माँ जगदम्ब आराधना: भक्ति साधना सर्वोपरि

स्वाध्याय आलेख शुरु करैत छी एकटा सुन्दर सनक जगदम्बाक प्रार्थना सँ: - मयंक मिश्र, पोखरौनी, मधुबनी द्वारा फेसबुक मार्फत पूर्व मे देल गेल ई सुन्दर भजन: हे...

भगवान् श्रीराम केर दैनिक चर्याक स्वरूप: मानव जीवन लेल अनमोल संदेश

अनुवादित आलेख लेखक: श्री कमल प्रसाद जी श्रीवास्तव अनुवाद: प्रवीण नारायण चौधरी चतुर्मास केर विशेष अवसरपर हमरा लोकनि केँ सौभाग्य सँ श्री राम जी केर दैनिक चर्याक स्वरूपसँ...

शिव चालीसा (मैथिली रूप)

दोहा: जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान॥ कहय अयोध्यादास प्रभु, दियौ अभय वरदान॥   जय गिरजापति दीनदयाला, सदा करी सन्तन प्रतिपाला॥१॥ भाल चंद्रमा सोहय नीके, कानन कुंडल नाग...

जानकी स्तुति

भई प्रगट किशोरी, धरनि निहोरी, जनक नृपति सुखकारी अनुपम बपुधारी, रूप सवारी, आदि शक्ति सुकुमारी मणि कनक सिंघासन, क्रिताबर आसन, शशि शत शत उजियारी शिर मुकुट बिराजे,...

शिव-प्रार्थना एवं महामृत्युञ्जय मंत्र

स्वाध्याय आलेख: - प्रवीण नारायण चौधरी जगत् केर स्वामी देवाधिदेव महादेव केर चरण मे बेर-बेर प्रणाम करैत किछु मंत्रपुष्प समर्पित करैत छी। गत्तेक हिसाबे श्रावण लागि...

श्रीमद्भागवद्गीता आ निरंतर साधना

गीता बुझौवैल - अपन विचार! (भगवानक विराटरूपक दर्शन - शोक सँ ज्ञानोपदेशक मार्ग भगवानक दर्शन पर एक समीक्षा) गीताक ११म अध्याय केर ३५म श्लोक मे संजय...

मनु-शतरूपा आ हम मानव संसार

स्वाध्याय ‍- आलेख - प्रवीण नारायण चौधरी आध्यात्मिक अध्ययन अर्थात् 'स्वयं केर सत्य पहिचान हेतु शास्त्रीय वचन सँ आत्मसंतोषक खोजी' - जेकरा एक शब्द स्वाध्याय सँ संबोधित...

हम शिव छी, हम शिव छी!! शिवोहं शिवोहं!!

निर्वाणषट्कम् मनोबुध्यहंकार चिताने नाहं । न च श्रोतजिव्हे न च घ्राणनेत्रे । न च व्योमभूमी न तेजू न वायु । चिदानंदरुप शिवोहं शिवोहं ॥ १ ॥ हम...

नचारी: रूसल भंगिया हमार

(लोकगीत संकलन सँ: साभार रामचन्द्र सिंह, महिया, दरभंगा) रूसल भंगिया हमार, मनाय दऽ गौरी शिव जोगिया के शिव जोगिया के होऽ - शिव भंगिया केऽऽऽऽ -...

चराचर जगत्पति सहस्रशीर्ष पुरुष प्रति समर्पित: स्वाध्यायांश

स्वाध्याय (आध्यात्मिक वृत्तांत) पवित्र चतुर्मास मे पुरुष सूक्तक नित्य पाठ जरुर करबाक बात कैल गेल अछि। मैथिल हिन्दू जनमानस मे समस्त कर्म करबा मे पुरुष...