बजार आ तारणहारक बाट तकैत मिथिला

विशेष सम्पादकीय - किसलय कृष्ण, समाचार संपादक, मैथिली जिन्दाबाद सुरूजदेब अस्तांचल दिस विदा भ गेल छथि, हम सहरसामे अपन निवासक नजदीक स्थित चौक पर बैसल छी.......

कोना बनेबय दहेज मुक्त मिथिला

कोना बनत दहेज मुक्त मिथिला   दहेज प्रथा खराब छैक। दहेजक लेन-देन अबैध छैक। लेकिन समाजक अगुआ वर्ग एकरा जानि-बुझि अपनेने अछि। अपना केँ जे चलाक...

सामाजिक एकजुटता मे दिन-दिन कमी के कारण की

सम्पादकीय २८ दिसम्बर २०२१ । मैथिली जिन्दाबाद!!   आइ एकटा विवाह उत्सव पर ताम-झाम मे लाखों रुपया खर्च करबाक नियति बनि गेल अछि। आब लोक पहिने जेकाँ...

सिर्फ नकल कय केँ मिथिलावादक पृष्ठपोषण कहियो संभव नहि होयत

नकल सँ आगू बढब असंभवः हाल-ए-मिथिलावाद ओना त एखन कोरोनाक भयावहताक बीच भँवर सँ हम मिथिलावासी संसारक आन भागक वासी सब जेकाँ कोहुना-कोहुना सुरक्षाक ध्यान...

स्वरोजगारक सरकारी योजना आ लाभ केकरा भेटैत अछि

स्वरोजगारक सरकारी योजना आ आम जनमानस   आम जनता केँ राजकाजक विषय मे अत्यल्प रुचि आ जुड़ावक कारण स्वरोजगारक सरकारी योजनाक जानकारी नहि के बरोबरि रहैत...

महाकवि विद्यापति सँ भेटल प्रेरणा

संपादकीय - मई १०, २०१७. सबसँ पहिने त ई कहि दी जे महाकवि कोकिल विद्यापतिक नामहि सुमिरन एतेक सुखदायी अछि जेना हम हिनका स्मरण नहि...

मिथिला विभाजनक १३८ वर्ष बाद…. गोरखा पायाक विरोध

विशेष सम्पादकीयः सन्दर्भ गोरखा पायाक विरोध आ वर्तमान राजनीतिक अवस्था मैथिली साहित्य केर दिग्गज स्रष्टा डा. रामदेव झा केर आर्काइव सँ साभार हुनक सुपुत्र विजय...

अभावहि-अभाव मे जनजीवन त्रस्तः नेपालक वर्तमान

नेपालक स्थिति पर विशेष करीब १०० दिन सँ बेसी सँ चैल रहल आन्दोलन सऽ समूचा नेपाल अस्त-व्यस्त बनि गेल अछि। ५० सँ बेसी आन्दोलनी शहीद...

मैथिली मचान, मैथिली पुस्तक प्रदर्शनी, विश्व पुस्तक मेलाः वर्तमान आ भविष्य

विशेष सम्पादकीय  २७ दिसम्बर, २०१७. मैथिली जिन्दाबाद!! आगामी ६ जनवरी सँ १४ जनवरी - २०१८ धरि भारतक राजधानी दिल्ली मे विश्व पुस्तक मेला लागि रहल अछि।...

मैथिली मचान – विश्व पुस्तक मेलामे जुटि रहल अछि बेसम्हार भीड़ः क्रान्तिकारी परिवर्तन

मैथिली मचानपर रवि दिनक भीड़ भेल बेसम्हार   सन्दर्भः दिल्ली विश्व पुस्तक मेला २०१ मे मैथिलीक पहिल बेरक प्रतिनिधित्व   समूचा संसार मे रहि रहल मैथिलीभाषी लेल ई...