“दहेज के विकराल रूप : सत्य घटना पर आधारित”

278

लवली झा।                     

आई ektaa dahej पर आधारित सत्य घटना के संक्षिप्त वर्णन लिख रहल छी।
अखन स चारि वर्ष पाहिले हमरा सासुरे में प्रिया के विवाह भेल रहेन खूब धूम धाम स वर अभियंता छैथ नाम प्रकाश झा प्रिया बहिन मे असगरे छलीः हुनकर बाबूजी 10,12लाख टका खर्च केने रहैथ बहुत सुंदर जोड़ी रहें सर समाज सब खूब विवाह स खूब आनंदित रहइथ एक साल बाद Ekta बेटा सेहो भेल मुदा दहेज रूपी अग्नि प्रिया के जीवन जरा क छाउर क डेलक भेल ई जे प्रिया के दहेज मे शायद कार के मांग शेहो रहें जे प्रिया के बाबूजी नै द पेलखीन ताहि द्वारे जखन ओ गर्भवती रहइथ t हुंका नैहर में छोड़ी देलखीन वरो देख सुन नई अबे छलखीन सासुर बाला सब हरदम हुनका संग गलत व्यवहार,मारपीट करै छलखिन आ नैहर स कार आन के लेल दबाव बनने रहे छल मुदा जखन कार नई भेट लेन त प्रिया के छल स बजा क हुनका संग प्रेम पूर्ण व्यवहार क हुनका फेर स गाड़ी के मांग केल गेल प्रिया बात नई मनली जाहि कारण पति ,सासू ,ससुर, आ सब परिवार मिली क मरैत मारैत जान स मारी क फांसी पर लटका देलक आ ताहु स जे मोन नै भरलई त पास के जंगल में लाश के फेक एलई जखन नैहार स सब गेल t कहलक je अपने आत्महत्या केनेे छैथ तकर बाद त केश भेल ससुर पक्ष सब जेल गेल कार पर चढ़ते रहला मुदा बात अत्तै काम नई होई छैक प्रिया के जाहि तरह मारल गेल बर्बरता स से फोटो पूरा सोसल मीडिया पर प्रकाशित भेल छल बहुत लोक देखने हैव । ऐकर सजा त कम स कम फांसी होबहे के चाहि मुदा कानूनों अजीव अच्छी सब बेल लक बाहर में आनंद s अछी, हत्यारा दानव सब के अपन एक वर्षक बेटा पर सेहू दया नई आयल । ताई लक अपना सब के बेटी विवाह बस लड़का के पोस्ट या पद स नई बल्कि पूरा परिवार के केहन व्यवहार आ रहन सहन पर ध्यान जरूर देवक चाही आ दहेज में कखनों कुछ गछवाक नई चाही ।बेटा बेटी के विवाह बिना लेनदेन के करू जौ मोन के मनालेब त बिना दहेज के विवाह करब जीवन सुखमय भ जायत , नही त कटेको प्रिया के बलि चढ़त काटेको बच्चा माय स अलग bh जयत कटेको माय बाप बेटी अछैत बिनु बेटी के भ जैत।