महिलाक हाथ मे बागडोर सौंपिकय देखू – मिथिलाक प्रगति सूत्र पर करुणा झा

लेख - करुणा झा, राजविराज मिथिलानी सबस अपेक्षा बढ़ि रहल छै मैथिल समाज स्वभावत: बड़बोला समाज अछि। जतेक छै तहि स बेसी बाजब मैथिल के स्वभाव रहल...

मिथिलाक पिछड़ापनक मुख्य कारण अशिक्षा, आ अशिक्षाक मुख्य कारण की?

बहस मिथिलाक पिछड़ापनक मुख्य कारण अशिक्षा, आ अशिक्षाक मुख्य कारण की? एक सर्वेक्षण - सर्वेक्षक प्रवीण नारायण चौधरी द्वारा फेसबुक पर विचार-विमर्श   सामाजिक संजाल केर बहुत...

हर सफल महिला के पाछाँ एक पुरुष के हाथ होइत अछि – प्रतिभा झाक...

लेख - प्रतिभा झा, विराटनगर (बीए, प्रथम वर्ष) ओहि पुरुषके हमरा तरफ सं कोटि-कोटि प्रणाम जे एहि कलयुग मे नारीक सम्मान के रक्षा हेतु अपन मस्तक...

चर्चित विद्वान् पं. गोविन्द झाक चिट्ठी मिथिलाक मुखिया लोकनिक नाम – सन्दर्भ मैथिली पठन-पाठन

महत्वपूर्ण लेखः साभार डा. रमानन्द झा 'रमण' केर फेसबुक पोस्ट (ई आलेख पटना सँ प्रकाशित मैथिली मासिक पत्रिका 'घर-बाहर' मे सेहो प्रकाशित भऽ चुकल अछि। मिथिलाक...

कहीं हमहुँ-अहाँ एहि रोग केर शिकार त नहि?

विचार - प्रवीण नारायण चौधरी #वाणीसूल_बीमारी काफी समय अध्ययन सँ एक विशेष तरहक रोग केर पता चलल, एहि रोग केर नाम छी 'वाणीसूल'। जेना सूलवाइह (डिसेन्ट्री) पेट...

सरदार पटेल या नरेन्द्र मोदीक खोज मिथिला लेल जरूरी (विमर्श)

एक जरूरी विमर्श - विद्वानक सहभागिता वांछित सन्दर्भ - मिथिलाक आर्थिक विकास मे उद्यमशीलताक भूमिका  मैथिली मे संचारकर्म केर धर्म केँ निभबैत, विद्यमान समाज मे मिथिला...

राष्ट्रीय जनगणना २०७८ नेपाल आ मैथिली सेवा समिति विराटनगर केर वृहत्-विचार-विमर्श कार्यक्रम

राष्ट्रीय जनगणना २०७८ नेपाल आ मैथिली सेवा समिति विराटनगर केर वृहत्-विचार-विमर्श कार्यक्रम मे प्रवीण विचार ६ जनवरी २०२१, जानकी सेवा सदन, विराटनगर मे ३ बजे...

मिथिला केँ दहेज सँ मुक्ति दियेबाक लेल हम-अहाँ कि करबैक?

दहेज मुक्त मिथिला - जरूरी सवाल-जवाब १. फेसबुक सँ दहेज मुक्त हेतैक मिथिला? उ. फेसबुक पर हम-अहाँ हजारों के संख्या मे जुड़ल छियैक आर दहेज प्रथा...

दहेज प्रथा और मैं – एक जरूरी हिन्दी लेख

लेख - प्रवीण नारायण चौधरी दहेज प्रथा और मैं   एक लेख हिन्दी में - उनलोगों के लिये जो अक्सर हिन्दी ही लिखते रहते हैं, हिन्दी लिखने-पढने में...

अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन – विश्व भरिक मैथिलीभाषी केँ एकजुट करबाक अचूक आयोजन हो

विचार - प्रवीण नारायण चौधरी नीक बातक अनुकरण करैत बढब जरूरी छैक सन्दर्भः मैथिली-मिथिला लेल आयोजित विभिन्न कार्यक्रम आ ओकर पैटर्न विगत एक दशक सँ जे किछु अनुभव...