“मिथिलामें बेटी-पुतौह के खोंइछ द’ विदा करबाक महत्व”

- रेखा झा।                      "खोंईछ भरब" खोंईछ शब्द के मतलब भेल साड़ी के आंचल, मिथिलांचल मे अहि...

“खोंइछ भरबाक विधि और अहि केर महत्त्व पर जानकारी दैत इ लेख”

- आभा झा।                              दुर्गा पूजाक अवसर पर दुर्गा माँ के...

प्राकृतिक सुन्दरताक संरक्षण मानवोचित कर्म – कस्मेटिक सुन्दरता सँ बचू

विचार - प्रवीण नारायण चौधरी सुन्दरता सुन्दर माने देखिते आकर्षित करयवला - कोनो वस्तु, व्यक्ति या स्थान जे आकर्षक लागय, नीक लागय, वैह भेल सुन्दर। आर ई...

मैथिल साम्प्रदायिक श्रीदुर्गासप्तशती-२ः सप्तशतीन्यास एवं नवार्ण विधि

सप्तशतीन्यास अथ सप्तशतीन्यासः श्री दुर्गायाः दुर्गासप्तशतीस्तोत्रमन्त्रात्मकानां प्रथम-मध्यमोत्तरचरित्राणां ब्रह्म-विष्णु-महेश्वरा ऋषयो, गायत्र्युष्णिगनुष्टुभश्छन्दांसि, महाकाली-महालक्ष्मी-महासरस्वत्यो देवता, नन्दा-शाकम्भरी-भीमाः शक्तयो, रक्तदन्तिका-दुर्गा-भ्रामर्यो बीजानि, ऐँ ह्रीँ क्लीमिति कीलकानि, अग्नि-वायु-सूर्यास्तत्त्वानि, ऋग्यजुःसामवेदा ध्यानानि सकलकामनासिद्धये महाकाली-महालक्ष्मी-महासरस्वतीप्रीत्यर्थे जपे...

मैथिलसाम्प्रदायिक श्री दुर्गासप्तशती-१: अर्गला, कीलक तथा कवच

मैथिलसाम्प्रदायिक श्री दुर्गासप्तशती (मैथिली भाषात्मक 'सांगदुर्गाप्रकाशिका' व्याख्या सहितं) व्याख्याकारः महाकवि लालदास (१८५६ ई. - १९२१ ई.) सम्पादकः पं. (डा.) शशिनाथ झा "विद्यावाचस्पति" प्रकाशकः उर्वशी प्रकाशन   भूमिकाः   अपार-संसार-महोग्रसागरा-दुपैतिपारं जडबुद्धयोऽप्यहो। पादारविन्दं मनसापि...

“शक्तिपूजा”

आभा झा।                          नवरात्रि या दुर्गा पूजा हिंदूक एक प्रमुख पाबैन अछि। नवरात्रि...

भदवा के पावर – पारम्परिक प्रथाक माहात्म्य

कथा - पंडित दयानन्द झा भदबा महरानिक पावर - प्रवीण जिक विमोचन रूकि गेल गौरी कतेको बेर महादेव केँ एकटा घर बन्हबाक लेल कहलखिन्ह, लेकिन महादेव एहिपर...

चीनक पारम्परिक विवाह पद्धति संग मिथिला पद्धतिक तुलना

लेख - प्रवीण नारायण चौधरी कोन नीक, हम या ओ   विवाहक तौर-तरीका सेहो विभिन्न सभ्यताक विशिष्टता होइत छैक। हम-अहाँ मिथिला सभ्यताक लोक मे विवाहक परम्परा अति-विशिष्ट अछि।...

“दहेज के विकराल रूप : सत्य घटना पर आधारित”

लवली झा।                      आई ektaa dahej पर आधारित सत्य घटना के संक्षिप्त वर्णन लिख रहल...

“दहेजक दोषी”

किरण लता झा।                      बारहवीं के परिणाम निकल गेल छल, दिव्या के साईकिल के घंटी...