भारत मे आम निर्वाचनक तेसर चरणक चुनाव आइ – मोदीक लहैर टा नहि सुनामी चलबाक स्थिति

मोदी लहैर नहि बल्कि सुनामी
 
काल्हिये के बात छी। काँग्रेसक एक वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह जिनका दिग्घी राजा सेहो कहल जाइत छन्हि, जे मध्यप्रदेशक कतेको वर्ष धरि मुख्यमंत्री सेहो रहलाह, जे अपन कतेको हिन्दू विरोधी बयान लेल जानल जाइत छथि आ पुछला पर ओहि हिन्दू-विरोधी बात केँ हिन्दुत्व केर नाम पर आ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सँ जोड़ि अपन आइडियोलोजी सँ अलग कहिकय आलोचना करबाक बात मात्र कहैत छथि…. जे एहि बेर भारत देशक एक चर्चित सीट भोपाल सँ कांग्रेस पार्टीक संसदीय उम्मीदवार छथि आ जिनका विरुद्ध हिनके लोकनिक मायाजाल केर शिकार एक साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर हिनका भाजपा सँ चुनौती देबाक लेल ठाढ कयल गेली अछि – से दिग्विजय सिंह काल्हि एक सभा मे ‘कांग्रेसक पास बिना कोनो ठोस मुद्दा यथाभावी बात कय केँ पब्लिक सँ वोट मंगबाक’ काज कय रहल छलाह।
 
दिग्विजय सिंह सभा मे नरेन्द्र मोदीक पूर्व चुनावी बात मोन पाड़ैत पूछलखिन जे केकरा-केकरा खाता मे १५ लाख टका नहि आयल से हाथ उठाउ, हुनकर सभा मे उपस्थित लगभग सब कियो हाथ उठा देलकनि। तखन मखौल उड़बैत ओ अपन धुन मे आगू बढैत ईहो पुछलखिन जे केकरा-केकरा खाता मे १५ लाख आबि गेल से हाथ उठाउ। ताहि पर एक गोट युवा हाथ उठा देलकनि। आब ओकरा बुरबक बनबैत ओ कहलखिन जे अहाँ एम्हर आउ, अपन खाता संग लेने आउ, इशारा करैत मंच पर बजेलखिन। बेचारा ओ युवक – कनीकाल लेल लजा गेल आ मंच सँ बिपरीत दिशा मे जाय लागल। लेकिन ओ कांग्रेसी वरिष्ठ नेता जखन ओकरा ललकारा देलखिन त ओहो ठानि लेलक जे हिनका १५ लाख के दर्शन करइये दैत छी। ओ युवा केँ दिग्विजय सिंह मंच दिश एबाक लेल कहलखिन, ओहो चट स’ घुमिकय मंच पर आयल आ माइक पर बाजब शुरू केलक। ओ कहलकैक –
 
“नरेन्द्र मोदी जी देश सँ आतंकवादी केँ भगौलनि, आतंकवादी सब केँ घर मे घुसिकय मारलनि।”
 
एतेक सुनैत देरी ओकर माइक सँ दूर करैत दिग्विजय सिंह आ हुनक कार्यकर्ता केँ मोदीक लहैर टा नहि सुनामी चलि रहबाक बात पता चलि गेलन्हि।
 
काल्हिये वैशाली जिलाक कोनो स्थान पर एक टीवी चैनल केर रिपोर्टर पब्लिक संग चाहक चुस्की लैत बातचीत करैत रिपोर्टिंग कय रहल छलाह। ओ पब्लिक सँ पुछथिन जे एहि बेर वैशाली सँ केकर स्थिति नीक अछि, अहाँ सभक काज ५ वर्ष मे केहेन भेल। बहुत बड़-बुजुर्ग लोकनि ओहि ठाम सँ लड़ि रहला राजद केर वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह केँ अपन पसीन बतौलनि, मुदा युवा आ विकासक विभिन्न काज सँ अवगत मतदाता लोकनि बेर-बेर मोदी-मोदी कयलनि, बिजली, सड़क, स्वास्थ्य, घर-घर मे शौचालय, घर-घर मे गैस सप्लाई, किसान लेल पेन्शन आदि कय गोट बात ओ सब मोदी द्वारा कयल जेबाक बात उजागर करैत मोदीक लहैर नहि सुनामी चलि रहबाक बात कहलनि। तथापि, किछु लोक जातिक नाम पर वोट देबाक आ मोदीक विरुद्ध जेबाक बात सेहो बजलाह। ओहि क्षेत्र सँ चुनल गेला संसद ५ वर्ष मे दर्शन नहि देलनि से शिकायत सेहो रखलाह। सम्पूर्ण साक्षात्कार मे ९५% पक्ष लेकिन मोदी-मोदी केर रहल। चूँकि देशक आमजन लेल सशक्त नेतृत्वक एक महत्वपूर्ण उदाहरण ठाढ कयलनि अछि मोदी जी, ताहि कारण यैह हवा चारूकात बहि रहल अछि। तखन त निर्णय २३ मई केँ आओत।
 
हरिः हरः!!