विद्यापतिक असल पाग बनि गेल दोहा-कतार मे

नवम्बर २७, २०१५. मैथिली जिन्दाबाद!! कतार केर दोहा मे होयत विद्यापति स्मृति पर्व समारोह आइ २७ नवम्बर, २०१५ मिथिला व मैथिलीक संसार मे एकटा नव इतिहास...

आजुक युग मे मिथिला केँ विश्व परिवेश मे ‘मिथिला चित्रकला’ सँ चिन्हल जाइत अछिः...

अन्तर्राष्ट्रीय परिधि मे मैथिली मिथिला   सन्दर्भ मिथिला पेन्टिंग पर आस्ट्रेलिया   आजुक विश्व मे मिथिला केँ पहिचान दियाबय लेल 'मिथिला पेन्टिंग' अकेले दम पर सर्वोच्च स्थान हासिल...

गोरखा रेजिमेन्ट केर १२ अद्भुत रहस्य – एक ‘मस्ट रीड अंग्रेजी लेख’

नेपालक वीर गोर्खाली गोरखा मूल केर वीर सेना आइ नेपालक अलावे भारत तथा बेलायत केर सेना मे सांगठनिक स्तर पर अपन स्थान सुरक्षित कयने अछि।...

मिथिलाक एहि इतिहास केँ कोनो जातिवादी अथवा विखंडनकारी राजनीति नहि मेटा सकैत अछि

आलेख - प्रवीण नारायण चौधरी लोकदेव, भगताइ आ लोककल्याणः सन्दर्भ लालमैन चमार   मिथिलाक लोकरीति मे प्रसिद्ध जनश्रुति अलग-अलग क्षेत्र मे अलग-अलग महापुरुषक ऐतिहासिक वीरगाथा केँ नहि मात्र...

मिथिलाक अमर प्रेमकथाः फुलबा-कटोरबाक प्रेम

फुलबा-कटोरबाः मिथिलाक लयला-मजनू - मूल लेखः डा. लक्ष्मी प्रसाद श्रीवास्तव (भावानुवादः प्रवीण नारायण चौधरी) युगल प्रेमी-प्रेमिका मे बहुत रास नाम अपन अलग विशेषताक संग लोकमानस मे...

गाम हो तँ बघवा जेहेनः समर्पित पुत्र द्वारा गामक वर्णन

बघवा हमर गाम - हम एकर संतान - भारत भूषण राय मिथिलाक एक सुन्दर गाम बघवा जेकर पावन भूमि प्राचीनकाल स निरंतर भगवानक लीला आर ॠषी...

हम्मर गाम चतरा के ब्रह्मस्थानक

मिथिलाक गाम - मिथिलाक धरोहरः चतरा, मधुबनी - जुही कर्ण हम्मर गाम भेल (मधुबनी जिला) चतरा । हम गाम पर करीब 2-3 साल पर 7 -8...

बहुचर्चित मिथिला – विद्वानक मत आ मिथिलाक पौराणिक इतिहास

आलेखः मिथिलाक पौराणिक इतिहास - संकलनः प्रवीण नारायण चौधरी मिथिलाक लेल कुल १२ नामक चर्चा अबैछ, ई श्लोक देखी: मिथिला तैरभुक्तिश्च वैदेही नैमिका नाम्। ज्ञानशीलम् कृपापीठं स्वर्णालांगल पद्धति:॥ जानकी...

श्री महागणेशपञ्चरत्नस्तोत्रम् (श्रीशङ्कराचार्यकृतम्)

मुदाकराक्त मोदकं सदा विमुक्तिसाधकम्। कलाधरावतंसकं विलासि लोकरक्षकम्॥ अनायकैक नायकं विनाशितेभदैत्यकम्। नताशुभाशुनाशकं नमामि तं विनायकम्॥१॥ नतेतरातिभीकरं नवोदितार्कभास्वरम्। नमत्सुरारि निर्जरं नताधिकापदुद्धरम्॥ सुरेश्वरं निधीश्वरं गजेश्वरं गणेश्वरम्। महेश्वरं...

मिथिलादेश आइ मिथिलांचल कोना

मिथिला देश से मिथिला राज्य आ आब मिथिला राज्य सऽ बनि गेल मिथिला अँचल!! (मिथिलाँचलपर विशेष) भारतवर्ष समस्त संसारके द्योतक थिकैक, कारण भारतवर्षमें विदेश केकरो...