आब जेहेन लागए, मुदा हास्य थीक आ सेहो होली विशेष

फगुआ-विशेष किछु रचना - अमर नाथ झा, महरैल, मधुबनी। खटमधूर मनुखक जीवन भेलइ उस्सठ, रहलइ नै किछु लास्य हास के बूझय गारि सम , गारि लगइ जनु हास्य...

होली विशेषः गाम अपन आब गाम नै रहलै

कविताः गाम अपन आब गाम नै रहलै - रवि झा, दहेज मुक्त मिथिला सदस्य (सितम्बर १२, २०१४ केँ प्रेषित) लोक - वेद बैसार रहै छल, रंग - रीति...

मिथिलाक ऐतिहासिक शिलालेख केर रक्षा स्वयं करू

इतिहास बचेबाक सार्वजनिक अपील - पंडित भवनाथ मिश्र, मिथिलाक्षर लिपिकेर पुरालेखविद्  पंडित भवनाथ बाबु वर्तमान समय महावीर मन्दिर, पटना मे प्रकाशन तथा शोध अधिकारी केर पद...

विश्व कविता दिवस पर एकटा खास प्रस्तुति

हमरा हँसी लगैत अछि - प्रवीण नारायण चौधरी   हाहाहा! आब हमरा हँसी लगैत अछि, अपना आप पर, अपन समाज पर, अपनहि लोक-वेदपर! कि कही अपना आप केँ या समाजकेँ... झूठक...

राष्ट्र, राष्ट्रवाद आ धर्म पर नव चिन्तन कतेक उचित

आलेख - राम कुमार सिंह, मधेपुर, मधुबनी (हाल दिल्ली) धर्म-अधर्म, राष्ट्रवाद-राष्ट्रद्रोह, देशभक्ति-गद्दार शब्द वर्तमान समय में चरम पर देखल जा रहल अछि। समाचार पत्र हुए चाहे...

हरिमोहन झा – मैथिलीक प्रख्यात लेखकक ई ‘पाँच पत्र’

हरिमोहन झा लिखित पाँच पत्र पाँचपत्र (हरिमोहन झा) (१) दड़िभंगा १-१-१९ प्रियतमे अहाँक लिखल चारि पाँती चारि सएबेर पढ़लहुँ तथापि तृप्ति नहि भेल. आचार्यक परीक्षा समीप अछि किन्तु ग्रन्थमे कनेको...

ग्रह शान्ति केर नीक उपाय

साभारः राम बाबु सिंह, मधेपुर, मधुबनी हिन्दू संस्कार में ग्रह नक्षत्र के विशेष महत्व होयत अछि संगहि एकर जीवन में निक आ बेजा दुनु तरहक...

दक्षिण भारतवर्षक कैलाशः श्रीलंकाक कोनेश्वरम महादेव मन्दिर

श्रीलंकाक कोनेश्वरम महादेवक दर्शन । दक्षिणक कैलाश। - आशुतोष चौधरी, नदियामी, दरभंगा। (हालः श्रीलंका सँ) श्रीलंकाक पूर्वी प्रान्त में पूर्वी तट पर स्थित छैथ कोनेश्वरम...

इनार नीक कि समुद्र नीकः दृष्टिकोण आ विचारधारा

एकटा खिस्साः इनार नीक कि समुद्र नीक - प्रवीण नारायण चौधरी    आइ एकटा खिस्सा फेर मोन पड़ि गेल अछि.... ओ रामकृष्ण परमहंस द्वारा अपन शिष्य सबकेँ...

गीताः योगारूढ कोना बनब – सहज उपाय

गीताक तेसर बेरुक स्वाध्याय   (निरंतरता मे अध्याय ५ मे ब्रह्म अनुभूति आर जीवन मे रहितो मुक्त होयबाक उपाय कृष्ण द्वारा बतेबाक बाद..... अध्याय ६)   ॥ॐ श्रीपरमात्मने...