हँसी कि कानी – आध्यात्मिक चिन्तन आ जीवन दर्शन

विचार - प्रवीण नारायण चौधरी हँसी कि कानी....! किछु दिन सँ दिमाग मे एहेन-एहेन बात आबि रहल अछि जे खने हँसबैत अछि, खने दुःखी कय दैत अछि।...

बिपीएससी परीक्षाक तैयारी लेल किछु महत्वपूर्ण सुझाव

बिपीएससी परीक्षा मे सफलता प्राप्त अभ्यर्थीक अनुभव - संजय मिश्र, दरभंगा (लेखक बिपीएससी परीक्षा पास कय हाल एसिस्टैन्ट कमिशनर टैक्स पद पर कार्यरत छथि) विगत किछ बरिखसँ...

लव मैरिज आ अन्तर्जातीय विवाह – एक समीक्षा

विचार - प्रवीण नारायण चौधरी लव मैरिज - अन्तर्जातीय विवाह एहि विषय पर 'दहेज मुक्त मिथिला' समूह पर एखन धरि हजारों बेर ओहिना विमर्श भेल जेना एहि...

समाज मे सभक योगदान छैक – सभक प्रति स्वीकार्यताक भाव सब व्यक्ति मे जरूरी

जड़ व्यक्ति मे सेहो अनेक सद्गुण आ वैशिष्ट्य छैक - प्रवीण नारायण चौधरी एहि संसार मे भिन्न-भिन्न प्रकारक मनुष्य रहैछ। ओकर वृत्ति (कर्म) सेहो भिन्न-भिन्न होइछ।...

मिथिला समाज मे लैंगिक विभेदक निन्दनीय अवस्थाः कि एखनहुँ बदलि सकल अछि समाज?

विचार - श्वेता चौधरी अपन समाज मे लोक सब केँ बजैत-कहैत देखल जाइत अछि - "बेटी बोझ होई छै", "बेटी पराया धन होई छै", "हे जल्दी...

सरकारी नौकरी आ प्राइवेट नौकरी बीच तुलनात्मक समीक्षा

दहेज मुक्त मिथिला आ सरकारी नौकरी   (सरकारी नौकरी आ प्राइवेट नौकरी - एक तुलनात्मक अध्ययन) - प्रवीण नारायण चौधरी मिथिला मे दहेज प्रथा   हम सब एकटा जनजागरण...

मैथिलीक एक अनन्य सेवक स्व. बागीश्वर बाबूक अन्तिम प्रश्न मैथिली सँ

अनुत्तरित प्रश्न (सामाजिक सरोकार आ चिन्तन) मैथिलीसेवी बागीश्वर झा प्रति श्रद्धाञ्जलि सुमन अर्पित - मैथिलीक एक समर्पित सृजनकर्मी स्व. बागेश्वर झाक ई दर्द भले आब ओ...

स्वधर्मे निधनं श्रेयः परधर्मो भयावहः – स्वत्व सँ दूर सन्तोष नहि

विचार - प्रवीण नारायण चौधरी स्वत्व सँ दूर सन्तोष नहि   मयूर केर नाच देखि कौआ लोभा गेल। मयूर सभ चलि गेलाक बाद ओहो ओकर पाँखि पहिरि नाचय...

परदेश नहि जेता त ब्याहो पर आफद – सन्दर्भ मिथिला सँ पलायन पर युवा...

युवा विचार - सागर झा (दहेज मुक्त मिथिला पर लेखनीक प्रवाह अन्तर्गत लिखल गेल लेख जाहि मे एक युवा अपन विचार रखलनि अछि, पठनीय आ मननीय...

कियैक नहि भ रहल अछि मैथिल ब्राह्मण समुदाय केर लड़काक विवाह

मैथिल ब्राह्मण समुदाय आ कुमार लड़काक बढैत संख्या हम मैथिल ब्राह्मण समुदाय सँ छी। ओना त मिथिला सँ सब जाति सिर्फ आ सिर्फ मैथिल कहाइत...