू हरेक कार्यक वास्ते 'राजनीतिक नेतृत्वकर्ता' केँ माथ पर बैसायब हमरा बुझने ओतेक उचित नहि अछि। खासकय वर्तमान समय मे राजनीतिक...