“प्रकाशक पर्व : दिवाली”

142

— लवली झा।                 

सब गोटे के प्रणाम करैत 🙏🏻 दियाबती पाबैन के हार्दिक शुभकामना दैत छी✨🌟
दियाबाती शब्दे ज्योर्तिमय वातावरणके प्रदर्शित करैत अछी, दियाबाती पर्व अपने सब बहुत श्रद्धा  स मनाबैत छी परंपरागत रूप स माता लक्ष्मी आ बिघ्नहर ता गणेश, कुबेर महराज पुजा अर्चना करई छी ।धन तेरस सांझ में जम्ह के दीप गोनौरा या पचछूआर बारी में जरूर जरबैत छी मुदा ई सब त एखण के बात छी, सच कहूं त दियाबाती के जे खुशी घीया पुता रही रखन भेटय ओतेक आब कहां आब त सब काज जिम्मेदारी स पूरा भरल रहैया दश दिन पहिले स साफ सफाई पूजा पाठ फेर परम्परा गत भोजन के ओरियान करू तकर बाद बउआ बुच्ची सब फटाका फूलझारी फोरता भजता ताहु पर ध्यान देव परैया आ तखने hunke सब संग duta फूलझरी हम्हू भाजी लै छी ! तहने मोन परैया अपन बाल्य काल के दियाबाती ।पहिले हमर मां घर सब साफ केलओ फेर पापा घर सब अंदर सौ नहियो रंगैल त बाहर s जरूर रंगवई छलखीं आर कुम्हैन दीप आ मटिक डिबिया द जय छलखीं और हम सब बेसि दीप जराब लेल दबाई बाला सीसी सब मां के जमा कक दई छलीयाई मां के समस्या तेल के कियाजी डीलर सब पहिले आन महीना में कानी बेसियो मटिया तेल दई छलखिन मुदा दिया बाती में कपैछ लै छलखीन पहिले बिजली त नामेमात्र छल फेर आयल मोमबत्ती सेहो लेसई छलु अपना ओत हम सबस छोटे रही ताई छत पर दीप हम्ही लेसइ छलऊ पापा या भाई जी देखैत रहे छलखीन एक बेर हम पहिले दिन लालटेन साफ कर गेलऊ मुदा छाती टा सीसा futi गेल हमरा स दलाने पर दोकन छल से भाई जी तुरत्ते सीसा ल अब्सी छलखीन ओहि दिन मां के तामस स भाई जी बचाने रहाइथ आखिर भाई त भाई होई छैत ।हम सब मैट इटा स जोड़ी क घर बनबै छलू ओहो पर दीप लेसाई छल । तकर बाद हुक्का लोली भजव देहो जिद करै छलऊ मुदा हुक्का लोली चच्चा नई दाई छलैथ फेर लगईं छलाऊ जे भाईजी सब संगे मिर्चैया फोरब ओत्ताओ सब फटकारी के भागा देत छला तहन अंत मे एक टा टीन बाला बंदूक चुटपुटिया गोली आ फूलझड़ी किन देत छलाह पापा, मां कहई छलखीन नवका kapra पहिर क फटका लग नई जो नई लुत्ती पैर जेतो तकर बाद भोजन होई छल दैल भात तरकारी तरुआ खास क खम्हौर आ तिलकोर के।तकर बाद सब गोटे नावका kapra पाहिर क हमरा सभ के अपने काली मंदिर पर भव्य मां काली के पुजा होईत छल आ ओहि समय मे नाटक पार्टी गंगाराम अबैत छल से सबकनी काल धेखलाऊ फेर घर एलऊ। बचपन मे जे कोनो पर्व मानव के आनंद अछी o उमेर के कोनो अवस्था में नई इ हो टालल नई जा सकैया सब अवश्य में सब रंगक आनंद छैक 🙏🏻🌹🌟🌟हैप्पी दिपावली 🌟🌟🙏🏻🌹